1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. कांग्रेस के आंतरिक मामलों को सार्वजनिक न करें, कार्यकर्ताओं को दुख होता है: पवन खेड़ा

कांग्रेस के आंतरिक मामलों को सार्वजनिक न करें, कार्यकर्ताओं को दुख होता है: पवन खेड़ा

वरिष्ठ नेता पवन खेड़ा ने कहा, करोड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता इस तरह की हरकतों के कारण पीड़ा महसूस कर रहे हैं।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: September 30, 2021 17:58 IST
Pawan Khera, Pawan Khera Amarinder Singh, Pawan Khera Congress, Pawan Khera Amit Shah- India TV Hindi
Image Source : PTI पवन खेड़ा ने कहा कि कांग्रेस अपने नेताओं को विचार व्यक्त करने के लिए पर्याप्त स्वतंत्रता देती है।

अहमदाबाद: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल द्वारा पार्टी के कामकाज पर सवाल उठाने और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ बैठक के एक दिन बाद, कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि पार्टी नेताओं को आंतरिक मामलों को सार्वजनिक नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं को दुख पहुंचता है। यह कहते हुए कि कांग्रेस अपने नेताओं को विचार व्यक्त करने के लिए पर्याप्त स्वतंत्रता देती है, उन्होंने कहा कि ‘अनुशासन’ के लिए आंतरिक मामलों पर सार्वजनिक रूप से चर्चा नहीं की जानी चाहिए और उन्हें उचित मंच पर ही उठाया जाना चाहिए।

‘पीड़ा महसूस कर रहे हैं करोड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता’

खेड़ा ने कहा, ‘करोड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता इस तरह की हरकतों के कारण पीड़ा महसूस कर रहे हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को ऐसे मामलों पर उचित मंच पर चर्चा करनी चाहिए, सार्वजनिक रूप से नहीं। बीजेपी और कांग्रेस में अंतर है। चूंकि हमारी पार्टी में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर कोई प्रतिबंध नहीं है, हमारे नेताओं को एक उचित मंच पर अपनी राय रखने की जरूरत है। अगर आपका पारिवारिक विवाद होता है, तब आप इसे आंतरिक रूप से सुलझाना पसंद करेंगे या अपने पड़ोसी की छत पर जाकर इसके बारे में बात करेंगे? अनुशासन होना चाहिए, जो एक परिवार, एक संगठन और एक देश को चलाने के लिए आवश्यक है।’

‘अमरिंदर ने पार्टी कार्यकर्ताओं को चोट पहुंचाई’
बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कपिल सिब्बल ने पंजाब में हो रही घटनाओं के मद्देनजर पार्टी आलाकमान पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि पार्टी कार्यकर्ताओं को यह नहीं पता कि पूर्णकालिक अध्यक्ष की अनुपस्थिति में कौन निर्णय ले रहा है। कपिल सिब्बल उस ‘जी-23’ का हिस्सा हैं, जिन्होंने पिछले साल सोनिया गांधी को पत्र लिखकर संगठनात्मक बदलाव की मांग की थी। पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के कुछ दिनों बाद अमरिंदर सिंह की अमित शाह के साथ बैठक के बारे में पूछे जाने पर, खेड़ा ने नाखुशी व्यक्त करते हुए दावा किया कि सिंह के कदम ने पार्टी कार्यकर्ताओं को चोट पहुंचाई है।

bigg boss 15