Saturday, December 09, 2023

पुराने किस्से: देव आनंद के कारण साल 1954 की एक शाम मुंबई की सड़कों से गायब हो गई थीं टैक्सियां, जानिए वजह

पुराने किस्से: बॉलीवुड के दिग्गज स्टार व फिल्म मेकर देव आनंद के कारण एक ऐसा दिन भी आया था कि पूरी मुंबई की सड़कों से टैक्सियां गायब हो गई थीं। आइये जानते हैं क्या थी इसकी वजह...

Ritu Tripathi Written By: Ritu Tripathi @ritu_vishwanath
Updated on: September 24, 2023 20:32 IST
Dev Anand- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM Dev Anand

नई दिल्ली: देव आनंद को लोगों ने जो प्यार दिया है वह शायद किसी और स्टार को हासिल नहीं हो सका है। ऐसे कई किस्से सुनने में आते हैं जब लोगों ने सीमांओं के परे जाकर सुपरस्टार से अपना प्यार जताया। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि 1954 में बॉम्बे में एक शाम, मुंबई की सड़कों से टैक्सियां गायब हो गई थीं। क्योंकि शहर की लगभग सभी टैक्सियां एक व्यस्त सड़क पर एक फेमस सिनेमाघर के बाहर खड़ी थीं और उनके ड्राइवर, उनके एसोसिएशन के अध्यक्ष के साथ, अंदर एक फिल्म देख रहे थे। इस बात का खुलासा देव आनंद ने अपनी आत्मकथा 'रोमांसिंग विद लाइफ' में बड़े ही मजेदार तरीके से किया है। 

'टैक्सी ड्राइवर' फिल्म देखने में व्यस्त थे सभी टैक्सी ड्राइवर

यह फिल्म 'टैक्सी ड्राइवर' थी, जो हल्के-फुल्के शोरगुल वाली शहरी रोमांस फिल्म थी, जिसमें देव आनंद, कल्पना कार्तिक और शीला रमानी ने लीड रोल में थे। यह उस साल टैक्सी ड्राइवरों को दिखाने वाली फिल्म थी, देव आनंद के दोस्त गुरु दत्त ने भी अपनी 'आर पार' रिलीज की थी, जिसका फोकस और कहानी काफी हद तक समान थी, लेकिन कोई भी फिल्म दूसरे पर भारी नहीं पड़ी।

भाई के पैसों की तंगी दूर करने के लिए बनाई थी फिल्म

देव आनंद ने अपनी आत्मकथा 'रोमांसिंग विद लाइफ' में खुलासा किया है कि इस फिल्म का सुझाव उनके एक पुराने दोस्त ने दिया था, जिनसे वह एक रिकॉर्डिंग स्टूडियो में मिले थे, जब वह अपने नवकेतन बैनर के बाहर एक टैक्सी ड्राइवर की भूमिका के लिए काम कर रहे थे। 'बाजी' (1951) के बाद 'टैक्सी ड्राइवर' की भूमिका उनकी इमेज जैसी ही थी। नवकेतन को अपने पैसों की भरपाई के लिए 'बाजी' के बाद एक और हिट की जरूरत थी और उनके बड़े भाई चेतन आनंद व्यावसायिक रूप से कमजोर फिल्मों का निर्देशन करने के बाद उदास थे। देव आनंद ने उनके साथ इस विचार पर चर्चा की और पहले तो उन्होंने इसे मुस्कुरा कर टाल दिया, लेकिन बाद में उत्सुक हो गए। यह फिल्म उनके छोटे भाई विजय 'गोल्डी' आनंद की पटकथा-लेखक के रूप में पहली फिल्म थी।

कम बजट फिल्म से कमाया था खूब पैसा

देव आनंद ने खुलासा किया था कि यह फिल्म बहुत ही छोटी यूनिट के साथ बहुत ही कम बजट में बनाई गई थी, जिसे ज्यादातर शहर में लोकेशन पर, पूरे दिन, एक छोटे हाथ से पकड़े जाने वाले फ्रेंच कैमरे से शूट किया गया था और इसे शूट करने में केवल पांच सप्ताह लगे थे। उन्होंने कहा था कि फिल्म की शानदार सफलता ने साबित कर दिया, "पैसा जरूरी नहीं है"।

फिल्म 'टैक्सी ड्राइवर' मंगल (देव आनंद) के इर्द-गिर्द घूमती है, जो नाइट क्लब सिंगर सिल्वी (शीला रमानी) को सुनना पसंद करता है। लेकिन उसका जीवन तब मुश्किल हो जाता है जब वह माला (कल्पना कार्तिक) की मदद के लिए आता है। 

फिल्म की एक्ट्रेस से शूटिंग के बीच की शादी

देव आनंद के पास इस फिल्म को एक से अधिक कारणों से याद रखने का अच्छा कारण था। शूटिंग ब्रेक के दौरान वह और लीड एक्ट्रेस कल्पना कार्तिक गायब हो गए और पति-पत्नी के रूप में वापस आ गए। वह ईगल-आइड कैमरामैन वी. रात्रा ही थे जिन्होंने देखा कि नायिका एक अंगूठी पहने हुए थी, जो उसके पास पहले नहीं थी। दूसरी ओर, देव आनंद की उतावलेपन की वजह से उनके पिता के साथ झगड़ा हुआ, लेकिन वर्षों तक इसे चुपचाप भुला दिया गया और अंततः दोनों में सुलह हो गई। 

Parineeti Chopra और Raghav Chadha के पूरे हुए सात फेरे, RaagNeeti बने सात जन्मों के साथी

कंगना रनौत हैदराबाद के फेमस मंदिर में भक्ति करती आईं नजर, तस्वीरों के साथ बताया क्या मांगा आशीर्वाद

Latest Bollywood News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Bollywood News in Hindi के लिए क्लिक करें मनोरंजन सेक्‍शन