1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. खेल
  4. क्रिकेट
  5. क्या मजहब के आधार पर वसीम जाफर ने किया उत्तराखंड टीम में खिलाड़ियों का चयन? खुद दिया ये जवाब

क्या मजहब के आधार पर वसीम जाफर ने किया उत्तराखंड टीम में खिलाड़ियों का चयन? खुद दिया ये जवाब

जाफर ने मंगलवार को चयन में दखल और चयनकर्ताओं तथा संघ के सचिव के पक्षपातपूर्ण रवैये को लेकर इस्तीफा दे दिया था। 

Bhasha Bhasha
Published on: February 10, 2021 20:56 IST
Wasim Jaffer selected players in Uttarakhand team on the basis of religion? Gave this answer himself- India TV Hindi
Image Source : TWITTER/KXIP Wasim Jaffer selected players in Uttarakhand team on the basis of religion? Gave this answer himself

उत्तराखंड क्रिकेट संघ से मतभेदों के कारण कोच के पद से इस्तीफा देने वाले भारत के पूर्व क्रिकेटर वसीम जाफर ने बुधवार को प्रदेश संघ के इन आरोपों को खारिज किया कि उन्होंने टीम में मजहब के आधार पर चयन की कोशिश की। भारत के लिये 31 टेस्ट खेल चुके जाफर ने कहा कि टीम में मुस्लिम खिलाड़ियों को तरजीह देने के उत्तराखंड क्रिकेट संघ के सचिव माहिम वर्मा के आरोपों से उन्हें काफी तकलीफ पहुंची है। 

ये भी पढ़ें - BAN vs WI : दूसरे टेस्ट से पहले बोले मोमिनुल हक, टीम में सभी का मनोबल ऊंचा है

जाफर ने मंगलवार को चयन में दखल और चयनकर्ताओं तथा संघ के सचिव के पक्षपातपूर्ण रवैये को लेकर इस्तीफा दे दिया था। 

जाफर ने वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा,‘‘जो कम्युनल एंगल लगाया, वह बहुत दुखद है। उन्होंने आरोप लगाया कि मैं इकबाल अब्दुल्ला का समर्थन करता हूं और उसे कप्तान बनाना चाहता हूं जो सरासर गलत है।’’ 

ये भी पढ़ें - IND vs ENG : दूसरा टेस्ट हारते ही विराट कोहली को कप्तानी से इस्तीफा दे देना चाहिए - मोंटी पनेसर

रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक रन बना चुके जाफर ने इन आरोपों को भी खारिज किया कि टीम के अभ्यास सत्र में वह मौलवियों को लेकर आये थे। 

उन्होंने कहा ,‘‘उन्होंने कहा कि बायो बबल में मौलवी आये और हमने नमाज पढ़ी। मैं आपको बताना चाहता हूं कि मौलवी, मौलाना जो भी देहरादून में शिविर के दौरान दो या तीन जुमे को आये, उन्हें मैने नहीं बुलाया था।’’ 

ये भी पढ़ें - भारत इंग्लैंड टेस्ट सीरीज का नाम होना चाहिए 'तेंदुलकर-कुक ट्रॉफी', इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर ने दिया सुझाव

जाफर ने कहा,‘‘इकबाल अब्दुल्ला ने मेरी और मैनेजर की अनुमति जुमे की नमाज के लिये मांगी थी।’’ 

उन्होंने कहा,‘‘हम रोज कमरे में ही नमाज पढ़ते थे लेकिन जुमे की नमाज मिलकर पढ़ते थे तो लगा कि कोई इसके लिये आयेगा तो अच्छा रहेगा। हमने नेट अभ्यास के बाद पांच मिनट ड्रेसिंग रूम में नमाज पढ़ी। यदि यह सांप्रदायिक है तो मैं नमाज के वक्त के हिसाब से अभ्यास का समय बदल सकता था लेकिन मैं ऐसा नहीं हूं।’’ 

उन्होंने कहा ,‘‘इसमें क्या बड़ी बात है। मेरी समझ में नहीं आया।’’ 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Cricket News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन
Write a comment

लाइव स्कोरकार्ड

X