1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. उत्तर प्रदेश
  5. मुरादनगर हादसे का मुख्य आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी गिरफ्तार, 25 हजार का था इनाम

मुरादनगर हादसे का मुख्य आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी गिरफ्तार, 25 हजार का था इनाम

मुरादनगर श्मशान हादसे का मुख्य आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अजय त्यागी पर पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम रखा था।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: January 05, 2021 10:15 IST

गाजियाबाद: मुरादनगर श्मशान हादसे का मुख्य आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अजय त्यागी पर पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम रखा था। मुरादनगर में श्मशान घाट की छत गिरने से मलबे में दबकर 25 लोगों की मौत हो गई थी। इस छत के निर्माण में घटिया सामग्रियों का इस्तेमाल हुआ था जिसके चलते बनने के कुछ दिनों बाद ही छत गिर गई और एक बड़ा हादसा हो गया।

उखलारसी में अंतिम संस्कार के दौरान श्मशान की छत ठही

मुरादनगर के उखलारसी में अंतिम संस्कार के दौरान श्मशान की छत गिर जाने से 25 लोगों की मौत हो गई, जबकि 17 अन्य घायल हो गये। पीड़ितों में करीब सभी लोग एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार में पहुंचे थे। बताया जाता है कि जब छत ढही, तो बारिश से बचने के लिए कई लोग इमारत के नीचे खड़े थे जिसे हाल ही में बनाया गया था। इस हादसे में जिन लोगों की मौत हुई, वे सभी पुरूष और जयराम के रिश्तेदार या पड़ोसी थे, जिनका उस वक्त वहां अंतिम संस्कार किया जा रहा था। 

इस तरह से पकड़ में आया ठेकेदार अजय त्यागी
4 और 5 जनवरी की दरम्यानी रात को अजय त्यागी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के मुताबिक वह दिल्ली से होते हुए कहीं और भागने की कोशिश कर रहा था। जानकारी के मुताबिक थाना मुरादनगर व थाना निवाड़ी पुलिस ने अजय त्यागी पुत्र सतवीर त्यागी निवासी मोरटा को सटेडी नहर पुल (मुज़फ्फरनगर)से गिरफ्तार किया। आरोपी अजय त्यागी थाना मुरादनगर के मुकदमा अपराध संख्या 06/21 धारा 304 ,337, 338 , 409, 427 आई पी सी मे वांछित था ।जो घटना के बाद से ही फरार हो गया था और विभिन्न डग्गामार वाहनों का प्रयोग करते हुए हापुड़ मेरठ होते हुए मुजफ्फरनगर पहुंचा था। वह मुजफ्फरनगर से लोकल वाहनों का प्रयोग करते हुए दिल्ली जाकर अन्यत्र जगह भागने की फिराक में था।

पुलिस ने संभावित ठिकानों पर दी ताबड़तोड़ दबिश
श्मशान घाट पर हुए हादसे में घायलों को अस्पताल पहुंचाने ,रेस्क्यू के कार्यों  एवं कानून व्यवस्था संभालने में एसएसपी कलानिधि नैथानी और अन्य अधिकारी डटे रहे। इन अधिकारियों की टीमों ने चारों नामजद अभियुक्तों को हादसे के 36 घंटों के अंदर गिरफ्तार कर लिया, जिनमें सुपरवाइजर, अवर अभियंता ,ठेकेदार  व अधिशासी अधिकारी  शामिल हैं। मुरादनगर क्षेत्र में हुई दुखद घटना के संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने तत्काल संज्ञान लेते हुए आरोपियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए थे। इसी क्रम में पुलिस द्वारा तत्काल एफ.आई.आर दर्ज की गई त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी हुई। तीन आरोपियों की गिरफ्तारी तो तुरंत हो गई थी लेकिन मुख्य आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी फरार हो गया था। एसएसपी ने अजय त्यागी पर 25 हजार रुपये के इनाम की घोषणा की थी। पुलिस अधीक्षक ग्रामीण  नीरज राजा के नेतृत्व में गठित टीमों ने सभी प्रमुख संभावित स्थानों पर दिनभर ताबड़तोड़ दबिश दी, सुराग के आधार तत्परता से एक्शन लेते हुए फरार अभियुक्त अजय त्यागी को गिरफ्तार कर लिया गया। गौरतलब है कि पुलिस  द्वारा पूरे दिन की मुश्किल कानून व्यवस्था के हालातों एवं राहत कार्यों के बीच एसएसपी के निर्देशन में उपरोक्त कार्यवाही तीव्र गति से की गई। एसएसपी द्वारा सभी आरोपियों के विरुद्ध कठोरतम धाराओं में कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए।

सीएम योगी अफसरों से बेहद नाराज
हादसे के बाद मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ अफसरों से बेहद नाराज हैं। मुख्‍यमंत्री ने मामले में जिम्‍मेदार अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के संकेत दिए हैं। कमिश्‍नर और गाजियाबाद के डीएम समेत कई बड़े अधिकारियों पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है। मुरादनगर की घटना से व्यथित और नाराज मुख्यमंत्री सोमवार को अधिकारियों पर जम कर बरसे। घटना को अफसरों की गंभीर लापरवाही करार देते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इस तरह की लापरवाही अक्षम्य है। ऐसे अपराध करने वाले अफसरों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी।

पढ़ें:-किसानों के साथ बातचीत के बाद कृषि मंत्री का पहला बयान, कहा- "चर्चा का माहौल अच्छा था लेकिन..."

अधिकारियों को दो टूक संदेश
मुरादनगर की घटना को लेकर मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश के अधिकारियों को सख्त लहजे में दो टूक संदेश दे दिया है। मुख्यमंत्री ने चेतावनी के लहजे में कहा है कि इस तरह की घटनाओं के लिए जिम्मेदार अफसरों के लिए शासन में कोई जगह नहीं है। मुख्यमंत्री ने घटना को लेकर गाजियाबाद के जिलाधिकारी और मेरठ की मंडलायुक्त समेत अन्य जिम्मेदार अधिकारियों की भूमिका की जांच के संकेत भी दिए हैं।

पढ़ें:- मुठभेड़ में मारे गए तीन ‘आतंकवादियों’ के परिवारों ने मांगे उनके शव, उमर-महबूबा ने की जांच की मांग

ईओ,जेई , सुपरवाइज की हो चुकी गिरफ्तारी
वहीं इस मामले में पुलिस ने ईओ निहारिका सिंह, जेई सीपी सिंह, सुपरवाइजर आशीष को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। ठेकेदार अजय त्यागी समेत कुछ लोग फरार थे लेकिन अब अजय त्यागी को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों पर आईपीसी धारा 304 (गैर इरादतन हत्या), धारा 337 (किसी व्यक्ति को खतरा पहुंचाना), धारा 338 (व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरा पैदा करने वाली चोट), धारा 409 (धन का गबन, सरकारी कर्मचारी द्वारा विश्वास का आपराधिक हनन) और धारा 427 (बुरी नीयत से कार्य) के तहत मुकदमा दर्ज हुआ।

bigg boss 15