MP News: 'RSS और PFI की तुलना करने वालों को अपना ब्लड टेस्ट करवाना चाहिए', जानें साध्वी प्रज्ञा ने और क्या कहा

MP News: साध्वी ने कहा कि आरएसएस को बैन करने की बात करने वाले लोग कांग्रेसी हैं। दिग्विजय सिंह तो टुकड़े गैंग के साथ रहते हैं। उनके मंसूबे कभी पूरे नहीं होंगे।

Reported By : Anurag Amitabh Edited By : Rituraj TripathiPublished on: September 28, 2022 15:02 IST
Sadhvi Pragya- India TV Hindi
Image Source : FILE Sadhvi Pragya

Highlights

  • आरएसएस को बैन करने की बात करने वाले लोग कांग्रेसी: साध्वी
  • पीएम मोदी और अमित शाह ने पाकिस्तान को घर में घुसकर मारा: साध्वी
  • मुझे जान से मारने की धमकी आती रहती है: साध्वी

MP News: मध्य प्रदेश के भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ने PFI पर प्रतिबंध लगने के बाद बयान दिया है। उन्होंने कहा कि PFI आतंकी संगठन है और इसका साथ देने वाले भी आतंकवादी हैं। पीएम मोदी और गृह मंत्री को धन्यवाद देती हूं। उन्होंने कहा कि इस्लामिक राष्ट्र बनाने वालों की बात करने वालों की हिम्मत नहीं है कि देश में शरिया कानून लागू कर सकें। पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने पाकिस्तान को घर में घुसकर मारा है।

आरएसएस को बैन करने की बात करने वाले लोग कांग्रेसी: साध्वी

साध्वी ने कहा कि आरएसएस को बैन करने की बात करने वाले लोग कांग्रेसी हैं। दिग्विजय सिंह तो टुकड़े गैंग के साथ रहते हैं। उनके मंसूबे कभी पूरे नहीं होंगे। RSS और पीएफआई की तुलना करने वालों को अपना रक्त परीक्षण करवा लेना चाहिए। मुझे भी धमकी आती रहती है जान से मारने की लेकिन हम शठे शाठ्यम मान्यता वाले लोग हैं। हम निपट लेंगे।

पीएम मोदी और अमित शाह ने पाकिस्तान को घर में घुसकर मारा: साध्वी

साध्वी ने कहा कि पीएम मोदी और गृह मंत्री द्वारा पीएफआई को बैन करने का कदम स्वागत योग्य है। यह सनातन राष्ट्र सदैव सनातन राष्ट्र रहेगा। इस्लामिक राष्ट्र बनाने वालों में हिम्मत नहीं है। देशभक्त अपने देश की रक्षा के लिए सदैव तत्पर हैं। ये बीजेपी, पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की सरकार है। यह सब अपने कर्तव्य को निभा रहे हैं। पीएम मोदी और अमित शाह ने पाकिस्तान को घर में घुसकर मारा है। यहां पर किसी की हिम्मत नहीं है कि कोई शरिया कानून या इस्लामिक राष्ट्र को लागू कर सके।

आरएसएस की तुलना पीएफआई से करना भारतीयों के लिए असहनीय: साध्वी

साध्वी ने कहा कि आरएसएस की तुलना पीएफआई से करना भारतीय जनमानस के लिए असहनीय कदम है। इसलिए लोगों को जवाब दे दिया जाता है। आरएसएस ने स्वतंत्रता से पहले से ही राष्ट्रभक्ति शुरू की थी और आज तक करते चले आ रहे हैं। आरएसएस राष्ट्रभक्ति का पर्याय है। पीएफआई की तुलना आरएसएस से करना मतलब अपने रक्त का परीक्षण करवा लेना।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें मध्य-प्रदेश सेक्‍शन