Chanakya Niti: आपका कोई करे अपमान तो इन तरीकों से दें मुँहतोड़ जवाब, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति

Chanakya Niti: खुशहाल जिंदगी के लिए आचार्य चाणक्य ने कई नीतियां बताई हैं। अगर आप भी अपनी जिंदगी में सुख और शांति चाहते हैं तो चाणक्य के इन सुविचारों को अपने जीवन में जरूर उतारिए।

Poonam Shukla Written By: Poonam Shukla
Published on: August 15, 2022 7:00 IST
Chanakya Niti- India TV Hindi News
Image Source : CHANAKYA NITI Chanakya Niti

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य को श्रेष्ठ विद्वानों में से एक माना जाता है। आचार्य चाणक्य को धर्म, राजनीति, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, राजनीतिशास्त्र आदि तमाम विषयों की गहन जानकारी थी। चाणक्य द्वारा कई शास्त्रों की रचना भी की गई जो आज भी मानव के लिए उपयोगी हैं। उन्होंने अपनी नीतियों में काफी कुछ लिखा है। उनके द्वारा बताई गई हर एक नीति मनुष्य को जीवन में लक्ष्य पाने के लिए प्रेरित करती हैं। यदि  इन बातों पर गौर किया जाए, तो व्यक्ति कई तरह की परेशानियों से बचा रह सकता है। आचार्य चाणक्य ने अपनी एक नीति में बताया है कि अगर आपका कोई अपमान करे तो किन तरीकों से उसे मुँहतोड़ जवाब दें।

आचार्य चाणक्य का कहना है कि मनुष्य के जीवन में अपमान मौत से कम नहीं होती है। कई बार आपके जीवन में ऐसे लोग आते हैं जो बार-बार हर बात में आपकी बेइज्जती करने की कोशिश करते हैं। अगर आपकी किसी ने सरे आम बेइज्जती कर दी तो जीवन में उससे बड़ा कोई दुख नहीं होता। ऐसा इसलिए क्योंकि आमतौर पर मनुष्य जिस चीज के लिए सबसे ज्यादा घबराता है वो है अपनी इज्जत। मनुष्य हमेशा सोचता है उसकी बेइज्जती ना हो जाए। हालांकि कई लोग ऐसे होते हैं जो अपमानित होने पर उसका मुंह तोड़ जवाब नहीं देते। ऐसा करने वाले इंसान को जिंदगी में कदम-कदम पर अपमान का घूंट पीना पड़ता है।

अपमान का घूंट जहर से भी ज्यादा कड़वा ​

अगर आपका कोई बार-बार अपमान कर रहा है तो उसे वहीं रोकिए। जिस तरह से बीता हुआ वक्त वापस नहीं आता है, ठीक उसी तरह से अगर किसी ने आपका अपमान सबके सामने कर दिया है तो आपको लोगों की नजरों में वो जगह नहीं मिलेगी। इसलिए अगर कोई आपका अपमान करें तो उसे उसी समय मुंहतोड़ जवाब दें।आचार्य चाणक्य का कहना हैं कि अपमान का घूंट जहर से भी ज्यादा कड़वा होता है। इसी वजह से इंसान का जीना मुश्किल हो जाता है। 

जख्मों को फिर से याद दिलाने की कोशिश

कई बार होता है अगर आप उस अपमान को भूल जाएं। लेकिन आपके आसपास के लोग ऐसा नहीं होने देंगे। जब भी उनको मौका मिलेगा तो वो आपके उन जख्मों को फिर से याद दिलाने की कोशिश करेंगे ताकि आप खुद में बुरा महसूस करें।

Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। । इंडिया टीवी एक भी बात की सत्यता का प्रमाण नहीं देता है। 

navratri-2022