1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. Mother's Day 2021: जानें इस खास दिन का महत्व और इतिहास

Mother's Day 2021: जानें इस खास दिन का महत्व और इतिहास

मदर्स डे एक अथक प्रेम, त्याग और देखभाल का उत्सव है जो एक मां का अपने बच्चे के प्रति होता है। एक मां का प्यार हमेशा अपने बच्चों के लिए बिना किसी शर्त के होता है। 

India TV Entertainment Desk India TV Entertainment Desk
Published on: April 27, 2021 22:12 IST
Mother's Day.Mother's Day 2021- India TV Hindi
Image Source : PEXELS  Mother's Day 2021: जानें इस खास दिन का महत्व और इतिहास

मदर्स डे एक अथक प्रेम, त्याग और देखभाल का उत्सव है जो एक मां का अपने बच्चे के प्रति होता है। एक मां का प्यार हमेशा अपने बच्चों के लिए बिना किसी शर्त के होता है। अमेरिकी लेखक मिच एल्बोम का एक उद्धरण में मां को पूरी तरह से देखभाल और प्यार के प्रतीक बताया है। उन्होंने बताया, "जब आप अपनी मां की आंखों में देखते हैं, तो आप जानते हैं कि इस धरती मां से मिलने वाला प्यार सबसे खास प्यार है"। अधिकांश देशों में, मदर्स डे हर साल मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है, जबकि कई अन्य लोग अपनी मान्यताओं के अनुसार अलग-अलग तिथियों पर इस अवसर को मनाते हैं।

एक मां आपकी रक्षा करती है, आपसे प्यार करती है और आपको एक सक्षम इंसान बनाने के लिए आपनी परवाह नहीं करती है। उसके बिना जीवन की कल्पना भी करना भी असंभव सा लगता है।

इस साल यानी 2021 में मदर्स डे कब है?

मई के दूसरे रविवार को भारत में हर साल मदर्स डे के रूप में मनाया जाता है। इस साल यह रविवार 9 मई को मनाया जाएगा।

मदर्स डे एक उत्सव है जो दुनिया भर में सभी माताओं के सम्मान में मनाया जाता है, उन्हें उनकी मातृत्व और समाज में योगदान के लिए धन्यवाद देता है।

इतिहास और महत्व:

अमेरिका में पहला मदर्स डे समारोह तब शुरू हुआ जब एना जार्विस नाम की एक महिला अपनी मां की मृत्यु से पहले उनकी खुशियों और इच्छाओं को सेलिब्रेट करना चाहती थी। उन्होंने पहल की और वेस्ट वर्जीनिया के सेंट एंड्रयूज मेथोडिस्ट चर्च में उनकी मृत्यु के तीन साल बाद 1908 में एक स्मारक रखा।  साल 1905 में जब उसकी मां एन रीव्स जार्विस का निधन हो गया था तब उन्हीं की पहल से संयुक्त राज्य अमेरिका में मदर्स डे को छुट्टी के रूप में मान्यता देने के लिए एक अभियान शुरू किया गया। छुट्टी के लिए तो मना कर दिया गया, लेकिन साल 1911 में मदर्स डे के रूप में मान्यता मिली।

1941 में, वुडरो विल्सन ने मई के महीने में दूसरे रविवार को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करते हुए एक घोषणा पर हस्ताक्षर किए।

एक अन्य कहानी के अनुसार, यह माना जाता है कि यह क्रिश्चियन मदरिंग संडे को मदर चर्च की याद में मनाया जाता है। अरब देशों में, दिवस 21 मार्च को मनाया जाता है, जिसे स्प्रिंग इक्विनॉक्स के नाम से भी जाना जाता है।

Click Mania
bigg boss 15