ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. अगर आपका बच्चा पांच साल से छोटा है तो रहें सावधान! विशेषज्ञों ने इस बात पर जताई चिंता

अगर आपका बच्चा पांच साल से छोटा है तो रहें सावधान! विशेषज्ञों ने इस बात पर जताई चिंता

एनएफएचएस-4 में 2.1 प्रतिशत के मुकाबले मोटापे से ग्रसित बच्चों की संख्या बढ़कर एनएफएचएस-पांच में 3.4 प्रतिशत हो गयी है।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: November 28, 2021 17:02 IST
अगर आपका बच्चा पांच साल से छोटा है तो रहें सावधान! विशेषज्ञों ने इस बात पर जताई चिंता- India TV Hindi
Image Source : PTI/FILE अगर आपका बच्चा पांच साल से छोटा है तो रहें सावधान! विशेषज्ञों ने इस बात पर जताई चिंता

Highlights

  • पुरुषों और महिलाओं में भी बढ़ा मोटापा
  • 30 राज्यों में महिलाएं और 33 में पुरुष मोटे हुए
  • विशेषज्ञों ने जताई चिंता

नई दिल्ली: राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, पांच साल की उम्र तक के बच्चों में मोटापा बढ़ा है और 33 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों में मोटे बच्चों की संख्या में वृद्धि हुई है। विशेषज्ञों ने मोटापा बढ़ने के लिए शारीरिक गतिविधियां कम होना और अस्वास्थ्यकर भोजन को जिम्मेदार बताया है। ऐसे में अगर आपके बच्चे की उम्र भी पांच साल से कम है तो आपको सावधान रहने की जरूरत है। बच्चे को मोटापे से बचाने के लिए आपको ख्याल रखना होगा कि वह शारीरिक गतिविधियों में हिस्सा लेता रहे और अच्छा भोजन करे।

पुरुषों और महिलाओं में भी बढ़ा मोटापा

एनएफएचएस-4 में 2.1 प्रतिशत के मुकाबले मोटापे से ग्रसित बच्चों की संख्या बढ़कर एनएफएचएस-पांच में 3.4 प्रतिशत हो गयी है। एनएफएचएस के ताजा सर्वेक्षण के अनुसार, न केवल बच्चों बल्कि महिलाओं और पुरुषों में भी मोटापा बढ़ा है। मोटापे की शिकार महिलाओं की संख्या 20.6 प्रतिशत से बढ़कर 24 प्रतिशत हो गयी है जबकि पुरुषों में यह संख्या 18.9 प्रतिशत से बढ़कर 22.9 प्रतिशत हो गयी है। 

बच्चों में कहां मोटापा बढ़ा और कहां घटा?

सर्वेक्षण के अनुसार, महाराष्ट्र, गुजरात, मिजोरम, त्रिपुरा, लक्षद्वीप, जम्मू-कश्मीर, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और लद्दाख समेत कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पांच साल तक की उम्र के बच्चों में मोटापे में वृद्धि दर्ज की गयी है जबकि 2015 और 2016 के बीच किए गए एनएफएचएस-4 में यह संख्या कम थी। केवल गोवा, तमिलनाडु, दादरा और नगर हवेली तथा दमन और दीव में पांच साल तक के बच्चों में मोटापे में कमी दर्ज की गयी है। 

30 राज्यों में महिलाएं और 33 में पुरुष मोटे हुए

सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, 30 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों में महिलाओं में मोटापा बढ़ा है जबकि 33 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों में पुरुषों में मोटापा बढ़ा है। उल्लेखनीय है कि उन पुरुषों और महिलाओं को मोटा माना जाता है जिनका ‘‘बॉडी मास इंडेक्स’’ 25.0 किलोग्राम/एम2 से अधिक या उसके समान पाया जाता है जबकि बच्चों में मोटापा लंबाई के अनुपात में वजन के आधार पर मापा जाता है। 

विशेषज्ञों की चिंता

स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञों ने मोटापा बढ़ने के लिए अस्वास्थ्यकर भोजन और कम शारीरिक गतिविधियों को जिम्मेदार ठहराया है। पोपुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया की कार्यकारी निदेशक पूनम मुतरेजा ने बताया कि भारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों में पिछले 15 वर्षों में मोटापा बढ़ने की प्रवत्ति के पीछे की वजह बढ़ती आय, खान-पान की खराब आदतें और अस्वास्थ्य जीवन शैली है। 

'दुनिया में कुपोषित और अत्यधिक पोषित लोग एक साथ मौजूद'

सेव द चिल्ड्रन, इंडिया की पोषण प्रमुख डॉ अंतर्यामी दास ने कहा कि हर देश कुपोषण के दोहरे बोझ की ऐसी स्थिति में जा रहा है जहां कुपोषित और अत्यधिक पोषित लोग एक साथ मौजूद हैं। पश्चिम देशों ओर औद्योगिकृत देशों में यह सबसे अधिक है लेकिन धीरे-धीरे विकासशील देशों में भी आ रहा है।

uttar-pradesh-elections-2022
elections-2022