1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. बच्चों को कब से लगेगी COVID-19 vaccine? जानें ICMR ने क्या कहा

बच्चों को कब से लगेगी COVID-19 vaccine? जानें ICMR ने क्या कहा

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की वजह से तबाही मची है। इसके बीच तीसरी लहर की भविष्यवाणी से लोगों में डर और बढ़ गया है। तीसरी लहर को लेकर तरह-तरह की बातें सामने आ रही हैं।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: June 25, 2021 23:06 IST
Covid: More data needed to decide whether children can be inoculated, says ICMR chief- India TV Hindi
Image Source : PTI देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की वजह से तबाही मची है।

नयी दिल्ली: देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की वजह से तबाही मची है। इसके बीच तीसरी लहर की भविष्यवाणी से लोगों में डर और बढ़ गया है। तीसरी लहर को लेकर तरह-तरह की बातें सामने आ रही हैं। तीसरी लहर की डर की वजह से अब सवाल पूछे जाने लगे हैं कि आखिर बच्चों को कब वैक्सीन लगाई जाएगी? देश के विभिन्न राज्यों में स्कूल खुलने लगे हैं। ऐसे में पैरेंट्स का चिंतित होना स्वाभाविक है कि आखिर कब उनके बच्चों को वैक्सीन लगाई जाएगी। इस सवाल का जवाब भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने दिया।

डॉ. भार्गव ने शुक्रवार को कहा कि गर्भवती महिलाओं को कोविड-19 का वैक्सीन लगाया जा सकता है, लेकिन बच्चों को यह वैक्सीन लगाने के विषय पर फैसला करने के लिए और अधिक आंकड़ों की जरूरत होगी। उन्होंने संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, ‘‘स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह दिशानिर्देश दिया है कि वे (कोविड वैक्सीन) गर्भवती महिलाओं को लगा सकते हैं। हमने अपने आईसीएमआर प्रैगकोविड रजिस्ट्री से यह भी प्रदर्शित किया है कि वैक्सीनेशन गर्भवती महिलाओं के लिए उपयोगी है और यह दिया जाना चाहिए।’’

दरअसल, आईसीएमआर प्रमुख से बच्चों और महिलाओं के वैक्सीनेशन पर एक सवाल किया गया था। भार्गव ने कहा कि पर्याप्त आंकड़े उपलब्ध होने तक बच्चों को कोविड-19 की खुराक दिया जाना अब भी चर्चा का विषय है। उन्होंने कहा कि विश्व में अमेरिका ही एकमात्र देश है जो इस वक्त बच्चों को यह वैक्सीन लगा रहा है। उन्होंने कहा कि क्या बहुत छोटे बच्चों को भी टीके की जरूरत है, यह अब भी एक सवाल है। 

भार्गव ने कहा, ‘‘बच्चों को वैक्सीनेशन पर जब तक हमारे पास पर्याप्त आंकड़े उपलब्ध नहीं होंगे, हम बच्चों का वैक्सीनेशन करने की स्थिति में नहीं होंगे। हालांकि, हमने 2-18 वर्ष की आयु के बच्चों पर एक अध्ययन शुरू कर दिया है और हमारे पास सितंबर-अक्टूबर तक इस बारे में नतीजें होंगे, तब हम कोई फैसला कर सकेंगे।’’ 

उन्होंने कहा कि हालांकि अंतरराष्ट्रीय अध्ययन एवं विशेषज्ञ बच्चों को कोविड का वैक्सीन लगाये जाने की जरूरत पर अब भी बहस कर रहे हैं। भार्गव ने कहा, ‘‘बच्चों का वैक्सीनेशन किये जाने पर अमेरिका में हमने कुछ समस्याएं देखी हैं।’’ 

ये भी पढ़ें

Click Mania
bigg boss 15