ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. अनंतनाग मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर, जैश का नेतृत्व संभालने के लिए कोई तैयार नहीं

अनंतनाग मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर, जैश का नेतृत्व संभालने के लिए कोई तैयार नहीं

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़ चल रही है। मुठभेड़ दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग के बिजबेहरा के बागेंदर मोहल्ला में हो रही है।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Updated on: April 25, 2019 7:24 IST
अनंतनाग में आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़, जैश का नेतृत्व संभालने से कतरा रहे आतंकी- India TV Hindi
अनंतनाग में आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़, जैश का नेतृत्व संभालने से कतरा रहे आतंकी

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़ चल रही है। मुठभेड़ दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग के बिजबेहरा के बागेंदर मोहल्ला में हो रही है। दोनों तरफ से जमकर फायरिंग की खबर हैं। सुरक्षाबलों को बागेंदर मोहल्ले में कुछ आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली थी जिसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ सेना के जवानों ने इलाके को घेर लिया और दोनों तरफ से फायरिंग होने लगी। इस मुठभेड़ में दो आतंकियों के मारे जाने की खबर है।

वहीं लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने बताया कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद सुरक्षा बलों ने घाटी में जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की जिससे ऐसी स्थिति बन गई है कि कोई भी इस संगठन का नेतृत्व लेने के लिए इच्छुक नहीं है।

लेफ्टिनेंट जनरल ढिल्लों ने जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह एवं सीआरपीएफ महानिरीक्षक जुल्फिकार हसन ने यहां पुलिस नियंत्रण कक्ष में संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, “41 आतंकवादी मारे गए। इनमें से 25 जैश-ए-मोहम्मद के थे। 13 विदेशी आतंकवादी थे - पाकिस्तानी एवं श्रेणी ए और उससे ऊपर के।’’

श्रीनगर की चिनार कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल ढिल्लन ने कहा, “हमने जैश-ए-मोहम्मद के नेतृत्व को निशाना बनाया और अब स्थिति ऐसी है कि कोई भी घाटी में जैश की कमान नहीं संभालना चाहता। पाकिस्तान के सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के हम जैश का शमन जारी रखेंगे।” डीजीपी सिंह ने कहा कि घाटी में 14 फरवरी को हुए पुलवामा आतंकवादी हमले जैसे कुछेक मामलों को छोड़ 2018 में और उसके बाद से अब तक आतंकवाद को रोकने में कामयाबी मिली है।

elections-2022