1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. उत्तर प्रदेश
  5. Vikas Dubey के गांव बिकरू में एनकाउंटर के एक साल बाद कैसे हैं हालात?

Vikas Dubey के गांव बिकरू में एनकाउंटर के एक साल बाद कैसे हैं हालात?

Vikas Dubey Village Bikru Ground Report: ठीक एक साल पहले कानपुर के पास बिकरू गांव गोलियों की आवाज से गूंज उठा था, जिसमें तीन जुलाई की तड़के आठ पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी।

IANS IANS
Updated on: July 04, 2021 12:32 IST
Vikas Dubey Village Bikru after one year of encounter ground realities Vikas Dubey के गांव बिकरू में- India TV Hindi
Image Source : PTI (FILE) Vikas Dubey के गांव बिकरू में एनकाउंटर के एक साल बाद कैसे हैं हालात?

बिकरू. कानपुर का बिकरू गांव अब शायद ही किसी पहचान का मोहताज हो। हिंदी पट्टी के इस गांव में भीषण गर्मी के बीच हवा में भी बेचैनी का माहौल है। आमतौर पर ऐसे गांवों में कोई खास बात नहीं होती, लेकिन बिकरू पिछले साल कुछ अलग वजहों से चर्चा में आया था। इस गांव में लोग अब भी सावधानी से चलते हैं, महिलाएं आधे खुले दरवाजों के पीछे से संदेह से देखती हैं और निश्चित रूप से आज भी अजनबियों का खुले हाथों से स्वागत नहीं किया जाता है।

ठीक एक साल पहले कानपुर के पास बिकरू गांव गोलियों की आवाज से गूंज उठा था, जिसमें तीन जुलाई की तड़के आठ पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी। उस भीषण शुक्रवार को गांव में सुबह के सूरज ने गलियों में खून और लाशें देखीं थीं। जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, पुलिस की तमाम गाड़ियाँ पहुंचने से गाँव जल्द ही पुलिसकर्मियों और मीडियाकर्मियों से भर गया। चीख-पुकार और चीख-पुकार के बीच संदिग्ध आरोपियों के परिवार के सदस्यों को उनके घरों से बाहर निकाल दिया गया।

नाम न बताने की शर्त पर एक युवती ने कहा, "मैं उस दिन को कभी नहीं भूल सकती। मैं अब भी आधी रात को पसीने से तर हो जाती हूं। चीखें और गोलियां हवा में गूंजती हैं।"

हिमांशी मिश्रा, जिनके भाई प्रभात मिश्रा को विकास दुबे का सहयोगी होने के कारण एक मुठभेड़ में मार गिराया गया था, उन्होंने कहा, "मेरे पिता जेल में हैं और मेरा भाई मर चुका है। मैं अब अपनी माँ और दादी के साथ यहां रहती हूँ। वहां कोई आदमी नहीं बचा है। पुलिस का कहना है कि मेरे भाई और पिता विकास दुबे गिरोह के सदस्य थे, लेकिन हमें ऐसा कभी नहीं लगा।"

बिकरू में बड़ी संख्या में परिवारों ने या तो पुलिस मुठभेड़ों में एक सदस्य को खो दिया है या उनके लोग जेल में हैं।

गांव के एक युवक ने बताया, "तीन जुलाई की घटना के बाद पुलिस लगभग पागल हो गई थी। वे किसी विशेष समुदाय के किसी भी व्यक्ति को उठा लेते थे और यह हमें अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए छोड़ दिया गया था। मुझे 23 दिनों तक लॉकअप में रखा गया था और नियमित अंतराल पर पीटा गया था। मेरी गलती सिर्फ इतनी थी कि मैं आगरा से अपने दादा-दादी से मिलने गांव आया था, जहां मैं सेल्समैन का काम करता हूं।"

विकास दुबे जिस महलनुमा घर में रहते था, वह पहले ही मलबे में दब चुका है। लोहे के तीन दरवाजे जमीन पर पड़े हैं। परिसर में कुछ लग्जरी कारें और दो ट्रैक्टर देखे जा सकते हैं। घटना के बाद मारे गए गैंगस्टर के परिवार में से कोई भी दोबारा उस ध्वस्त इमारत में नहीं गया है। गांव के रहवासी टूटे मकान के आसपास कहीं भी निकलने से कतरा रहे हैं। बिकरू गांव में पुलिस की मौजूदगी दिखाई दे रही है, हालांकि पिछले महीनों की तुलना में काफी कम है।

एक बुजुर्ग व्यक्ति ने कहा कि हम अभी भी पुलिस की वजह से डर में जी रहे हैं। आप कभी नहीं कह सकते कि वे कब आएंगे और किसी को उठा लेंगे। जिन परिवारों के विकास दुबे से दोस्ती थी, वे अब गैंगस्टर के साथ किसी भी तरह के संबंध को मानने से इनकार करते हैं।

विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे के पास बताने के लिए अपनी ही दिल दहला देने वाली कहानी है। उसका कहना है, "हम जीवित हैं लेकिन वास्तव में हम मर चुके हैं। मेरे ससुर और सास के पास रहने के लिए कोई जगह नहीं है। हमारे पास जो कुछ भी था वह सब कुछ जब्त कर लिया गया है। एक साल हो गया है लेकिन आज तक, मेरे पति का मृत्यु प्रमाण पत्र भी नहीं मिल सका है। मैं दर-दर भटकती रही हूं, लेकिन दस्तावेज प्राप्त करने में विफल रही क्योंकि किसी पुलिसकर्मी ने राम कुमार दुबे के बजाय उनके पिता का नाम राकेश दुबे लिखा था। मैं सभी शीर्ष अधिकारियों से मिली हूं, लेकिन कोई नहीं मदद करने को तैयार है।"

ऋचा ने कहा कि वह अपने बेटों की स्कूल फीस भरने के लिए अपने जेवर बेचती रही हैं। उसने कहा, "मेरे बड़े बेटे ने तीन साल की Medicine की पढ़ाई पूरी की है, लेकिन मैं उसकी फीस का भुगतान जारी नहीं रख सकती। अगर मुझे मृत्यु प्रमाण पत्र मिलता है, तो कम से कम मुझे अपने बच्चों की शिक्षा के लिए अपने पति की बीमा पॉलिसियों से कुछ पैसे मिल सकते हैं।"

ऋचा ने कहा कि वह सभी शीर्ष अधिकारियों को फोन कर रही थीं, लेकिन किसी ने कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा, "मैंने कभी भी विकास या उसने जो किया उसका बचाव नहीं किया, लेकिन उसका परिवार अपराधी नहीं है। सरकार को हमें भी एक मुठभेड़ में मारना चाहिए था, अगर उन्हें लगता था कि हमें जीने का अधिकार नहीं है।"

ऋचा के अलावा, चार अन्य महिलाएं, जो बिकरू नरसंहार मामले में प्रथम दृष्टया दोषी नहीं हैं, लेकिन दुबे कनेक्शन की कीमत चुका रही हैं। खुशी दुबे की शादी को तीन दिन हो गए थे जब उनके पति अमर दुबे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। चारों महिलाएं पिछले 11 महीने से जेल में हैं। रेखा की सात साल की बेटी और ढाई साल का बेटा भी उसके साथ जेल में है।

आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा कि इससे बड़ा अपराधी क्या हो सकता है? चार महिलाएं जिनका इस घटना से कोई लेना-देना नहीं था, वे जेल में हैं और दो नाबालिग बच्चों को भी जिंदगी भर के लिए जख्मी किया जा रहा है। ये महिलाएं बिकरू मामले के उन 45 आरोपियों में शामिल हैं, जो इस समय जेल में हैं।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Uttar Pradesh News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
टोक्यो ओलंपिक 2020 कवरेज
X