Sanjay Raut Attacks BJP: संजय राउत ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- शिवसेना का केवल विभाजन नहीं, विनाश चाहती है पार्टी

संजय राउत ने कहा कि जब तक शिवसेना का अस्तित्व है, वे महाराष्ट्र के 3 भाग करने के अपने सपने को साकार नहीं कर सकते।

Vineet Kumar Written By: Vineet Kumar @JournoVineet
Published on: July 08, 2022 19:21 IST
Sanjay Raut Attacks BJP, Sanjay Raut, Sanjay Raut Shiv Sena, Sanjay Raut BJP- India TV Hindi News
Image Source : PTI Shiv Sena MP Sanjay Raut.

Highlights

  • राउत ने नवगठित एकनाथ शिंदे-देवेंद्र फडणवीस सरकार को ‘अवैध’ करार दिया।
  • शिवसेना के रहते बीजेपी के लोग मुंबई को महाराष्ट्र से अलग नहीं कर सकते: राउत
  • राउत ने कहा कि बागी विधायक बगावत करने की अलग-अलग वजह बताते रहे हैं।

Sanjay Raut Attacks BJP: शिवसेना सांसद संजय राउत ने शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी पर एक बार फिर हमला बोला। राउत ने कहा कि बीजेपी सिर्फ शिवसेना का विभाजन नहीं चाहती, बल्कि इसका विनाश चाहती है ताकि वह महाराष्ट्र को 3 हिस्सों में बांटने के अपने सपने को साकार कर सके। उन्होंने नवगठित एकनाथ शिंदे-देवेंद्र फडणवीस सरकार को ‘अवैध’ करार दिया। राउत ने शिवसेना के बागी विधायकों को भी अपने निशाने पर लिया और कहा कि वे घर लौट सकते हैं, लेकिन शिवसैनिक आने वाले चुनावों में उनकी हार तय करेंगे।

‘शिवसेना के रहते महाराष्ट्र से अलग नहीं होगी मुंबई’

बता दें कि शिवसेना के बागी विधायक पहले 21 जून को मुंबई से सूरत पहुंचे, फिर गुवाहाटी गए और मुंबई लौटने से पहले गोवा में भी रुके थे। एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में हुई इस बगावत के चलते 30 जून को सूबे की MVA सरकार गिर गई। राउत ने कहा, ‘BJP शिवसेना में केवल फूट नहीं डालना चाहती, बल्कि वह पार्टी को खत्म करना चाहती है। जब तक शिवसेना का अस्तित्व है, वे महाराष्ट्र के 3 भाग करने के अपने सपने को साकार नहीं कर सकते। वे शिवसेना के रहते मुंबई को महाराष्ट्र से अलग नहीं कर सकते।’

बड़ी खबर: ‘जब काट देंगे तब...’, हाई कोर्ट के गलियारे तक पहुंचा नूपुर विवाद, एक मुंशी ने दूसरे को धमकाया

‘अवैध है महाराष्ट्र की शिंदे-फडणवीस सरकार’
शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता राउत ने बागी विधायकों की आलोचना करते हुए कहा कि वे पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बगावत करने की अलग-अलग वजह बताते रहे हैं, जिसमें शिवसेना पर हिंदुत्व का मुद्दा छोड़ने के आरोप से लेकर तत्कालीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे तक पहुंच का दुर्लभ होना और NCP द्वारा उनके निर्वाचन क्षेत्रों को धन आवंटित नहीं करने तक के कारण शामिल हैं। राउत ने सूबे की नई सरकार को ‘अवैध’ बताते हुए सवालिया लहजे में कहा कि जब शिवसेना के 16 विधायकों की अयोग्यता याचिका सुप्रीम कोर्ट में लंबित है, तो राज्यपाल विश्वास मत का आदेश कैसे दे सकते हैं।

navratri-2022