ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. सिद्धू पर बिफरे डिप्टी CM रंधावा, कहा- अगर वह गृह विभाग चाहते हैं तो मैं उसे छोड़ने को तैयार

पंजाब कांग्रेस में कलह: सिद्धू पर बिफरे डिप्टी CM रंधावा, कहा- अगर वह गृह विभाग चाहते हैं तो मैं उसे छोड़ने को तैयार

सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा, ‘‘अगर मेरे भाई (सिद्धू) कहते हैं कि उन्हें गृह विभाग चाहिए तो मैं इसे तुरंत ही उनके चरणों में रख दूंगा।’’ रंधावा ने कहा कि जब से वह गृह मंत्री बने हैं, सिद्धू उनसे नाराज हैं। उपमुख्यमंत्री ने इस आरोप से इनकार किया कि राज्य सरकार मजीठिया को गिरफ्तार नहीं करना चाहती है। उन्होंने कहा कि मजीठिया पंजाब में नहीं हैं और उनके पास उनका मोबाइल फोन नहीं है।

Khushbu Rawal Edited by: Khushbu Rawal
Published on: January 03, 2022 22:30 IST
Sukhjinder Singh Randhawa- India TV Hindi
Image Source : PTI सिद्धू पर बिफरे डिप्टी CM रंधावा, कहा- अगर वह गृह विभाग चाहते हैं तो मैं उसे छोड़ने को तैयार

Highlights

  • अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया को गिरफ्तार नहीं कर पाने पर सवाल उठा रहे सिद्धू
  • तब तक आराम से नहीं बैठूंगा, जब तक मजीठिया को गिरफ्तार नहीं कर लिया जाता- सिद्धू

चंडीगढ़: पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने सोमवार को कहा कि अगर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू गृह विभाग अपने लिए चाहते हैं, तो वह उसे छोड़ने के लिये तैयार हैं। रंधावा का यह बयान ऐसे समय आया है जब सिद्धू अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया को गिरफ्तार नहीं कर पाने को लेकर राज्य में अपनी पार्टी की सरकार पर ही सवाल उठा रहे हैं। मजीठिया के खिलाफ स्वापक औषधि एवं मन: प्रभावी पदार्थ (एनडीपीएस) कानून के तहत एक मामला दर्ज किया गया है।

सिद्धू ने कहा कि अकाली नेता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने से कुछ नहीं होगा और वह उस समय तक आराम से नहीं बैठेंगे, जब तक मजीठिया को गिरफ्तार नहीं कर लिया जाता। रंधावा ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘‘अगर मेरे भाई (सिद्धू) कहते हैं कि उन्हें गृह विभाग चाहिए तो मैं इसे तुरंत ही उनके चरणों में रख दूंगा।’’ रंधावा ने कहा कि जब से वह गृह मंत्री बने हैं, सिद्धू उनसे नाराज हैं। उपमुख्यमंत्री ने इस आरोप से इनकार किया कि राज्य सरकार मजीठिया को गिरफ्तार नहीं करना चाहती है। उन्होंने कहा कि मजीठिया पंजाब में नहीं हैं और उनके पास उनका मोबाइल फोन नहीं है।

उन्होंने कहा कि यदि मजीठिया को यहां कहीं भी देखा जाता है, तो उन्हें एक सेकंड के अंदर गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने अकाली नेता की कुछ तस्वीरों को नकली बताया, जिसमें उन्हें स्वर्ण मंदिर परिसर में दिखाया गया था। रंधावा ने कहा कि मजीठिया विदेश में भी नहीं हैं क्योंकि उनके खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया था। उन्होंने कहा कि मजीठिया के साथ कोई सुरक्षाकर्मी नहीं था। उन्होंने कहा, "वह अकेले हैं और उनके पास अपना मोबाइल फोन नहीं है।"

यह पूछे जाने पर कि क्या वह किसी दबाव का सामना कर रहे हैं, रंधावा ने इनकार किया और कहा कि अगर कोई दबाव होता तो मजीठिया के खिलाफ प्राथमिकी कैसे दर्ज की जा सकती थी। रंधावा ने कहा कि मजीठिया की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। उन्होंने मजीठिया के खिलाफ दर्ज मामला को 'कमजोर' बताने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) नेता अरविंद केजरीवाल की भी आलोचना की।

कांग्रेस के बादल परिवार से मिले होने के केजरीवाल के आरोपों पर रंधावा ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ही मानहानि के एक मामले में मजीठिया से माफी मांगी थी। मजीठिया शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल की पत्नी और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के भाई हैं। सिद्धू के अलावा, आम आदमी पार्टी भी प्राथमिकी दर्ज होने के कई दिन बाद भी मजीठिया को गिरफ्तार नहीं कर पाने के लिए चरणजीत सिंह चन्नी नीत सरकार पर हमला कर रही है।

(इनपुट- एजेंसी)

elections-2022