Tuesday, June 25, 2024
Advertisement

G-7 शिखर सम्मेलन में शिरकत करेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, क्वाड में पीएम मोदी से करेंगे मुलाकात

जो बाइडेन 24 मई को ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में 'इन-पर्सन क्वाड लीडर्स समिट' में हिस्सा लेंगे। यहां बाइडेन जापान के पीएम फुमियो किशिदा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलियाई पीएम एंथनी अल्बनीज से मिलेंगे।

Written By: Malaika Imam @MalaikaImam1
Updated on: April 26, 2023 8:15 IST
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन G-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे। इसकी जानकारी व्हाइट हाउस ने दी है। 19-21 मई को जापान के हिरोशिमा में G-7 नेताओं की समिट होगी। वहीं, जो बाइडेन 24 मई को ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में 'इन-पर्सन क्वाड लीडर्स समिट' में हिस्सा लेंगे। यहां बाइडेन जापान के पीएम फुमियो किशिदा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलियाई पीएम एंथनी अल्बनीज से मिलेंगे। तीसरा 'इन-पर्सन क्वाड लीडर्स समिट' ऑस्ट्रेलियाई पीएम द्वारा आयोजित किया जा रहा है। 

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्वाड की बैठक के लिए चार दिवसीय ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाएंगे। इस दौरान पीएम मोदी 23 मई को इंडियन डायस्पोरा के बड़े कम्यूनिटी इवेंट को सिडनी में संबोधित करेंगे। पीएम मोदी क्वाड की बैठक में भारत-प्रशांत क्षेत्र के विकास और पारस्परिक हित के समकालीन वैश्विक मुद्दों के बारे में विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। क्वाड समिट में समुद्री क्षेत्र, अंतरिक्ष, जलवायु परिवर्तन, स्वास्थ्य और साइबर सुरक्षा में निरंतर सहयोग पर चर्चा होगी।

क्या है G-7 शिखर सम्मेलन? 

G-7 दुनिया की 7 सबसे बड़ी और विकसित अर्थव्‍यवस्‍था वाले देशों का ग्रुप है, इसलिए इसे G-7 समूह के नाम से भी जाना जाता है। इस समूह में जर्मनी, इटली, ब्र‍िटेन, अमेरिका, जापान, फ्रांस और कनाडा शामिल है। ये ऐसे देश हैं जो अपनी कम्‍यूनिटी वैल्‍यूज को मानते हैं। यानी ये देश स्‍वतंत्रता, मानवाधिकारों, लोकतंत्र और विकास के सिद्धांत पर चलते हैं।

क्या है G-7 का उद्देश्य?

हर साल यह ग्रुप शिखर सम्मेलन का आयोजन करता है। इस बैठक में मानव हितों से संबंधित मुद्दों पर चर्चा होती है। इस सम्मेलन में अलग-अलग वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करते हैं और उसका समाधान ढूंढने पर फोकस करते हैं। जैसे- जलवायु परिवर्तन, एनर्जी पॉलिसी आदि। यह ग्रुप 6 देशों का यानी G-6 था। इस ग्रुप का गठन साल 1975 में किया गया था। इस साल इसकी पहली बैठक आयोजित हुई थी। पहली बैठक में दुनिया भर में बढ़ रहे आर्थिक संकट और उसके समाधान पर बात की गई थी। 1976 में इस ग्रुप में कनाडा जुड़ा और इस तरह यह G-6 से G-7 में तब्दील हो गया। इस सम्‍मेलन में ग्रुप के 7 देशों के अलावा दूसरे देशों के प्रतिनिध‍ियों को भी आमंत्र‍ित किया जाता है। पिछले साल भारत से प्रधानमंत्री मोदी ने शिरकत की थी।

क्या है क्वाड का उद्देश्य?

क्वाड यानी क्वॉड्रिलैटरल सिक्योरिटी डायलॉग, यह भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया चार देशों का ग्रुप है। साल 2007 में जापान के तत्कालीन प्रधानमंत्री शिंजो आबे की पहल पर इस संगठन का गठन हुआ था। चीन के विरोध करने पर साल 2010 में ऑस्ट्रेलिया क्वाड से अलग हो गया था। साल 2017 में क्वाड गठबंधन को पुनर्जीवित किया गया और इसकी पहली आधिकारिक बैठक फिलीपींस में हुई। क्वाड का प्रमुख उद्देश्य हिंद-प्रशांत क्षेत्र के समुद्री रास्तों पर चीन के दबदबे को खत्म करना है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement