Sunday, July 14, 2024
Advertisement

आईएस के आतंकियों ने किया था इराक के अल्पसंख्यकों का नरसंहार, 9 साल बाद ब्रिटेन ने किया स्वीकार

ब्रिटेन ने इन इराक के यजीदी समुदाय पर हुए सामूहिक नरसंहार की बात अब जाकर 9 साल बाद मानी है। आईएसआईएस ने 2014 में यजीदी नरसंहार शुरू किया था। यजीदी पूर्वी सीरिया और उत्तर-पश्चिमी इराक में रहने वाला एक प्राचीन धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय है।

Written By: Deepak Vyas @deepakvyas9826
Published on: August 02, 2023 7:35 IST
आईएस के आतंकियों ने किया था इराक के अल्पसंख्यकों का नरसंहार- India TV Hindi
Image Source : FILE आईएस के आतंकियों ने किया था इराक के अल्पसंख्यकों का नरसंहार

Britain on ISIS: आईएस यानी इस्लामिक स्टेट का आतंक पिछले दशक में बेहद खतरनाक तरीके से अपने अंजाम पर था। वर्ष 2014 में इराक के अल्पसंख्यक 'यजीदी' समुदाय के लोगों की आईएस के आतंकियों द्वारा नृशंस सामूहिक हत्याएं की गई थीं। ब्रिटेन ने इन सामूहिक नरसंहारों की बात अब जाकर 9 साल बाद मानी है। यजीदी पूर्वी सीरिया और उत्तर-पश्चिमी इराक में रहने वाला एक प्राचीन धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय है।

ब्रिटेन ने यह तब स्वीकारा है, जब 2021 में एक जर्मन अदालत ने इराक और सीरिया में यजीदियों के खिलाफ नरसंहार और मानवता के खिलाफ अपराधों में शामिल होने के लिए एक पूर्व आईएस आतंकवादी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। इसके बाद जर्मन सांसदों ने भी माना है कि इराक में आईएस आतंकवादियों ने बड़े पैमाने पर नरसंहार किया था।

2014 में हुआ था यजीदी लोगों का सामूहिक नरसंहार

यजीदी समुदाय के लोगों के सामूहिक नरसंहार के मामले में ब्रिटेन सरकार ने एक बयान जारी किया है। इसमें कहा गया है कि मिडिल ईस्ट के राज्य मंत्री लॉर्ड अहमद ने यजीदी लोगों के खिलाफ आईएसआईएस द्वारा किए गए अत्याचारों की नौवीं वर्षगांठ से पहले यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि नौ साल पहले साल 2014 में यजीदी आबादी को आईएस ने सामूहिक रूप से मारा था। उन्होंने यह भी कहा कि आज भी इसका असर महसूस किया जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि इसके कारण जिन लोगों का जीवन तबाह हो गया, उनके लिए न्याय और जवाबदेही महत्वपूर्ण है। 

आईएसआईएस के खात्मे की भूमिका जारी रखेंगे: ब्रिटेन 

उन्होंने कहा कि हमारी यह स्वीकारोक्ति केवल यह तय करने की हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है कि यजीदियों को न्याय मिले। उन्होंने आगे कहा कि ब्रिटेन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) को खत्म करने में अपनी भूमिका निभाना जारी रखेगा। इसमें आतंकवाद से प्रभावित समुदायों का पुनर्निर्माण और इसके जहरीले प्रचार के खिलाफ वैश्विक प्रयासों का नेतृत्व करना शामिल है।

इराक का प्राचीन अल्पसंख्यक समुदाय है यजीदी

अमेरिकी सरकार के अनुसार, आईएसआईएस ने 2014 में यजीदी नरसंहार शुरू किया था, जिसमें इराक के यजीदी अल्पसंख्यकों को बड़े पैमाने पर फांसी, सामूहिक बलात्कार, व्यवस्थित यौन दासता और जबरन श्रम और जबरन धर्म परिवर्तन के लिए निशाना बनाया गया था। यजीदी पूर्वी सीरिया और उत्तर-पश्चिमी इराक में रहने वाला एक प्राचीन धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय है। इस्लामिक स्टेट इन लोगों को उनके विश्वास के कारण 'शैतान' के उपासक के रूप में देखता है। ये पारसी, ईसाई, मनिचियन, यहूदी और मुस्लिम मान्यताओं को मानते हैं। 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement