1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. कैसे अपने मोबाइल से हटाएं चीनी Apps, ये है तरीका

कैसे अपने मोबाइल से हटाएं चीनी Apps, ये है तरीका

अगर आप भी चीनी एप को अपने फोन से हटना चाहते है तो आपको उस एप को 10 सेकेंड तक प्रेस करना होगा जिसके बाद आपको अनइंसटाल का ऑपशन दिखाई देगा जिसपर क्लिक कर के आप अपने फोन से हटा सकते है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: June 29, 2020 22:04 IST
how to remove Chinese Apps from your mobile- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

how to remove Chinese Apps from your mobile

नई दिल्ली: अगर आप भी चीनी एप को अपने फोन से हटना चाहते है तो आपको उस एप को कुछ सेकेंड तक प्रेस करना होगा जिसके बाद आपको अनइंसटाल का ऑपशन दिखाई देगा जिसपर क्लिक कर के आप अपने फोन से उसे हटा सकते है। आपको बता दें कि भारत ने चीन को सबक सिखाने के लिए उसके कई मोबाइल एप पर बैन लगा दिया है। सरकार ने यूसी ब्राउजर, हेलो समेत 59 मोबाइल एप पर रोक लगा दी है।

आईटी मंत्रालय ने सोमवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा कि उसे विभिन्न स्रोतों से कई शिकायतें मिली हैं, जिनमें एंड्रॉइड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कुछ मोबाइल ऐप के दुरुपयोग के बारे में कई रिपोर्ट शामिल हैं। इन रिपोर्ट में कहा गया है कि ये एप ‘‘उपयोगकर्ताओं के डेटा को चुराकर, उन्हें भारत के बाहर स्थित सर्वर को अनधिकृत तरीके से भेजते हैं।’’

पढ़ें- Chinese Apps banned in India: जानिए भारत सरकार ने किन Apps पर लगाया बैन

बयान में कहा गया, ‘‘भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति शत्रुता रखने वाले तत्वों द्वारा इन आंकड़ों का संकलन, इसकी जांच-पड़ताल और प्रोफाइलिंग, आखिरकार भारत की संप्रभुता और अखंडता पर आधात है, यह बहुत अधिक चिंता का विषय है, जिसके लिए आपातकालीन उपायों की जरूरत है।’’

गृह मंत्रालय के तहत आने वाले भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र ने इन दुर्भावनापूर्ण एप्स पर व्यापक प्रतिबंध लगाने की सिफारिश भी की थी। बयान में कहा गया है, ‘‘इनके आधार पर और हाल ही में विश्वसनीय सूचनाएं मिलने पर कि ऐसे ऐप भारत की संप्रभुता और अखंडता के लिए खतरा हैं, भारत सरकार ने मोबाइल और गैर-मोबाइल इंटरनेट सक्षम उपकरणों में उपयोग किए जाने वाले कुछ एप के इस्तेमाल को बंद करने का निर्णय लिया है।’’

बयान में कहा गया है कि यह कदम ‘‘करोड़ों भारतीय मोबाइल और इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के हितों की रक्षा करेगा। यह निर्णय भारतीय साइबरस्पेस की सुरक्षा और संप्रभुता सुनिश्चित करने की दिशा में एक कदम है।’’

Write a comment
X