1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. केंद्र ने भारत बायोटेक को 45 लाख खुराकें तैयार रखने को कहा, मॉरीशस, फिलीपींस, म्यांमा को फ्री में मिलेंगी Covaxin

केंद्र ने भारत बायोटेक को 45 लाख खुराकें तैयार रखने को कहा, मॉरीशस, फिलीपींस, म्यांमा को फ्री में मिलेंगी 8 लाख Covaxin

भारत बायोटेक को कोविड-19 के अपने टीके ‘कोवैक्सीन’ की 45 लाख अतिरिक्त खुराकों के लिए केंद्र से ऑर्डर मिला है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: January 19, 2021 13:49 IST
केंद्र ने भारत बायोटेक को 45 लाख खुराकें तैयार रखने को कहा- India TV Hindi
Image Source : PTI केंद्र ने भारत बायोटेक को 45 लाख खुराकें तैयार रखने को कहा

हैदराबाद। भारत बायोटेक (Bharat Biotech) को कोविड-19 के अपने टीके ‘कोवैक्सीन’ की 45 लाख अतिरिक्त खुराकों के लिए केंद्र से ऑर्डर मिला है। सूत्रों ने बताया कि इन 45 लाख खुराकों में से आठ लाख से अधिक खुराक मॉरीशस, फिलीपींस और म्यांमा जैसे मित्र देशों को सद्भावना के तौर पर नि:शुल्क दी जाएंगी। 

सूत्रों ने समाचार एजेंसी ‘पीटीआई भाषा’ से कहा, ‘‘कंपनी को कोवैक्सीन की अतिरिक्त 45 लाख खुराकों की आपूर्ति के लिए हाल में आशय पत्र दिया गया है।’’ उन्होंने कहा कि मंत्रालय जब कंपनी को ऑर्डर देगा, तब खुराकों की आपूर्ति की जाएगी। सूत्रों ने कहा कि सरकार से 55 लाख खुराकों का ऑर्डर मिलने के बाद भारत बायोटेक ने टीकों (हर शीशी में 20 खुराक) का पहला बैच गन्नवरम (विजयवाड़ा), गुवाहाटी, पटना, दिल्ली, कुरुक्षेत्र, बेंगलुरु, पुणे, भुवनेश्वर, जयपुर, चेन्नई और लखनऊ भेजा था। भारत बायोटेक ने कहा कि उसने भारत सरकार को 16.5 लाख खुराक दान की हैं। सूत्रों ने बताया कि कंपनी की ओर से आपूर्ति सरकार के ऑर्डर पर निर्भर करती हैं। 

इन हालातों में न लगवाएं Covaxin का टीका

कोवैक्सीन बनाने वाली भारत बायोटेक की ओर से फैक्टशीट जारी की गई। इसमें कंपनी ने बताया है कि कौन कौन से लोग यह वैक्सीन न लें और कौन से लोगों के लिए यह वैक्सीन सुरक्षित है। भारत बायोटेक के अनुसार जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है या वे ऐसी दवा पर होते हैं जो उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करते हैं। या फिर एलर्जी वाले लोगों को कोवाक्सिन शॉट नहीं लेना चाहिए। वैक्सीन बनाने वाले भारत बायोटेक ने यह चेतावनी कोविड के खिलाफ सामूहिक टीकाकरण शुरू करने के दो दिन बाद दी है। इससे पहले, सरकार ने कहा था कि जो मरीज इम्युनो सप्रेसेंट पर हैं या प्रतिरक्षा की कमी से पीड़ित हैं वे वैक्सीन ले सकते हैं लेकिन यह वैक्सीन ऐसे व्यक्तियों में कम प्रभावी होगी। आमतौर पर कैंसर के मरीज जो कीमोथेरेपी करवा रहे हों या एचआईवी पॉजिटिव हों या फिर स्टेरॉयड पर होते हैं, उन्हें इम्युनिटी हासिल करने में समय लग सकता है। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment