1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. तुर्की ने फिर की 'गंदी' हरकत, UNGA में अलापा कश्मीर का राग

तुर्की ने फिर की 'गंदी' हरकत, UNGA में अलापा कश्मीर का राग

एर्दोगन ने मंगलवार को जनरल डिबेट में अपने संबोधन में कहा: "हम 74 वर्षों से कश्मीर में चल रही समस्या को पक्षों के बीच बातचीत के माध्यम से और प्रासंगिक संयुक्त राष्ट्र प्रस्तावों के ढांचे के भीतर हल करने के पक्ष में अपना रुख बनाए रखते हैं।" 

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: September 22, 2021 10:36 IST
Turkey raises kashmir issue in UNGA तुर्की ने UNGA में फिर अलापा कश्मीर का राग- India TV Hindi
Image Source : AP तुर्की ने UNGA में फिर अलापा कश्मीर का राग

न्यूयॉर्क. तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के उच्च स्तरीय सत्र में विश्व नेताओं को अपने संबोधन में एक बार फिर कश्मीर का राग अलापा है। पिछले साल भी, एर्दोगन ने जनरल डिबेट में अपने पहले से रिकॉर्ड किए गए वीडियो बयान में जम्मू-कश्मीर का जिक्र किया था। उस समय भारत ने इसे "पूरी तरह से अस्वीकार्य" करार देते हुए कहा था कि तुर्की को अन्य देशों की संप्रभुता का सम्मान करना सीखना चाहिए और अपनी नीतियों पर अधिक गहराई से विचार करना चाहिए।

एर्दोगन ने मंगलवार को जनरल डिबेट में अपने संबोधन में कहा: "हम 74 वर्षों से कश्मीर में चल रही समस्या को पक्षों के बीच बातचीत के माध्यम से और प्रासंगिक संयुक्त राष्ट्र प्रस्तावों के ढांचे के भीतर हल करने के पक्ष में अपना रुख बनाए रखते हैं।" पाकिस्तान के करीबी सहयोगी तुर्की के राष्ट्रपति ने उच्च स्तरीय जनरल डिबेट में अपने संबोधन में बार-बार कश्मीर का मुद्दा उठाया है। उन्होंने पिछले साल अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान भी कश्मीर का मुद्दा उठाया था।

उस समय विदेश मंत्रालय (MEA) ने कहा है कि एर्दोगन की टिप्पणी न तो इतिहास की समझ और न ही कूटनीति के संचालन को दर्शाती है और इसका तुर्की के साथ भारत के संबंधों पर मजबूत प्रभाव पड़ेगा। MEA ने कहा कि भारत तुर्की द्वारा बार-बार पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर में किए जा रहे आतंकवाद के सही ठहराने के प्रयास को खारिज करता है।

तुर्की के राष्ट्रपति ने मंगलवार को अपने संबोधन में शिनजियांग में चीन के अल्पसंख्यक मुस्लिम उइगर और म्यांमार के रोहिंग्या का भी जिक्र किया। एर्दोगन ने कहा कि "चीन की क्षेत्रीय अखंडता के परिप्रेक्ष्य में, हम मानते हैं कि मुस्लिम उइगर तुर्कों के मूल अधिकारों के संरक्षण के संबंध में और अधिक प्रयासों को प्रदर्शित करने की आवश्यकता है।"

अमेरिका और यूरोपीय संघ के अलावा कई अन्य देशों ने चीन पर संसाधन संपन्न शिनजियांग में उइगरों के खिलाफ नरसंहार करने का आरोप लगाया है और मानवाधिकार समूहों द्वारा अंतरराष्ट्रीय जांच की मांग की है। एर्दोगन ने कहा, "हम बांग्लादेश और म्यांमार के शिविरों में कठिन परिस्थितियों में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों की सुरक्षित, स्वैच्छिक, सम्मानजनक वापसी सुनिश्चित करने का भी समर्थन करते हैं।"

Click Mania
bigg boss 15