1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. कृषि कानून वापस लेने को तैयार नहीं सरकार, किसानों से बातचीत में गतिरोध: सूत्र

कृषि कानून वापस लेने को तैयार नहीं सरकार, किसानों से बातचीत में गतिरोध: सूत्र

सूत्रों से खबर मिली है कि सरकार ने किसान नेताओं से साफ तौर पर कह दिया है कि कृषि कानूनों को वापस लेना संभव नहीं है। हालांकि, संशोधन किया जा सकता है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: December 05, 2020 18:56 IST
कृषि कानून वापस लेने को तैयार नहीं सरकार, किसानों से बातचीत में गतिरोध: सूत्र- India TV Hindi
Image Source : PTI कृषि कानून वापस लेने को तैयार नहीं सरकार, किसानों से बातचीत में गतिरोध: सूत्र

नई दिल्ली: दिल्ली के विज्ञान भवन में किसान नेताओं और सरकार के बीच बातचीत हुई। लेकिन, बातचीत किसी नतीजे पर नहीं पहुंची। सूत्रों से खबर मिली है कि सरकार ने किसान नेताओं से साफ तौर पर कह दिया है कि कृषि कानूनों को वापस लेना संभव नहीं है। हालांकि, संशोधन किया जा सकता है। सूत्रों ने बताया कि सरकार ने कृषि कानूनों में संशोधन का प्रस्ताव किसानों के सामने रखा है लेकिन किसान नेता कानूनों को वापस लिए जाने की मांग पर अड़े हैं। अब सरकार और किसानों के बीच अगली बैठक 9 दिसंबर को होगी।

बता दें कि नए कृषि कानूनों के मुद्दे पर किसान प्रतिनिधियों और केंद्र सरकार के बीच विज्ञान भवन में शनिवार को पांचवें दौर की बातचीत हुई। सूत्रों के अनुसार, सरकार की तरफ से साफ किया गया है कि तीनों कानूनों को पूरी तरह वापस नहीं लिया जा सकता। हालांकि सरकार किसानों के सुझावों पर विचार करने, बातचीत करने और संशोधन करने को तैयार है। किसानों और सरकार के बीच बातचीत में केंद्र सरकार ने किसानों की कुछ मांगों पर विचार करने के संकेत दिए हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों से शनिवार को कहा कि सरकार सौहार्दपूर्ण बातचीत के लिए प्रतिबद्ध है। सूत्रों ने यह जानकारी दी। सूत्रों ने कहा कि 40 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ पांचवें दौर की वार्ता में अपने प्रारंभिक वक्तव्य में तोमर ने नये कृषि कानूनों पर प्रतिक्रिया का स्वागत भी किया।

सरकार और प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के बीच बातचीत यहां विज्ञान भवन में अपराह्न करीब 2.30 बजे शुरू हुई। तोमर समेत तीन केंद्रीय मंत्री इस समय किसान नेताओं के साथ बातचीत कर रहे हैं। रेल, वाणिज्य और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश भी बैठक में मौजूद हैं। सोम प्रकाश पंजाब से सांसद हैं।

सूत्रों के अनुसार केंद्र की ओर से वार्ता की अगुवाई कर रहे तोमर ने अपने आरंभिक वक्तव्य में कहा कि सरकार किसान नेताओं के साथ सौहार्दपूर्ण बातचीत के लिए प्रतिबद्ध है और किसानों की भावनाओं को आहत नहीं करना चाहती। कृषि मंत्री ने तीनों नये कृषि कानूनों पर प्रतिक्रियाओं का स्वागत किया।

गौरतलब है कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन भी आज 10वें दिन जारी है। यमुना एक्सप्रेसवे पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बैरीकेड तोड़ कर दिल्ली की तरफ बढ़ने की कोशिश की, जिसके बाद पुलिस ने उग्र हुए किसानों को हिरासत में ले लिया है।

Click Mania
bigg boss 15