Monday, April 22, 2024
Advertisement

'धर्म गार्जियन' में दिख रही भारत और जापान की दोस्ती, दोनों देशों की सेनाएं कर रही सैन्य अभ्यास

भारत और जापान दोनों रणनीतिक और सांस्कृतिक रूप से एकदूसरे के करीब हैं। इसी बीच इन दिनों में पोखरण में दोनों देशों का सैन्याभ्यास चल रहा है। इस दौरान दोनों देशों के सैनिक अभ्यास की विभिन्न विधाओं में हिस्सा ले रहे हैं। यहां तक कि 'ध्यान' भी लगा रहे हैं।

Deepak Vyas Written By: Deepak Vyas @deepakvyas9826
Published on: March 01, 2024 7:30 IST
पोखरण में भारत और जापान के सैनिकों का संयुक्त अभ्यास।- India TV Hindi
Image Source : ANI पोखरण में भारत और जापान के सैनिकों का संयुक्त अभ्यास।

India and Japan in Pokhran: भारत और जापान स्ट्रेटेजिक पार्टनर हैं। दोनों देश मिलकर जंगी अभ्यास कर रहे हैं। यह सैन्याभ्यास राजस्थान के पोखरण में किया जा रहा है। इस सैन्याभ्यास का नाम 'धर्म गार्जियन' है, जो दोनों देशों के बीच सहयोग और साझा रणनीति हितों को उजाग​र करता है। इस अभ्यास का अभिन्न अंग योग का अभ्यास है। भारत की ध्यान प्रक्रिया को जापान में भी फॉलो किया जाता है। एक बौद्ध धर्म को मानने वाले देश जापान में ध्यान भार​तीय परंपरा का जीवंत उदाहरण है। 

भारतीय सेना और जापान ग्राउंड सेल्फ डिफेंस फोर्स के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘धर्म गार्जियन’का 5वां संस्करण आज राजस्थान के महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में शुरू हुआ। 25 फरवरी से शुरू हुआ यह कार्यक्रम 9 मार्च तक चलेगा। अभ्यास ‘धर्म गार्जियन’ एक वार्षिक सैन्य अभ्यास है और इसका वैकल्पिक रूप से आयोजन भारत और जापान में किया जाता है। दोनों देशों की टुकड़ी में 40-40 जवान शामिल हैं। जापानी दल का प्रतिनिधित्व 34वीं इन्फैंट्री रेजिमेंट के सैनिकों द्वारा और भारतीय सेना दल का प्रतिनिधित्व राजपूताना राइफल्स की एक बटालियन द्वारा किया जा रहा है।

क्या है अभ्यास का उद्देश्य?

अभ्यास का उद्देश्य सैन्य सहयोग को बढ़ावा देना और संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अध्याय VII के अंतर्गत अर्ध-शहरी परिस्थितियों में संयुक्त अभियानों को पूरा करने के लिए संयुक्त क्षमताओं में वृद्धि करना है। यह अभ्यास उच्च स्तर की शारीरिक फिटनेस, संयुक्त योजना, संयुक्त सामरिक अभ्यास और विशेष हथियार कौशल पर केंद्रित होगा।

क्या क्या होगा इस अभ्यास में?

अभ्यास के दौरान किए जाने वाले सामरिक अभ्यास में अस्थायी ऑपरेटिंग बेस की स्थापना, एक इंटेलिजेंस, निगरानी और टोही (आईएसआर) ग्रिड बनाना, मोबाइल वाहन चेक पोस्ट स्थापित करना, एक विरोधी और दुश्मन के क्षेत्र में कॉर्डन और सर्च ऑपरेशन करने, हेलिबोर्न ऑपरेशन और हाउस इंटरवेंशन ड्रिल्स शामिल होंगे। ‘आत्मनिर्भर भारत’पहल और देश की बढ़ती रक्षा औद्योगिक क्षमता को दर्शाने वालेहथियारों और उपकरणों का प्रदर्शन किया जाएगा।

3 मार्च को आएंगे जापान के बड़े सैन्य अधिकारी

‘अभ्यास धर्म गार्जियन’ के आयोजन के अवसर पर जापान ग्राउंड सेल्फ डिफेंस फोर्स, पूर्वी सेना, कमांडिंग जनरल, लेफ्टिनेंट जनरल तोगाशी युइचीभी भारत का दौरा करेंगे। जनरल ऑफिसर 3 मार्च 2024 को महाजन फील्ड फायरिंग रेंज का दौरा करेंगे और कॉम्बैट शूटिंग प्रदर्शन, स्पेशल हेलिबोर्न ऑपरेशन (एसएचबीओ) और हाउस इंटरवेंशन ड्रिल को देखेंगे।

बढ़ेगा आपसी सहयोग

अभ्यास ‘धर्म गार्जियन’दोनों देशों को सामरिक संचालन करने की रणनीति, तकनीक और प्रक्रियाओं में अपने श्रेष्ठ अभ्यासों को साझा करने में सक्षम बनाएगा। इस अभ्यास से दोनों पक्षों के सैनिकों के बीच अंतर-संचालन क्षमता, सौहार्द्र और सहयोग बढ़ाने में भी मदद मिलेगी। इससे रक्षा सहयोग को बढ़ावा मिलेगा और दोनों मित्र देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध सुदृढ़ होंगे।

भारत और जापान 'क्वाड' जैसे वैश्विक मंच भी करते हैं साझा

भारत और जापान एक दूसरे के स्ट्रटेजिक पार्टनर हैं। दोनों दोस्त देश 'क्वाड' के भी सदस्य हैं। इसी बीच भारत और जापान दोनों का दुश्मन चीन है। चीन और जापान के बीच भी संबंध कटु हैं। इसी बीच भारत और जापान दोनों देश मिलकर जंगी अभ्यास कर रहे हैं। इससे चीन और पाकिस्तान के होश उड़ गए हैं। भारत-जापान ने दो सप्ताह का सैन्य अभ्यास शुरू किया है।

भारत और जापान के बीच घनिष्ठ कारोबारी संबंध

इसी बीच भारत और जापान के मध्य कारोबारी रिश्ते भी घनिष्ठ हैं। भारत का दोस्त जापान भारत के विकास में हमेशा से योगदान देता रहा है। एक बार फिर जापान भारत में नौ प्रोजेक्ट्स के लिए 232.20 अरब येन (लगभग 12,800 करोड़ रुपये) का कर्ज देने की प्रतिबद्धता जतायी है। भाषा की खबर के मुताबिक, वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को इस बात की जानकारी दी। जापान सरकार की तरफ से मिलने वाले कर्ज से भारत में विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित परियोजनाओं को मदद मिलेगी।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement