1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. अमेरिका अन्य देशों को देगा फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन की 2 करोड़ खुराकें, जून के बाद होगी सप्लाई

अमेरिका अन्य देशों को देगा फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन की 2 करोड़ खुराकें, जून के बाद होगी सप्लाई

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि अमेरिका दूसरे देशों को फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के टीकों की 2 करोड़ खुराकें देगा।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 18, 2021 9:31 IST
अमेरिकी राष्ट्रपति...- India TV Hindi
Image Source : AP अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि अमेरिका दूसरे देशों को फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के टीकों की 2 करोड़ खुराकें देगा।

दुनिया के लगभग सभी देश इस समय कोरोना की विभीषिका से जूझ रहे हैं। दूसरी ओर वैक्सीनेशन का कार्यक्रम भी जोरों पर है। इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि अमेरिका दूसरे देशों को फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के टीकों की 2 करोड़ खुराकें देगा। जो बाइडन ने कहा कि दुनिया भर को इस समय वैक्सीन की जरूरत है। ऐसे में अमेरिका अन्य देशों के साथ अपनी वैक्सीन को साझा करेगा।  

बाइडन ने घोषणा करेत हुए कहा कि जून के अंत तक अमेरिका अपने सभी नागरिकों की जरूरत को पूरा करते हुए टीकों की डिलीवरी पूरा कर लगा। उसके बाद शेष बची 20 मिलियन खुराकों को छोटे देशों के साथ साझा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम इन टीकों को पूरी दुनिया में महामारी को समाप्त करने की सेवा में साझा करेंगे।

बाइडन की औपचारिक घोषणा से पहले एक वरिष्ठ अधिकारी ने अपनी पहचान नहीं उजागर करने की शर्त पर बताया कि ये खुराक फाइजर, मॉडर्ना या जॉनसन एंड जॉनसन के वर्तमान उत्पादन से साझा की जाएंगी। इससे पहले बाइडन प्रशासन ने जून के आखिर तक आस्ट्रेजेनेका टीके की छह करोड़ खुराक साझा करने का वादा किया था। वैसे अबतक बाइडन प्रशासन ने यह नहीं बताया कि वह इन खुराकों को कैसे साझा करेगा या फिर किन देशों को ये खुराक मिलेंगी।

भारत की सहायता के लिए अमेरिकी संसद में प्रस्ताव पेश

अमेरिकी सांसदों के एक समूह ने प्रतिनिधि सभा में एक प्रस्ताव पेश किया है, जिसमें बाइडन प्रशासन से कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए भारत को दी जाने वाली सहायता में बढ़ोत्तरी करने के प्रयास जारी रखने का अनुरोध किया गया है। सांसद ब्रैड शेर्मन और स्टीव चाबोट द्वारा पेश किए गए प्रस्ताव में अमेरिकी प्रशासन से निजी क्षेत्र के साथ मिलकर भारत को चिकित्सा सहायता सुविधा उपलब्ध कराने के साथ ही अतिरिक्त एवं तत्काल आधार पर ऑक्सीजन उत्पादक संयंत्र एवं क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकर और कंटेनर समेत अन्य आवश्यक चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति पर कार्य किए जाने का भी अनुरोध किया गया। देश में कोविड-19 के प्रसार की रोकथाम के लिए भारत के लोगों के एक साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए प्रस्ताव में प्रशासन द्वारा भारत को तत्काल मुहैया करायी गई चिकित्सा सहायता एवं टीके के कच्चे माल की आपूर्ति के लिए किए गए प्रयासों की सराहना की गई। प्रस्ताव में कहा गया कि अमेरिका के निजी क्षेत्र ने भी भारत में राहत उपलब्ध कराने के प्रयास में योगदान देते हुए देशभर के अस्पतालों के लिए 1,000 वेंटिलेटर और 25000 ऑक्सीजन सांद्रक उपलब्ध कराए।

bigg boss 15