1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. फायदे की खबर
  5. Covid-19 संकट मेें RBI ने PMC बैंक ग्राहकों को दी बड़ी राहत, खाते से धन निकासी सीमा बढ़ाकर की इतनी

Covid-19 संकट मेें RBI ने PMC बैंक ग्राहकों को दी बड़ी राहत, खाते से धन निकासी सीमा बढ़ाकर की इतनी

रिजर्व बैंक ने 23 सितंबर, 2019 को पीएमसी बैंक, मुंबई पर कई नियामकीय अंकुश लगाए थे। उस समय बैंक में कई वित्तीय अनियमितताएं सामने आई थीं।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: June 20, 2020 11:06 IST
RBI extends restrictions on PMC Bank for 6 months, withdrawal limit now Rs 1 lakh- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

RBI extends restrictions on PMC Bank for 6 months, withdrawal limit now Rs 1 lakh

मुंबई। पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक (पीएमसी बैंक) के खाताधारकों को बड़ी राहत देते हुए रिजर्व बैंक ने उनके खातों से निकासी की सीमा को 50,000 रुपए से बढ़ाकर एक लाख रुपए कर दिया है। हालांकि, इसके साथ ही केंद्रीय बैंक ने घोटाले का शिकार बने इस सहकारी बैंक पर नियामकीय अंकुश छह महीने के लिए और बढ़ाकर 22 दिसंबर तक कर दिया है। रिजर्व बैंक ने इसके साथ ही चार और सहकारी बैंकों के खाताधारकों के लिए निकासी की सीमा बढ़ाई है। ये बैंक भी नियामकीय अंकुश के तहत हैं। इन बैंकों में बेंगलुरु स्थित श्री गुरु राघवेंद्र सहकार बैंक नियामिता और कोल्हापुर का यूथ डेवलपमेंट कोऑपरेटिव बैंक लि. शामिल हैं।

रिजर्व बैंक ने 23 सितंबर, 2019 को पीएमसी बैंक, मुंबई पर कई नियामकीय अंकुश लगाए थे। उस समय बैंक में कई वित्तीय अनियमितताएं सामने आई थीं। साथ ही बैंक द्वारा रीयल एस्टेट कंपनी एचडीआईएल को दिए गए ऋण की सही जानकारी नहीं दी गई थी। रिजर्व बैंक ने कहा कि निकासी की सीमा बढ़ने से बैंक के 84 प्रतिशत ग्राहक खातों से अपना पूरा पैसा निकाल सकेंगे। इससे पहले रिजर्व बैंक ने पांच जून, 2019 को निकासी की सीमा प्रति जमाकर्ता बढ़ाकर 50,000 रुपए की थी। साथ ही बैंक पर अंकुश बढ़ाकर 22 जून, 2020 तक कर दिए थे।

केंद्रीय बैंक ने बयान में कहा कि बैंक की तरलता की स्थिति, उसकी जमाकर्ताओं को भुगतान की क्षमता के अलावा कोविड-19 संकट के बीच जमाकर्ताओं को राहत देने के लिए प्रति जमाकर्ता निकासी की सीमा को 50,000 रुपए से बढ़ाकर एक लाख रुपए किया जा रहा है। रिजर्व बैंक ने कहा कि वह अंशधारकों से बातचीत कर रहा है ताकि बैंक के लिए समाधान की संभावाना तलाशी जा सके। हालांकि, कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते यह प्रक्रिया प्रभावित हुई है। रिजर्व बैंक ने कहा कि पीएमसी बैंक की नकारात्मक नेटवर्थ और डूबे कर्ज की वसूली की कानूनी प्रक्रियाओं की वजह से भी बैंक से जुड़े में समाधान इमें चुनौतियां आ रही हैं।

इससे पहले रिजर्व बैंक ने पीएमसी बैंक के निदेशक मंडल को भंग कर दिया था और केंद्रीय बैंक के पूर्व अधिकारी जे बी भोरिया को बैंक का प्रशासक नियुक्त किया था। श्री गुरु राघवेंद्र सहकार बैंक के बारे में रिजर्व बैंक ने कहा कि इस बैंक के खाताधारकों के निकासी की सीमा बढ़ाकर एक लाख रुपए  की गई है। इसमें पहले की 35,000 रुपए की निकासी सीमा भी शामिल है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि अब बैंक के 54 प्रतिशत खाताधारक अपना पूरा पैसा निकाल सकेंगे। कोझिकोड़ के केरल मर्केंटाइल कोऑपरेटिव बैंक के मामले में निकासी की बढ़ाकर 50,000 रुपए की गई है। इसमें पहले की 2,000 रुपए की निकासी सीमा शामिल है। रिजर्व बैंक ने कहा कि इस बैंक के 89 प्रतिशत खाताधारक खातों से अपना पूरा पैसा निकाल सकेंगे।

हिंदू कोऑपरेटिव बैंक लि. पठानकोट के मामले में निकासी की सीमा 25,000 रुपए से बढ़ाकर 50,000 रुपए की गई है। बैंक के 79 प्रतिशत ग्राहक खातों से अपना पूरा पैसा निकाल सकेंगे। कोल्हापुर के यूथ डेवलपमेंट कोऑपरेटिव बैंक के खातधारकों के लिए निकासी सीमा बढ़ाकर 20,000 रुपए की गई है। पहले यह सीमा 5,000 रुपए थी।

Write a comment
X