1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. जानें, कौन है पवन जल्लाद जिसने लटकाया निर्भया के दोषियों को फांसी पर

जानें, कौन है पवन जल्लाद जिसने लटकाया निर्भया के दोषियों को फांसी पर

आखिरकार सात साल तीन महीने बाद निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटका दिया गया। इन चारों को फांसी देने का काम किया पवन जल्लाद ने, जिसकी चार पीढ़ियां यही काम करती रही हैं। वो उत्तर प्रदेश सरकार की मेरठ जेल से जुड़ा अधिकृत जल्लाद है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: March 20, 2020 6:55 IST
जानें, कौन है पवन जल्लाद जिसने लटकाया निर्भया के दोषियों को फांसी पर- India TV Hindi
जानें, कौन है पवन जल्लाद जिसने लटकाया निर्भया के दोषियों को फांसी पर

नई दिल्ली: आखिरकार सात साल तीन महीने बाद निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटका दिया गया। इन चारों को फांसी देने का काम किया पवन जल्लाद ने, जिसकी चार पीढ़ियां यही काम करती रही हैं। वो उत्तर प्रदेश सरकार की मेरठ जेल से जुड़ा अधिकृत जल्लाद है। उसे हर महीने एक तय रकम वेतन के रूप में भी मिलती है। पवन जल्लाद मेरठ का रहने वाला है। हालांकि इस शहर में उसे शायद ही कोई पहचानता हो। पार्ट टाइम में वो इस शहर में साइकिल पर कपड़ा बेचने का का काम करता है।

भारत में इस समय इक्का-दुक्का अधिकृत जल्लाद ही बचे हैं, जो ये काम कर रहे हैं। पवन इस समय करीब 57 साल के हैं। फांसी देने के काम को वो महज एक पेशे के तौर पर देखते हैं। उनका कहना है कि कोई व्यक्ति न्यायपालिका से दंडित हुआ होगा और उसने वैसा काम किया होगा, तभी उसे फांसी की सजा दी जा रही होगी, लिहाजा वो केवल अपने पेशे को ईमानदारी से निभाने का काम करता है।

इस काम से जुड़े हुए उसे चार दशक से कहीं ज्यादा हो चुके हैं। किशोरवय में वह अपने दादा कालू जल्लाद के साथ फांसी के काम में उन्हें मदद करता था। कालू जल्लाद ने अपने पिता लक्ष्मण सिंह के निधन के बाद 1989 में ये काम संभाला था। कालू ने अपने करियर में 60 से ज्यादा लोगों को फांसी दी। इसमें इंदिरा गांधी के हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह को दी गई फांसी शामिल है। इससे पहले रंगा और बिल्ला को भी फांसी देने का काम उसी ने किया था।

पवन का दावा है कि उसके बाबा लक्ष्मण सिंह ने अंग्रेजों के जमाने में लाहौर जेल में जाकर भगत सिंह और उनके साथियों को फांसी दी थी। पवन के परिवार में नौ सदस्य है। बताया गया कि उनके सात बच्चे हैं। जिनमें पांच बेटी और दो बेटे हैं। वह चार बेटियों की शादी कर चुके हैं। अभी एक बेटी और दो बेटों की शादी होनी है। हालांकि ये तय है कि उनका बेटा जल्लाद नहीं बनने वाला, क्योंकि वो ये काम नहीं करना चाहता।

गौरतलब है कि इन दरिंदों ने 16-17 दिसंबर 2012 की रात पैरामेडिकल छात्रा निर्भया से दुष्कर्म कर उसकी नृशंस हत्या कर दी थी। इसके अलावा पीड़िता को चलती बस से फेंक दिया था। इस दौरान पीड़िता को गंभीर चोटें आईं थी। सिंगापुर में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
X