1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विषय

debt burden न्यूज़

Debt burden: सरकार की कुल देनदारियां बढ़कर 133 लाख करोड़ के पार, कच्चे तेल ने बढ़ाया बोझ

बिज़नेस | Jun 30, 2022, 09:16 PM IST

रिपोर्ट में कहा गया है कि चौथी तिमाही में कच्चे तेल की कीमतें भी ऊंचे स्तर पर रहीं। कच्चे तेल की कीमतों के उच्चस्तर ने घरेलू बाजार में 10-साल के सरकारी प्रतिभूति प्रतिफल को प्रभावित किया।

इस साल राज्यों का कर्ज बढ़कर 68 लाख करोड़ रुपये हो जाने का अनुमान: रिपोर्ट

बिज़नेस | Dec 01, 2020, 07:58 PM IST

चालू वित्त वर्ष में राज्यों की आय में 15 प्रतिशत की गिरावट आयी है। जबकि उनकी उधारी 36 प्रतिशत बढ़कर 68 लाख करोड़ रुपये होने का अनुमान है जो दशक का उच्च स्तर है। राज्यों का राजस्व घाटा चालू वित्त वर्ष में छह प्रतिशत रहने का अनुमान है।

भारत 2021 तक सबसे ज्यादा कर्ज बोझ वाली उभरती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होगा: मूडीज

बिज़नेस | Sep 01, 2020, 09:19 PM IST

केन्द्र सरकार का राजकोषीय घाटा लॉकडाउन के कारण कमजोर राजस्व संग्रह के चलते वित्त वर्ष के शुरुआती चार महीनों (अप्रैल- जुलाई) में ही पूरे साल के बजट अनुमान को पार कर गया है। वित्त वर्ष 2020- 21 के बजट में राजकोषीय घाटे के 7.96 लाख करोड़ रुपये यानी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था।

Fitch Ratings : सरकार पर कर्ज के भारी दबाव से रुका भारत की सॉवरेन रेटिंग में सुधार, राजकोषीय घाटा बनी बड़ी वजह

बिज़नेस | Feb 02, 2018, 12:46 PM IST

Fitch Ratings ने कहा है कि सरकार की कमजोर वित्तीय स्थिति ने भारत की सॉवरेन रेटिंग में सुधार में रुकावट डाला है। सरकार के ऊपर जीडीपी के करीब 68 प्रतिशत के बराबर ऋण का बोझ है और यदि राज्यों को शामिल किया जाए तो राजकोषीय घाटा जीडीपी का 6.5 प्रतिशत है।

जुलाई-सितंबर में सरकार का सार्वजनिक ऋण 2.53 प्रतिशत बढ़ा, हुआ 65.65 लाख करोड़ रुपए

बिज़नेस | Dec 05, 2017, 07:26 PM IST

केंद्र सरकार का सार्वजनिक ऋण जुलाई-सितंबर तिमाही में इससे पिछली तिमाही के मुकाबले 2.53 प्रतिशत बढ़कर 65.65 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया।

RCOM ने दूरसंचार कंपनियों के वित्‍तीय संकट के लिए रिलायंस जियो के फ्री ऑफर को ठहराया जिम्‍मेदार

बिज़नेस | Jul 12, 2017, 01:08 PM IST

अनिल अंबानी की अगुवाई वाली RCOM ने दूरसंचार क्षेत्र के वित्‍तीय संकट के लिए मुकेश अंबानी द्वारा संचालित रिलायंस जियो के फ्री ऑफर को जिम्मेदार ठहराया है।

52 हजार करोड़ का कर्ज चुकाने के लिए एयर इंडिया के पास है पर्याप्त प्रॉपर्टी, जल्‍दबाजी में सस्‍ती बिक्री से बचे सरकार

बिज़नेस | Jun 08, 2017, 05:55 PM IST

एयर इंडिया के सूत्रों का कहना है कि कंपनी की मूर्त व अमूर्त आस्तियां कंपनी के ऊपर 52,000 करोड़ रुपए से अधिक कर्ज को चुकाने के लिए पर्याप्‍त हैं।