China Taiwan: ताइवान से अमेरिका को मिल रही ये खास 'चीज', जिसके चलते चीन से दुश्मनी मोल लेने को तैयार, US के लिए लालच से बढ़कर कुछ नहीं!

ताइवान के साथ फिर से जुड़ने का चीन का दीर्घकालिक लक्ष्य अब अमेरिकी हितों के लिए अधिक खतरा है। 1971 के शंघाई कम्युनिक और 1979 के ताइवान संबंध अधिनियम में, अमेरिका ने माना कि मुख्य भूमि चीन और ताइवान दोनों में लोगों का मानना ​​​​था कि यह 'वन चीन' था और वे दोनों इसका हिस्सा थे।

Shilpa Written By: Shilpa
Published on: August 07, 2022 12:21 IST
China Taiwan US Chip Market- India TV Hindi News
Image Source : PTI/AP China Taiwan US Chip Market

Highlights

  • चीन के खिलाफ ताइवान के साथ अमेरिका
  • अमेरिका को ताइवान से मिल रहीं चिप
  • बाजार में ताइवान की कंपनी की धाक

China Taiwan: नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा का एक पहलू जिसकी काफी हद तक अनदेखी की गई है, वह है ताइवान सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग कॉरपोरेशन (टीएसएमसी) के अध्यक्ष मार्क लुई के साथ उनकी मुलाकात। पेलोसी की यात्रा टीएसएमसी- दुनिया की सबसे बड़ी चिप निर्माता कंपनी, जिस पर अमेरिका बहुत अधिक निर्भर है, को अमेरिका में विनिर्माण आधार स्थापित करने और चीनी कंपनियों के लिए उन्नत चिप्स बनाने से रोकने के लिए अमेरिकी प्रयासों का हिस्सा है। ताइवान के लिए अमेरिकी समर्थन ऐतिहासिक रूप से बीजिंग में साम्यवादी शासन के वाशिंगटन के विरोध और चीन द्वारा ताइवान के अवशोषण के प्रतिरोध पर आधारित रहा है। 

लेकिन हाल के वर्षों में सेमीकंडक्टर के विनिर्माण बाजार पर द्वीप के प्रभुत्व के कारण ताइवान की स्वायत्तता अमेरिका के लिए एक महत्वपूर्ण भू-राजनीतिक हित बन गई है। सेमीकंडक्टर्स, जिन्हें कंप्यूटर चिप्स या सिर्फ चिप्स के रूप में भी जाना जाता है, उन सभी नेटवर्क उपकरणों के अभिन्न अंग हैं, जो हमारे जीवन में अंतर्निहित हो गए हैं। उनके उन्नत सैन्य उपयोग भी हैं। परिवर्तनकारी, सुपर-फास्ट 5जी इंटरनेट का उद्भव हर तरह के कनेक्टेड डिवाइस ('इंटरनेट ऑफ थिंग्स') और नेटवर्क वाले हथियारों की एक नई पीढ़ी को सक्षम कर रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए, अमेरिकी अधिकारियों ने ट्रंप प्रशासन के दौरान महसूस करना शुरू कर दिया कि अमेरिकी सेमीकंडक्टर डिजाइन कंपनियां, जैसे कि इंटेल, अपने उत्पादों के निर्माण के लिए एशियाई-आधारित आपूर्ति श्रृंखलाओं पर बहुत अधिक निर्भर थीं।

टीएसएमसी की 53 फीसदी है हिस्सेदारी

विशेष रूप से, सेमीकंडक्टर निर्माण की दुनिया में ताइवान की स्थिति कुछ हद तक ओपेक में सऊदी अरब की स्थिति की तरह है। टीएसएमसी की वैश्विक फाउंड्री बाजार (अन्य देशों में डिजाइन किए गए चिप्स बनाने के लिए अनुबंधित कारखाने) में 53% बाजार हिस्सेदारी है। अन्य ताइवान स्थित निर्माता बाजार के 10% हिस्से पर अपना दावा रखते हैं। नतीजतन, बाइडेन प्रशासन की 100-दिवसीय आपूर्ति श्रृंखला समीक्षा रिपोर्ट कहती है, 'अमेरिका अपने आधुनिकतम चिप्स के उत्पादन के लिए एक ही कंपनी- टीएसएमसी पर बहुत अधिक निर्भर है।' 

तथ्य यह है कि केवल टीएसएमसी और सैमसंग (दक्षिण कोरिया) सबसे उन्नत सेमीकंडक्टर (पांच नैनोमीटर के रूप में जाना जाता है) बना सकते हैं ' जो वर्तमान और भविष्य की राष्ट्रीय सुरक्षा और महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे की जरूरतों को पूरा करने की क्षमता को जोखिम में डालते हैं'। इसका मतलब है कि ताइवान के साथ फिर से जुड़ने का चीन का दीर्घकालिक लक्ष्य अब अमेरिकी हितों के लिए अधिक खतरा है। 1971 के शंघाई कम्युनिक और 1979 के ताइवान संबंध अधिनियम में, अमेरिका ने माना कि मुख्य भूमि चीन और ताइवान दोनों में लोगों का मानना ​​​​था कि यह 'वन चीन' था और वे दोनों इसका हिस्सा थे। लेकिन अमेरिका के लिए यह अकल्पनीय है कि टीएसएमसी एक दिन बीजिंग द्वारा नियंत्रित क्षेत्र में हो सकता है।

तकनीकी युद्ध की तरफ दोनों देश 

इस कारण से अमेरिका घरेलू चिप उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए टीएसएमसी को अमेरिका की ओर आकर्षित करने का प्रयास कर रहा है। 2021 में, बाइडेन प्रशासन के समर्थन से, कंपनी ने एरिजोना में एक साइट खरीदी, जिस पर एक अमेरिकी फाउंड्री का निर्माण किया गया। इसे 2024 में पूरा करने की योजना है। अमेरिकी कांग्रेस ने अभी-अभी चिप्स और विज्ञान अधिनियम पारित किया है, जो अमेरिका में सेमीकंडक्टर के निर्माण का समर्थन करने के लिए सब्सिडी में 52 अरब डॉलर प्रदान करता है। लेकिन कंपनियां चिप्स एक्ट फंडिंग तभी प्राप्त करेंगी, जब वे चीनी कंपनियों के लिए उन्नत सेमीकंडक्टर का निर्माण नहीं करने के लिए सहमत हों।

इसका मतलब यह है कि टीएसएमसी और अन्य को चीन और अमेरिका में व्यापार करने के बीच चयन करना पड़ सकता है क्योंकि अमेरिका में निर्माण की लागत सरकारी सब्सिडी के बिना बहुत अधिक मानी जाती है। यह सब अमेरिका और चीन के बीच एक व्यापक 'तकनीकी युद्ध' का हिस्सा है, जिसमें अमेरिका का लक्ष्य चीन के तकनीकी विकास को रोकना है और इसे वैश्विक तकनीकी नेतृत्व की भूमिका निभाने से रोकना है। 2020 में ट्रंप प्रशासन ने चीनी तकनीकी दिग्गज हुआवेई पर कड़े प्रतिबंध लगाए, जो कंपनी को टीएसएमसी से अलग करने की योजना का हिस्सा थे, जिस पर वह अपने 5जी बुनियादी ढांचे के व्यवसाय के लिए आवश्यक उन्नत सेमीकंडक्टर्स के उत्पादन के लिए निर्भर था।

अमेरिका को था जोखिम का डर

हुआवेई 5जी नेटवर्क उपकरणों का दुनिया का प्रमुख आपूर्तिकर्ता था, लेकिन अमेरिका को डर था कि इसके चीनी मूल से सुरक्षा जोखिम पैदा हो सकता है (हालांकि इस दावे पर सवाल उठाया गया है)। प्रतिबंध अभी भी लागू हैं क्योंकि रिपब्लिकन और डेमोक्रेट दोनों ही अन्य देशों को हुआवेई के 5जी उपकरण का उपयोग करने से रोकना चाहते हैं। ब्रिटिश सरकार ने शुरू में यूके के 5जी नेटवर्क के कुछ हिस्सों में हुआवेई उपकरण का उपयोग करने का निर्णय लिया था। ट्रंप प्रशासन के प्रतिबंधों ने लंदन को उस निर्णय को उलटने के लिए मजबूर कर दिया। इस संबंध में अमेरिका का एक प्रमुख लक्ष्य महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों के लिए चीन या ताइवान में आपूर्ति श्रृंखलाओं पर अपनी निर्भरता को समाप्त करना प्रतीत होता है, जिसमें 5जी सिस्टम के लिए आवश्यक उन्नत सेमीकंडक्टर्स शामिल हैं, लेकिन भविष्य में अन्य उन्नत तकनीक शामिल हो सकते हैं।

पेलोसी की ताइवान यात्रा 'तकनीकी युद्ध' में ताइवान के महत्वपूर्ण स्थान से कहीं अधिक थी। लेकिन इसकी सबसे महत्वपूर्ण कंपनी के प्रभुत्व ने द्वीप को एक नया और महत्वपूर्ण भू-राजनीतिक महत्व दिया है, जिससे द्वीप की स्थिति को लेकर अमेरिका और चीन के बीच मौजूदा तनाव बढ़ने की संभावना है।

Latest World News

navratri-2022