Wednesday, February 28, 2024
Advertisement

पाकिस्तान में कैसे मारे जा रहे भारत के दुश्मन और US में पन्नू की हत्या की कोशिश में किसका हाथ, सुनिये ये चौंकाने वाला जवाब

पाकिस्तान से लेकर कनाडा तक में अचानक भारत के दुश्मनों का सफाया कौन कर रहा है। आखिर कौन भारत के दुश्मनों को चुन-चुन कर साफ कर रहा है। इस पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने खुलकर जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने इन सारे मुद्दों पर भारत के रोल के आरोप पर बड़ी बात कही है।

Dharmendra Kumar Mishra Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Published on: December 07, 2023 19:26 IST
अरिंदम बागची, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता।- India TV Hindi
Image Source : PTI अरिंदम बागची, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता।

पाकिस्तान में अज्ञात बंदूकधारियों के निशाने से मारे जा रहे भारत के दुश्मनों और खूंखार आतंकवादियों की हत्या से लेकर अमेरिका में खालिस्तानी नेता गुरपतवंत सिंह के मर्डर के प्रयास जैसी वारदातें अचानक बढ़ने की वजह क्या हैं?...आखिर किस जुगाड़ से भारत के दुश्मनों का पाकिस्तान से लेकर कनाडा तक में चुन-चुन कर एक के बाद एक का सफाया होता जा रहा है। आखिर ये अज्ञात बंदूकधारी क्यों हैं। खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या पर कनाडा और गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की कोशिश पर अमेरिका को भारत पर शक क्यों हो रहा है। इन सारे सवालों पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने क्रमवार जवाब दिया है। 

 

बागची ने कहा कि जो लोग भारत में आपराधिक और आतंकवादी गतिविधियों के लिए न्याय का सामना करना चाहते हैं, हम चाहेंगे कि वे भारत आएं और हमारी कानूनी प्रणाली का सामना करें, लेकिन मैं पाकिस्तान में हो रहे घटनाक्रम पर टिप्पणी नहीं कर सकता'। वहीं एसएफजे प्रमुख गुरपतवंत सिंह पन्नू के खिलाफ मुकदमा चलाने पर अरिंदम बागची कहते हैं, "वह कानून के उल्लंघन के लिए हमारी एजेंसियों द्वारा वांछित है और एक प्रक्रिया है जिसके तहत हम सहायता मांगते हैं और उन पर मुकदमा चलाया जाता है, यह इस पर निर्भर करता है कि अपराध किया गया है या नहीं। उन्होंने कहा कि भारत में किस तरह के अपराधों के लिए वह जिम्मेदार है, इसके बारे में विस्तार से अनुरोध किया गया है। हमने भारत या भारतीय राजनयिकों के खिलाफ चरमपंथियों या आतंकवादियों द्वारा की गई किसी भी धमकी के बारे में अपने साझेदारों को चिंताओं से अवगत कराया है। 

कनाडा में मरते हैं सबसे ज्यादा भारतीय छात्र

विदेश में मरने वाले भारतीय छात्रों की संख्या कनाडा में सबसे अधिक होने पर अरिंदम बागची कहते हैं, "कनाडा में भारतीय छात्रों की संख्या बसे अधिक है, लेकिन मैं आग्रह करूंगा कि उन्हें उस देश में भारतीय छात्रों की कुल संख्या के संबंध में देखा जाए।" . हमें यह देखने की आवश्यकता होगी कि क्या ये हिंसा या कार दुर्घटनाओं के कारण हैं। मुझे नहीं पता कि क्या यह एक ऐसा मुद्दा है जिसे सरकार के समक्ष उठाया जाना चाहिए। ऐसी व्यक्तिगत घटनाएं हैं, जहां किसी तरह का अन्याय हुआ है तो हमारे वाणिज्य दूतावास परिवारों तक पहुंचते हैं, हम अभियोजन या अन्य जांच के लिए इसे स्थानीय अधिकारियों के साथ भी उठाते हैं। 

पीओके पर भारत का दावा पाक द्वारा खारिज करने पर बोले बागची

 लोकसभा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का वह बयान जिसमें उन्होंने कहा कि 'पीओके हमारा है' और उनकी टिप्पणी को पाकिस्तान द्वारा खारिज किए जाने पर अरिंदम बागची कहते हैं, "...मुझे नहीं लगता कि वास्तव में पीओके पर अपना रुख दोहराने की जरूरत है। मुझे इसकी जरूरत नहीं है।" संसद में गृह मंत्री के बयान पर गौर करें। पीओके पर हमारी स्थिति बहुत स्पष्ट है, हम इसे भारत का हिस्सा मानते हैं और हमें निश्चित रूप से अपना बयान बदलने का कोई कारण नहीं दिखता। "

कतर में 8 सैनिकों की मौत की सजा को टालने का कर रहे प्रयास

कतर में 8 नौसैनिकों को मौत की सजा सुनाए जाने के मामले पर बागची ने कहा कि भारतीय दूत ने उनसे मुलाकात की है। इसके अलावा हाल ही में दुबई में कॉप-28 के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कतर के शासक शेख तमीम बिन हमद अल-थानी के साथ  शिखर सम्मेलन से इतर मुलाकात हुई है। इस मामले में 2 सुनवाई हो चुकी हैं। हमने परिवारों की ओर से एक अपील दायर की है।हम मामले पर बारीकी से नजर रख रहे हैं और सभी कानूनी और कांसुलर सहायता प्रदान कर रहे हैं। इस बीच, हमारे राजदूत को 3 दिसंबर को जेल में उन सभी 8 लोगों से मिलने के लिए काउंसलर पहुंच मिली। यह एक संवेदनशील मुद्दा है, लेकिन हम इसका पालन करना जारी रखेंगे और जो भी हो हम साझा कर सकते हैं, हम ऐसा करेंगे।" अफगान दूतावास के मुद्दे पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची कहते हैं, "नई दिल्ली में अफगान दूतावास और मुंबई और हैदराबाद में वाणिज्य दूतावास काम कर रहे हैं। 

एसएफजे प्रमुख पन्नू की संसद पर हमले की धमकी पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची कहते हैं, "हम धमकियों को गंभीरता से लेते हैं। हम यहां एक बंधन में फंस गए हैं। मैं उन चरमपंथियों की खोज के लिए बहुत अधिक विश्वसनीयता नहीं बढ़ाना चाहता जो धमकियां देते हैं और बहुत कुछ हासिल करते हैं।

 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement