ओडिशा-बालासोर ट्रेन हादसा: तकनीकी खराबी, मानवीय भूल या कोई साजिश, आखिर क्या हो सकती है वजह?

ओडिशी के बालासोर में हुए ट्रेन हादसे में 288 लोगों की मौत हो गई है और 1000 से ज्यादा लोग घायल हैं। इस हादसे को लेकर कई तरह की शंकाएं उठ रही हैं कि क्या यह तकनीकी खराबी की वजह से हुआ, मानवीय भूल या किसी साजिश के तहत, जानें-

Kajal Kumari Edited By: Kajal Kumari
Published on: June 03, 2023 14:46 IST
train accident in odisha- India TV Hindi
Image Source : ANI ट्रेन एक्सी़डेंट की वजह

ओडिशा: दो दशकों में भारत की सबसे भीषण रेल दुर्घटना में अबतक कम से कम 288 लोगों की मौत हो गई है और 1000 से ज्यादा लोग घायल हैं लेकिन अभी भी यह स्पष्ट नहीं है कि यह दुर्घटना किस वजह से हुई है। क्या यह तकनीकी गड़बड़ी या मानवीय त्रुटि के कारण हुई या फिर किसी साजिश की वजह से। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव शनिवार को स्थिति का जायजा लेने के लिए ओडिशा के बालासोर में दुर्घटना स्थल पर पहुंचे और दुर्घटना की विस्तृत उच्च स्तरीय जांच कराने का आश्वासन दिया। वैष्णव ने कहा, " इस घटना के तह तक जाएंगे, एक विस्तृत उच्च-स्तरीय जांच की जाएगी और रेल सुरक्षा आयुक्त भी एक स्वतंत्र जांच करेंगे।" 

शुरुआती रिपोर्ट्स क्या बताती हैं

रेलवे के सिग्नलिंग कंट्रोल रूम से प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार, दुर्घटना मानव त्रुटि का परिणाम हो सकती है क्योंकि दुर्घटना से कुछ मिनट पहले ट्रेन ने गलत ट्रैक ले लिया था। रेलवे के खड़गपुर डिवीजन के सिग्नलिंग कंट्रोल रूम से  देखे गए एक वीडियो से पता चलता है कि चेन्नई जाने वाली कोरोमंडल एक्सप्रेस ने एक लूप लाइन ली, जहां एक मालगाड़ी मुख्य लाइन के बजाय बहानगर बाजार स्टेशन के पास खड़ी थी। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी  ने बताया कि वीडियो में दो मुख्य लाइनों और दो लूप लाइनों सहित चार रेलवे ट्रैक दिखाए गए हैं।

बता दें कि लूप लाइनों का निर्माण स्टेशन क्षेत्र में किया जाता है - इस मामले में, बहानगर बाजार स्टेशन के संचालन को आसान बनाने के लिए अधिक ट्रेनों को समायोजित करने के लिए लूप लाइन बनाई गई थी। पूरी लंबाई की मालगाड़ियों को समायोजित करने के लिए आमतौर पर लूप लाइनें 750 मीटर लंबी होती हैं, लेकिन भारतीय रेलवे लंबी लूप लाइनों के निर्माण को प्रोत्साहित करती रही है।

हो सकती है मानवीय भूल-या तकनीकी खराबी

रेल मंत्री के एक अधिकारी ने बताया कि करीब 127 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही कोरोमंडल एक्सप्रेस मालगाड़ी से टकरा गई और मेन लाइन पर पटरी से उतर गई। कुछ ही मिनटों के भीतर विपरीत दिशा से आ रही हावड़ा-बाध्य यशवंतनगर एक्सप्रेस पटरी से उतरी कोरोमंडल एक्सप्रेस से टकरा गई। “यह कैसे हुआ और क्यों हुआ, यह विस्तृत जांच में पता चलेगा जिसके लिए रेलवे बोर्ड ने आदेश दिया है लेकिन प्रथम दृष्टया यह एक मानवीय भूल प्रतीत होती है।

ईस्ट कोस्ट रेलवे जोन के एक सेवानिवृत्त रेलवे अधिकारी ने, हालांकि, संकेत दिया कि दुर्घटना तकनीकी खराबी और सिग्नल मुद्दों के कारण हुई होगी।“हालांकि स्टेशन प्रबंधक के कार्यालय में रखे सिग्नल पैनल के अनुसार मालगाड़ी रेलवे स्टेशन की लूप लाइन पर थी, लेकिन जब कोरोमंडल एक्सप्रेस 127 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती हुई आई तो इसकी आखिरी कुछ बोगियां अभी भी मुख्य लाइन पर भौतिक रूप से मौजूद हो सकती हैं। 

इस हादसे को लेकर इससे बी इनकार नहीं किया जा सकता है कि ये किसी साजिश का भी परिणाम हो सकता है। खास बात यह है कि पूरी जांच के बाद ही हादसे के कारणों का पता चल पाएगा।

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन