चीन के पूर्व राष्ट्रपति हू जिंताओ के नए वीडियो से और गहराया रहस्य, दिखा तानाशाही का नजारा, जानिए शी जिनपिंग ने उनके साथ क्या किया

China Hu Jintao Video: इस नए वीडियो में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का तानाशाही वाला एटिट्यूड साफतौर पर देखा जा सकता है।

Shilpa Written By: Shilpa @Shilpaa30thakur
Updated on: October 27, 2022 14:31 IST
चीन के पूर्व राष्ट्रपति हू जिंताओ को बैठक से बाहर निकाला गया- India TV Hindi
Image Source : AP चीन के पूर्व राष्ट्रपति हू जिंताओ को बैठक से बाहर निकाला गया

China Hu Jintao Video: चीन के पूर्व राष्ट्रपति हू जिंताओ को बीते दिनों कम्युनिस्ट पार्टी की अहम बैठक से बाहर निकाले जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। इससे दुनिया भर में चीन की थू थू हुई। इसपर चीनी मीडिया ने कहा कि हू की तबीयत खराब थी, इसलिए उन्हें बाहर ले जाया गया था। जबकि वीडियो में देखे जाने पर पता चलता है कि वह चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बगल में बैठे हैं और उन्हें जबरन बैठक के बीच से बाहर निकाला जा रहा है। अब हू चिंताओ का एक और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। ये वीडियो भी राजधानी बीजिंग के ग्रेट हॉल में आयोजित 20वीं राष्ट्रीय कांग्रेस की बैठक का है।

हू इसी बैठक में मौजूद थे और दुनिया ने इसी बैठक से बीच से उन्हें उठकर जाते हुए देखा था। अब जो नया वीडियो सामने आया है, वो और सवाल खड़े कर रहा है। इस वीडियो में हू को बैठक से बेहद ही नाटकीय तरीके से जाते हुए देखा जा सकता है। वीडियो में देखा जा सकता है कि पोलित ब्यूरो के सदस्य ली झांशु हू के बगल में बैठे हैं और उनसे बातचीत कर रहे हैं। झांशु हू से फाइल लेते हैं और फिर उन्हें बैठक से बाहर निकाल दिया जाता है। 

शी जिनपिंग भी देखते रहे

 
इस नए वीडियो में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का तानाशाही वाला एटिट्यूड साफतौर पर देखा जा सकता है। जिनपिंग के इशारे पर एक और शख्स हू जिंताओ को बाहर निकालने की कोशिश करता दिख रहा है। इस वीडियो को पूरी दुनिया देख चुकी है और नए वीडियो से साफ दिख रहा है कि कैसे जिनपिंग अपनी ताकत का सबूत दे रहे हैं। जानकारों के मुताबिक इस घटना से पता चलता है कि जिनपिंग पूर्व राष्ट्रपति को बताना चाहते थे कि अब चीन में सहमति पर आधारित दौर खत्म हो गया है। वहीं कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि पूर्व राष्ट्रपति की तबीयत ठीक नहीं थी और इस वजह से भी उन्हें इस कार्यक्रम से बाहर कर दिया गया था।

आधिकारिक समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने एक ट्वीट करके बताया था कि हू जिंताओ की तबीयत बिगड़ने के कारण उन्हें एक चैंबर में ले जाया गया। जिस समय यह घटना हुई उस समय जिनपिंग ने अपने तीसरे कार्यकाल की घोषणा की थी। साथ ही दुनिया को उस टीम के बारे में भी पता चल गया था जो अगले पांच साल तक उनके साथ काम करेगी। ऐसे में इस घटना के समय पर सवाल उठ रहे हैं।

फाइल को हाथ से छीना गया?
 

कई लोगों के मुताबिक ये सब जानबूझकर किया गया था। साल 2003 से 2013 तक चीन के राष्ट्रपति रहे हू को दुनिया के लिए चीन का रास्ता खोलने वाला नेता माना जाता है। लेकिन जिनपिंग के बारे में जानकारों का कहना है कि उनके शासन ने चीन को अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अलग-थलग कर दिया है। नया वीडियो सिंगापुर स्थित चैनल न्यूज एशिया द्वारा रिकॉर्ड किया गया है। इसे देखकर संकेत मिलता है कि शायद हू की तबीयत खराब है। वहीं इसे देखने से यह भी पता चलता है कि कैसे हू के सामने रखे दस्तावेजों को हटाया जा रहा है।

ली झांशु हू की मदद के लिए खड़े होते हैं लेकिन वांग हुनिंग उन्हें वापस अपनी सीट पर खींच लेते हैं। इससे पूरी घटना पर कई गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं। जब हू बाहर जाते हैं तो वह जिनपिंग से कुछ कहते दिखाई देते हैं। जबकि एक ही लाइन में बैठे बाकी लोग उनकी तरफ देखते भी नहीं हैं।

कुछ भी कह पाना है मुश्किल

कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार स्टडी टाइम्स के पूर्व संपादक देंग युवेन का कहना है कि इसके पीछे कोई कारण नहीं है कि पार्टी ने ऐसा दस्तावेज क्यों रखा, जिसे हू को हाई प्रोफाइल कैमरा शो में पढ़ने की इजाजत नहीं थी। उन्होंने कहा कि यह निश्चित रूप से एक असाधारण स्थिति थी जिसके बारे में कोई नहीं बता सकता। इसके बारे में तब तक कुछ नहीं कहा जा सकता जब तक कि फाइल में क्या था, इसके बारे में और सबूत नहीं मिल जाते।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन