1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. शिमला के प्रतिष्ठित कॉफी हाउस में गरमागरम बहसों पर लग सकता है विराम, ताला लगने की नौबत

शिमला के प्रतिष्ठित कॉफी हाउस में गरमागरम बहसों पर लग सकता है विराम, ताला लगने की नौबत

हिमाचल प्रदेश में पर्यटन उद्योग पर कोरोना की कुदृष्टि पड़ने के बाद 1962 में स्थापित शिमला के प्रतिष्ठित इंडियन कॉफी हाउस में गर्म कॉफी और गर्म राजनीतिक बहस जल्द ही बंद हो सकती है।

IANS IANS
Published on: May 30, 2021 14:25 IST
शिमला के प्रतिष्ठित...- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO शिमला के प्रतिष्ठित कॉफी हाउस में गरमागरम बहसों पर लग सकता है विराम, ताला लगने की नौबत

शिमला: हिमाचल प्रदेश में पर्यटन उद्योग पर कोरोना की कुदृष्टि पड़ने के बाद 1962 में स्थापित शिमला के प्रतिष्ठित इंडियन कॉफी हाउस में गर्म कॉफी और गर्म राजनीतिक बहस जल्द ही बंद हो सकती है। कॉफी हाउस में कभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गर्म कॉफी के साथ राजनीति का स्वाद चखा था, पिछले 15 महीनों में महामारी के प्रकोप के बाद ये बंद होने के कगार पर है।

इंडियन कॉफी हाउस के प्रबंधक आत्माराम शर्मा ने बताया, "पिछले एक साल से हम काम नहीं कर रहे हैं और कोविड-प्रेरित लॉकडाउन के कारण हमारी सेवा में बाधा के कारण वेतन बिलों का भुगतान करने में असमर्थ हैं। इस भारी वेतन बैकलॉग और अनिश्चितता की अवधि के बीच, हमारे अधिकांश कर्मचारी, अन्य आतिथ्य उद्योग की तरह, काम से वंचित और निराश महसूस कर रहे हैं।" उन्होंने कहा, "भले ही यह हमारे वफादार ग्राहकों की मांग पर पूरी तरह से चालू हो जाए, जो दशकों से समर्पित हैं, बढ़ते नुकसान के साथ मुझे नहीं लगता कि इसे सुचारू रूप से संचालित करना संभव है।"

शर्मा के अनुसार, चंडीगढ़, दिल्ली, इलाहाबाद और कोलकाता जैसे शहरों में सहकारी समिति द्वारा 'नो-प्रॉफिट, नो-लॉस' के आधार पर चलाए जा रहे इस तरह के सात-आठ कॉफी हाउसों की कमाई में भी भारी गिरावट देखी गई है। उनमें से कई बंद होने के कगार पर हैं।

मोदी के अलावा, शिमला के अनोखे कैफे में कई प्रमुख ग्राहक देखे गए हैं। दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, पूर्व उप प्रधान मंत्री एल.के. आडवाणी और भाजपा के दिग्गज नेता मुरली मनोहर जोशी भी यहां आ चुके हैं। जब अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई भारत में अध्ययन करते थे, तो वो भी अक्सर यहां आते थे। मोदी ने 2017 में अपनी अंतिम यात्रा के दौरान याद किया कि वह राज्य के राजनीतिक घटनाक्रम पर नजर रखने के लिए अपने पत्रकार मित्रों के साथ कॉफी हाउस में घंटों बिताते थे। शिमला के अकादमिक, कानूनी, कला और पत्रकारिता जगत के कई लोग इसके नियमित ग्राहक रहे हैं।

महामारी से पहले, शिमला के कॉफी हाउस की दैनिक बिक्री 100,000 रुपये से अधिक थी। वर्तमान में, कॉफी हाउस प्रतिदिन तीन घंटे काम कर रहा है, लॉकडाउन प्रतिबंधों के कारण 1,000 रुपये से 1,500 रुपये प्रति दिन की आय हो रही है। मुख्यमंत्री के पूर्व प्रेस सचिव शर्मा ने बताया, "यह जानकर बहुत दुख हुआ कि कॉफी हाउस के बुरे दिन आ गए हैं। हमारा समूह, जो गर्म कॉफी के प्याले पर राजनीति और समाज पर चर्चा करने में घंटों बिताता है, अपने पॉकेट से कुछ योगदान देकर अपने परिवेश को जीवित रखने के लिए तंत्र विकसित करने के बारे में सोच रहा है।"

एक पूर्व सरकारी कर्मचारी और 35 से अधिक वर्षों से नियमित रूप से यहां आने वाले दौलत सेन ने भावुक होकर कहा, "मैं 1980 के दशक की शुरूआत में पहली बार कॉफी हाउस आया और तब से यह मेरे जीवन का एक अभिन्न अंग है। मेरे जैसे सरकारी कर्मचारी के लिए यह सामाजिककरण और बौद्धिक चर्चा का केंद्र है।" सेन ने कहा, "इसका बंद होना एक खास वर्ग के लिए बड़ा झटका होगा, जिसे पुराने जमाने का कहा जाता है।" सेन के मुताबिक, 1980 के दशक की शुरूआत में एक कप कॉफी की कीमत 2 रुपये थी। अब यह 25 रुपये है।

प्रधानमंत्री मोदी ने दिसंबर 2017 में शिमला में एक सार्वजनिक रैली में कहा था, "अपने पत्रकार मित्रों के साथ इंडियन कॉफी हाउस में बैठकर, मुझे राज्य के राजनीतिक विकास के बारे में जानकारी मिलती थी।" मोदी, जो 1994 और 2002 तक हिमाचल प्रदेश के भाजपा प्रभारी थे, उन्होंने हल्के-फुल्के अंदाज में कहा था कि उन्होंने कॉफी के लिए कभी भुगतान नहीं किया। उनके पत्रकार मित्र बिल जमा करते थे

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
X