Putin Ukraine War: हजारों लोगों की मौत, 8 महीने से युद्ध जारी, रूस में भारी प्रदर्शन... पुतिन से यूक्रेन जंग में हो गईं ये 5 बड़ी गलतियां

Mistakes in Ukraine War: एक तरफ जहां यूक्रेन के लोग अपने देश के लिए लड़ने और कुर्बानी देना चाहते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ रूसी सैनिक अपनी यूनिट से भाग रहे हैं। जब से पुतिन ने 3 लाख अतिरिक्त रिजर्व बल की तैनाती का आदेश दिया है, तभी से रूस से बड़ी संख्या में लोग देश छोड़कर भाग रहे हैं।

Shilpa Written By: Shilpa
Updated on: October 09, 2022 13:32 IST
russian president vladimir putin-ukraine war- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV russian president vladimir putin-ukraine war

Highlights

  • यूक्रेन युद्ध में कमजोर पड़ा रूस
  • पुतिन के फैसले गलत साबित हुए
  • पुतिन से जंग में कई गलतियां हुईं

Putin's Mistakes in Ukraine War: रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग को कुछ ही दिनों में 8 महीने पूरे हो जाएंगे। एक के बाद एक असफलताओं और भारी नुकसान के बावजूद भी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन इस लड़ाई को जायज ठहरा रहे हैं। कुछ दिन पहले उन्होंने यूक्रेन के चार क्षेत्रों को रूस में मिलाने का ऐलान किया था। लेकिन इसे हम पुतिन की जीत कतई नहीं कह सकते। अगर मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो यूक्रेन में पुतिन की सेना को हताशा का सामना करना पड़ रहा है। इस युद्ध में खुद रूस के लोग अपने राष्ट्रपति के साथ खड़े नहीं हो रहे, जिसकी पुष्टि इसी बात से हो जाती है कि लोग देश छोड़कर भाग रहे हैं। पुतिन अपनी कुछ गलतियों की वजह से यूक्रेन में विफलता का सामना कर रहे हैं। उन्होंने इस युद्ध में ऐसी 5 बड़ी गलतियां की हैं, जिनकी वजह से वह युद्ध को अभी न तो जीत पाए हैं और अब सैनिक कम पड़ने के बावजूद खत्म भी नहीं करवा पा रहे हैं।

1. पुतिन की पहली और सबसे बड़ी गलती थी, लंबे युद्ध को लेकर सेना की तैयारियों को गलत आंकना। अब रूस इसकी कीमत चुका रहा है और अपमानजनक युद्ध में बना हुआ है। बेशक यूक्रेन की सेना रूस के मुकाबले छोटी है लेकिन उसके इरादे पक्के हैं। एक तरफ जहां यूक्रेन के लोग अपने देश के लिए लड़ने और कुर्बानी देना चाहते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ रूसी सैनिक अपनी यूनिट से भाग रहे हैं। जब से पुतिन ने 3 लाख अतिरिक्त रिजर्व बल की तैनाती का आदेश दिया है, तभी से रूस से बड़ी संख्या में लोग देश छोड़कर भाग रहे हैं।

2. रूसी राष्ट्रपति की दूसरी बड़ी गलती यूक्रेन की ताकत का गलत अनुमान लगाना था। उन्हें लग रहा था कि ये देश कुछ ही दिनों में घुटने टेक देगा। उन्होंने यूक्रेन का अपनी आजादी और अपने देश की संप्रभुता पर हमले के खिलाफ प्रतिरोध को भी गलत आंका। 

3. पुतिन की तीसरी गलती नाटो को लेकर थी। उन्हें लगा कि अमेरिका के पू्र्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की 'अमेरिका फर्स्ट' अप्रोच के कारण नाटो कमजोर हो गया है। इसलिए इस तरह की घटनाओं पर वह सुस्त प्रतिक्रिया देगा। 

 
4. चौथी गलती ये रही कि पुतिन को लगा कि यूरोप की रूस के तेल और गैस पर निर्भरता यूक्रेन के लिए मॉस्को से अपने रिश्ते तोड़ना मुश्किल कर देगी। लेकिन वह यहां भी गलत साबित हुए। 

5. पुतिन की पांचवीं गलती थी अमेरिकी का ताकत का गलत अंदाजा लगाना। उन्हें लगा कि अफगानिस्तान और इराक में विफलता और कई आर्थिक और घरेलू चुनौतियों के साथ-साथ चीन की बढ़ती ताकत की वजह से अमेरिका कमजोर स्थिति में है। लेकिन पुतिन एक बार फिर गलत साबित हुए। इसके बजाय अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यूक्रेन युद्ध का इस्तेमाल रूस की अर्थव्यवस्था को कमजोर करने और रूस के खिलाफ पूरे पश्चिम को एक करने के लिए अवसर के तौर पर किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पुतिन की सबसे बड़ी गलती यही थी कि उन्होंने जंग में कई फ्रंट पर हार होने के बाद भी अपने फैसलों को जायज ठहराया। उन्होंने लोकतांत्रित प्रक्रियाओं और अंतरराष्ट्रीय मानकों को दरकिनार कर युद्ध शुरू करने का एकतरफा फैसला लिया। उन्होंने इसके पीछे का सबसे बड़ा तर्क यही दिया कि पश्चिम ने उनके पास हमला करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं छोड़ा है। वहीं पुतिन को तनाशाह कहने वाले पश्चिमी देशों का कहना है कि पुतिन ने जानबूझकर युद्ध का रास्ता चुना है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन