Shanivar Ke Upay: शनिवार के दिन करें ये अचूक उपाय, दुर्भाग्य होगा दूर और चमक जाएगी किस्मत

Shanivar Ke Upay: जानिए मनोवांछित फल पाने के लिए शनिवार के दिन आपको कौन से विशेष उपाय करने चाहिए?

Poonam Shukla Written By: Poonam Shukla
Published on: August 12, 2022 18:00 IST
indiatv- India TV Hindi News
Shanivar Ke Upay

Highlights

  • गाय माता को रोली का तिलक लगाएं और रोटी पर थोड़ी-सी खीर रखकर खिलाएं।
  • आज के दिन आपको गाय को हरा चारा खिलाना चाहिए।

Shanivar Ke Upay: आज भाद्रपद कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि और शनिवार का दिन है। द्वितीया तिथि आज रात 12 बजकर 53 मिनट तक रहेगी। आज सुबह 7 बजकर 50 मिनट तक शोभन योग रहेगा। इस योग को बड़ा ही अच्छा माना जाता है। इस योग के दौरान शुरू की गई यात्रा मंगलमय और सुखद रहती है और मार्ग में किसी प्रकार की असुविधा नहीं होती है। साथ ही जिस उद्देश्य से यात्रा की जाती है, वह भी पूरा हो जाता है और व्यक्ति को आनंद की अनुभूति होती है|

साथ ही आज रात 11 बजकर 28 मिनट तक शतभिषा नक्षत्र रहेगा। आकाशमंडल में स्थित 27 नक्षत्रों में से शतभिषा 24वां नक्षत्र है। इसका अर्थ होता है - सौ चिकित्सक। ये नक्षत्र अपने आप में बहुत-सी वस्तुओं को समा लेने की क्षमता रखता हैं। इस नक्षत्र में नामकरण, मुण्डन, कोई नया सामान खरीदना और विद्या आरंभ करना बेहद ही शुभ माना जाता है। आपको बता दूं कि शतभिषा नक्षत्र के स्वामी राहु है, जो कि एक छाया ग्रह है और इसकी राशि कुंभ है, यानी इसके चारों चरण कुंभ राशि में ही आते हैं। शतभिषा नक्षत्र के प्रबल प्रभाव में आने वाले जातक साहसी, सात्विक जीवन जीने वाले, सदाचारी, धार्मिक, चतुर, रहस्यमयी और आत्मविश्वास से भरपूर होते हैं। 

इसके अलावा शतभिषा नक्षत्र का प्रतीक चिन्ह खाली वृत्त या गोलाकार आकृति को माना जाता है, जबकि पेड़-पौधों में इसका संबंध कदंब के पेड़ से बताया गया है। जिन लोगों का जन्म शतभिषा नक्षत्र में हुआ है उन लोगों को आज के दिन शतभिषा नक्षत्र के दौरान कदंब के पेड़ की उपासना करनी चाहिए। अगर आपको कदंब का पेड़ न मिले तो अपने मन में ही हरे भरे कदंब की आकृति का ध्यान करें। साथ ही कदंब के पेड़, उसकी लकड़ी या उससे जुड़ी किसी भी अन्य चीज़ को आज के दिन नुकसान नहीं पहुँचाना चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से जीवन में आपकी तरक्की सुनिश्चित  होगी।

शतभिषा एक पंचक नक्षत्र है। धनिष्ठा से लेकर रेवती तक के पांच नक्षत्रों को पंचक नक्षत्र कहा जाता है। पंचक की क्षेणी में शतभिषा दूसरा पंचक है। इस दौरान लेन-देन ,व्यापारिक सौदे, घर में लकड़ी आदि का कार्य या घर बनाने के लिये लकड़ी इकट्ठी करना जैसे कामों से बचना चाहिए। यदी आप यह कार्य इस दौरान करेंगे तो आपको धन की हानि हो सकती है। अतः 16 अगस्त  रात 9 बजकर 7 मिनट तक आपको इन सब बातों का ध्यान रखना चाहिए।

इन उपायों को करने से मिल सकता है मनोवांछित फल

  1. अगर आप अपने धन में बढ़ोतरी करना चाहते हैं, तो आज के दिन 1 साबुत हल्दी और 5 सफेद कौड़ियां लेकर गाय के माथे से छुआकर अपने घर में रख लें।
  2. अगर आप अपने परिवार से जुड़ी किसी समस्या का हल जल्द से जल्द निकालना चाहते हैं, तो आज के दिन गाय माता को रोली का तिलक लगाएं और रोटी पर थोड़ी-सी खीर रखकर खिलाएं। फिर घर आकर दुर्गा जी के इस मंत्र का 11 बार जप करें। मंत्र है –सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते ।। 
  3. अगर आप अपने जीवन स्तर को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो आज के दिन आप सुबह स्नान आदि के बाद साफ-सुथरे कपड़े पहनकर गाय माता की पूजा करें। सबसे पहले उन्हें हल्दी का तिलक लगाएं और धूप-दीप से गऊ माता की आरती करें। इसके बाद हाथ जोड़कर गऊ माता को प्रणाम करें। 
  4. अगर आप अपना स्वास्थ्य बेहतर बनाये रखना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको सुबह स्नान आदि के बाद गौ माता को पुष्पों की माला अर्पित करनी चाहिए और उन्हें उबले हुए चावल में थोड़ा-सा मीठा मिलाकर खिलाना चाहिए। साथ ही गऊ माता के सींगों को छूकर आशीर्वाद लेना चाहिए।
  5. अगर आप अपने घर-परिवार में सुख-समृद्धि बढ़ाना चाहते हैं, तो आज के दिन सुबह स्नान आदि के बाद गाय माता का श्रृंगार करें, उन्हें रोली का तिलक लगाएं, चुनरी चढ़ाएं, उनके चरणों में फूल चढ़ाएं और उबले हुए चने का प्रसाद खिलाएं। साथ ही कपूर से गऊ माता की आरती करें। इसके बाद दुर्गा मां के इस मंत्र का 5 बार जप करें। मंत्र है - सर्वबाधाविनिर्मुक्तो धनधान्यसुतान्वितः।मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशयः॥
  6. अगर आप अपने बच्चों के जीवन में खुशहाली सुनिश्चित करना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको गाय को हरा चारा खिलाना चाहिए। साथ ही गाय के पैरों के नीचे की मिट्टी को अपने बच्चों के माथे पर लगाना चाहिए।
  7. अगर आप अपने व्यापार में खूब तरक्की के साथ ही अच्छा स्वास्थ्य भी पाना चाहते हैं, तो आज के दिन गौ माता का विधिवत पूजन करें। साथ ही गऊशाला में गायों के निमित्त कुछ दान-पुण्य करें और मां दुर्गा के इस मंत्र का 11 बार जप करें। मंत्र है - देहि सौभाग्यम अरोग्यं देहि मे परमं सुखम् रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषों जहि ||  
  8. अगर आप अपने सौभाग्य में वृद्धि करना चाहते हैं, तो आज के दिन गाय माता को नहला धुलाकर उनकी सेवा करें, लेकिन अगर आप ये सब न कर सकें, तो गऊ माता को पानी पिलाएं और उनका आशीर्वाद लें।
  9. अगर आप अपने परिवार के सदस्यों के सभी कार्यों को बिना किसी बाधा के सफल बनाना चाहते हैं, तो आज के दिन गाय के उपले पर कपूर का टुकड़ा रखकर पूरे घर में धूप दिखाएं और धूप दिखाने के बाद उपले को घर की दक्षिण दिशा में रख दें।
  10. अगर आप सबके साथ प्रेम भाव कायम करना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको ग्वाले को, जो गाय चराते हैं या जिन्होंने अपने घर में गाय पाल रखी हो, उन्हें बड़े ही आदर के साथ कपड़े भेंट करने चाहिए।
  11. अगर आप हर तरह की निगेटिव एनर्जी से अपने घर को बचाये रखना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको अपने घर के मुख्य द्वार पर गाय के गोबर से स्वस्तिक का चिन्ह बनाना चाहिए।
  12. dअगर आप अपने बिजनेस संबंधी यात्राओं की सफलता सुनिश्चित करना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको गऊ माता के चारों ओर सात बार परिक्रमा लगानी चाहिए और उन्हें गेहूं का दलिया खिलाना चाहिए।

Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। । इंडिया टीवी एक भी बात की सत्यता का प्रमाण नहीं देता है। 

navratri-2022