1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. टाइप-2 डायबिटीज नींद को कैसे प्रभावित करता है? अच्छी नींद के लिए इन 5 टिप्स को करें फॉलो

टाइप-2 डायबिटीज नींद को कैसे प्रभावित करता है? अच्छी नींद के लिए इन 5 टिप्स को करें फॉलो

कम नींद लेने के कारण कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। टाइप-2 डायबिटीज नींद को कई तरह से प्रभावित करता है।

India TV Health Desk India TV Health Desk
Published on: June 08, 2021 10:45 IST
type 2 diabetes - India TV Hindi
Image Source : FREEPIK.COM टाइप-2 डाइबिटीज मरीजों की अच्छी नींद के लिए टिप्स 

आमतौर पर नींद न आने की समस्या बहुत से लोगों में देखी जाती है। जिसके चलते स्वास्थ्य से जुड़ी कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। कम नींद लेने के कारण स्वास्थ्य से जुड़ी तमाम समस्याएं में से एक है टाइप-2 डायबिटीज। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि स्लीपिंग पेटर्न जब बिगड़ता है तो इससे शरीर में इन्सुलिन रेजिस्टेंस होने लगता है। असल में टाइप 1 डायबिटीज में आपका शरीर पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बना पाता है इसलिए आपको नियमित रूप से इन्सुलिन लेना पड़ता है। लेकिन टाइप 2 डायबिटीज में आपका शरीर इंसुलिन तो बनाता है पर वह पर्याप्त नहीं होता है। इसलिए यह भी वजह है नींद की कमी से टाइप टू डायबिटीज बढ़ने की। 

डायबिटीज के मरीजों को ब्लैक फंगस का अधिक खतरा, स्वामी रामदेव से जानिए बचाव का तरीका

अगर आप टाइप-2 डायबिटीज के पेशेंट हैं और आपको अच्छी नींद नहीं आती तो फॉलो करें ये 5 टिप्स

  • सोते समय इलेक्ट्रॉनिक यंत्रों का प्रयोग न करें- सोते समय फोन या लैपटॉप जैसे उपकरणों के प्रयोग से आपको और कम नींद आती है इसलिए इनकी बजाय अच्छी किताबों को पढ़ने की आदत बनाएं।
  • ध्यान भटकाने वाली चीजों से दूर रहें- अगर आपको रात भर मैसेज आते हैं तो अपने फोन को स्विच ऑफ कर दें और अगर आपको सुबह जल्दी उठना है तो इसके लिए अलग से अलार्म क्लॉक का प्रयोग करें।
  • सुबह जल्दी उठाने वाली आवाजों को दूर करें- अगर आप बहुत सुबह अपनी नींद नहीं खराब करना चाहते तो ऐसी जगह सोएं जहां आपको चिड़ियों की आवाज और झाड़ू आदि की साफ सफाई की आवाज अधिक न सुनाई दे। इसके लिए आप फुल स्पीड में पंखा भी चला सकते हैं।
  • अपने रूटीन पर रहें -आपको अपने सोने का और जागने का समय तय कर लेना चाहिए और उसी पर चिपका रहना चाहिए चाहे फिर आपको और अधिक या कम नींद ही क्यों न आ रही हो।
  •  रात के समय कैफेन का सेवन न करें- अगर आप रात के समय चाय या कॉफी आदि पीते हैं तो ऐसा करने से भी आपको नींद नहीं आती है इसलिए सोने से पहले इन चीजों का सेवन न करें।

इसके अलावा अपनी लाइफस्टाइल से सभी खराब आदतों को हटाने की कोशिश करें और बेहतर आदतों को जोड़ें। नींद आपके लिए उतनी ही जरूरी है जितना जरूरी आम इंसान के लिए खाना। इसलिए जानकार भी नींद पूरी करने की सलाह आपको देते हैं। जिससे टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम कम रहे। ज्यादा समस्या बढ़ने पर डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

डायबिटीज की समस्या से हैं परेशान, स्वामी रामदेव से जानिए ब्लड शुगर को क्योर करने का कारगर इलाज

डायबिटीज से जुड़े अन्य स्लीप डिसऑर्डर

स्लीप एपनिया 

यह डायबिटीज से जुड़ा सबसे मुख्य लक्षण है। इस स्थिति के दौरान आपकी सांसें एकदम से रुक जाती हैं और रात को तेज हो जाती हैं। यह स्थिति मोटे लोगों में अधिक पाई जाती है। इसके लक्षणों में खर्राटे मारना और दिन में थका हुआ महसूस करना है।

रेस्टलेस लेग सिंड्रोम 

इसके दौरान आपको लगातार अपने पैर हिलाने का मन करता रहेगा। यह शाम के समय अधिक होता है और इसके कारण आपको नींद भी नहीं आती है। अगर आपको यह लक्षण है तो आपको जरूर अपने डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए क्योंकि यह बहुत सी खतरनाक बीमारियों का लक्षण भी हो सकता है।

इनसोम्निया

यह स्थिति होने पर आपको रात को सोने में बहुत मुश्किल होती है। अगर आपको अधिक स्ट्रेस रहता है या अधिक ग्लूकोज लेवल है तो इस स्थिति के चांस बढ़ जाते हैं।

पढ़ें हेल्थ से जुड़ी अन्य खबरें- 

डायबिटीज के मरीज बिल्कुल भी ना करें इन चीजों का सेवन, तुरंत बढ़ जाएगा ब्लड शुगर लेवल

डायबिटीज के मरीज आम खा सकते हैं या नहीं, जानें इस सवाल का जवाब

नोट-ऊपर दी गई जानकारी सामान्य ज्ञान के लिए है। इंडिया टीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। टाइप-2 डायबिटीज नींद को कैसे प्रभावित करता है? अच्छी नींद के लिए इन 5 टिप्स को करें फॉलो News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन
Write a comment
X