1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. फेफड़ों को रखना चाहते है मजबूत, ऐसे करें हल्दी और यूकेलिप्टिस की पत्तियों का इस्तेमाल

फेफड़ों को रखना चाहते है मजबूत, ऐसे करें हल्दी और यूकेलिप्टिस की पत्तियों का इस्तेमाल

आपके लंग्स मजबूत हो और कोरोना कोसों दूर रहे। इसके लिए स्वामी रामदेव द्वारा बताए गए इस आयुर्वेदिक लेप का भी सहारा ले सकते हैं।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Published on: May 31, 2021 14:43 IST
फेफड़ों को रखना चाहते है मजबूत, ऐसे करें हल्दी और यूकेलिप्टिस की पत्तियों का इस्तेमाल- India TV Hindi
Image Source : FREEPIK/PIXABAY फेफड़ों को रखना चाहते है मजबूत, ऐसे करें हल्दी और यूकेलिप्टिस की पत्तियों का इस्तेमाल

कोरोना वायरस का प्रकोप चल रहा है। ऐसे में फेफड़ों में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। जिसके कारण  शरीर में ऑक्सीजन की कमी आती है। ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के कई उपाय किए जा रहे हैं। फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए जरूरी है कि आप अपनी डाइट का खास ख्याल रखें।

कोरोना काल में डाइट के साथ-साथ रोजाना योग करे। जिससे कि आपके लंग्स मजबूत हो और कोरोना कोसों दूर रहे। इसके अलावा स्वामी रामदेव द्वारा बताए गए इस आयुर्वेदिक लेप का भी सहारा ले सकते हैं। इससे आपके फेफड़े भी मजबूत रहेंगे। साथ ही लंग्स संबंधी अन्य बीमारियों से छुटकारा मिलेगा। 

वजन घटाने के लिए ऐसे करें हल्दी का सेवन, पेट-कमर की चर्बी भी हो जाएगी गायब

आयुर्वेदिक लेप बनाने के लिए सामग्री

  • आधा चम्मच कच्ची हल्दी या पाउडर
  • 5-6  लहसुन
  • थोड़ी सी अदरक
  • आधा प्य़ाज
  • थोड़े यूकेलिप्टिस के पत्ते

ऐसे लगाएं आयुर्वेदिक लेप

हल्दी, लहसुन, अदरक, प्याज और यूकेलिप्टिस को ग्राइंडर में डालकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। अब इसे चेस्ट पर अच्छी तरह से लगा लें। लगाने के बाद एक कॉटन कपड़े को ठीक ढंग से लपेट लें। इससे फेफड़े में जमा हुऐ कफ ढीला होगा। इसके साथ ही  फेफड़ों संबंधी बीमारियों से छुटकारा मिलेगा। 

कम उम्र में हो गए हैं बाल सफेद तो अपनाएं इन घरेलू नुस्खों को, कुछ ही दिनों में पाएं काले-घने हेयर

ये आयुर्वेदिक लेप कैसे करेगा काम

हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीबैक्टीरिया और एंटीफंगल गुणों के अलावा  प्रोटीन, फाइबर, विटामिन सी, विटामिन के, पोटैशियम, कैल्शियम, कॉपर, आयरन, मैग्नीशियम और जि़ंक जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं।  वहीं  प्याज में भी सोडियम, पोटैशियम, फोलेट्स, विटामिन ए, सी, और ई, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे पोषक तत्व अधिगक मात्रा में होते हैं। इसके अलावा प्याज में एंटी-इंफ्लेमेट्री  एंटी-एलर्जिक, एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-कार्सिनोजेनिक गुण भी होते हैं। इसके साथ ही  लहसुन की एक कली में 4 कैलोरी और 1 ग्राम से कम लहसुन में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइट्रेट और फैट पाया जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी, ए और बी, के साथ मैग्नीशियम, कैल्शियम, जिंक, सेलेनियम पाया जाता है। इसके अलावा इसमें एंटी कैंसर यौगिक, इम्यूनिटी को तेज करने की क्षमता के साथ हार्ट को मजबूत करने के एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। 

अस्थमा के अलावा इन लोगों को नहीं करना चाहिए लौकी के जूस का सेवन, बढ़ सकती है बीमारी

 

छाती पर आयुर्वेदिक लेप लगाने से मिलेंगे ये फायदे

  • फेफड़ों के पड़े बड़ी-बड़ी गांठों को कम करने में मदद करेगा
  • निमोनिया से राहत दिलाता है। 
  • लंग्स के अंदर जमे कफ को हटाता है। 
  • फेफड़ों को मजबूत बनाने में मदद करता है। 
  • फेफड़ों में जमा कफ से ढीला करने में मदद मिलेगी। 
  • फेफड़ों संबंधी किसी भी समस्या से आराम मिलेगा।
  • फेफड़े मजबूत होगे। 
India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। फेफड़ों को रखना चाहते है मजबूत, ऐसे करें हल्दी और यूकेलिप्टिस की पत्तियों का इस्तेमाल News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन
Write a comment
X