ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. मारुति सुजुकी की यह कार हुई महंगी, एयरबैग लगाने के चलते करनी पड़ी कीमतों में वृद्धि

मारुति सुजुकी की यह कार हुई महंगी, एयरबैग लगाने के चलते करनी पड़ी कीमतों में वृद्धि

ईको के यात्री संस्करण की कीमत 4.30 लाख रुपये से शुरू होती है और 5.6 लाख रुपये तक जाती है

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: November 30, 2021 19:13 IST
मारुति सुजुकी की यह...- India TV Paisa

मारुति सुजुकी की यह कार हुई महंगी, एयरबैग लगाने के चलते करनी पड़ी कीमतों में वृद्धि

Highlights

  • एयरबैग लगाने के साथ लागत बढ़ने की वजह 8,000 रुपये की वृद्धि
  • ईको के यात्री संस्करण की कीमत 4.30 लाख रुपये से शुरू होती है
  • इस साल सितंबर में सेलेरियो को छोड़कर सभी कारों की कीमतों में बढ़ोतरी

मारुति सुजुकी इंडिया ने मंगलवार को कहा कि उसने यात्री एयरबैग लगाने के साथ लागत बढ़ने की वजह से अपनी ईको वैन के सभी नॉन-कार्गो संस्करणों की कीमतों में 8,000 रुपये की वृद्धि की है। कंपनी ने एक नियामकीय सूचना में कहा कि कीमत में वृद्धि 30 नवंबर, 2021 से प्रभावी है। 

ईको के यात्री संस्करण की कीमत 4.30 लाख रुपये से शुरू होती है और 5.6 लाख रुपये तक जाती है, जबकि एम्बुलेंस संस्करण की कीमत 7.29 लाख रुपये (दिल्ली शोरूम) है। इससे पहले इस साल सितंबर में कंपनी ने सेलेरियो को छोड़कर अपनी सभी कारों की कीमतों में 1.9 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी की थी। यह इस साल उसके यात्री वाहनों की कीमतों में तीसरी वृद्धि थी।

डीजल वाहनों को लेकर मारुति ने किया बड़ा ऐलान

मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने डीजल खंड में वापसी की संभावना से इनकार किया है। कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि 2023 में उत्सर्जन मानकों के अगले चरण की शुरुआत के साथ ऐसे वाहनों की बिक्री में और कमी आएगी। देश की सबसे बड़ी कार कंपनी का मानना ​​है कि उत्सर्जन मानकों के अगले चरण से डीजल वाहनों की लागत बढ़ जाएगी, जिससे बाजार में उनकी बिक्री और घटेगी। इसी कारण से पिछले कुछ साल के दौरान पेट्रोल कारों की ओर स्थानांतरण देखा जा रहा है। मारुति सुजुकी इंडिया के मुख्य तकनीकी अधिकारी सी वी रमन ने कहा, ‘‘हम डीजल क्षेत्र में नहीं जा रहे हैं। हमने पहले संकेत दिया था कि हम इसका अध्ययन करेंगे और ग्राहकों की मांग होगी तो हम वापसी कर सकते हैं। लेकिन हम इसमें लौटने नहीं जा रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि आगे सख्त उत्सर्जन नियम लागू होने जा रहे हैं। यह एक प्रमुख वजह है कि कंपनी डीजल कारों से ‘बचना’ चाह रही है। 

Write a comment
elections-2022