1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. उत्तराखंड: 19 मार्च को BJP विधानमंडल की बैठक! 20 को नए सीएम और मंत्री ले सकते हैं शपथ

उत्तराखंड: 19 मार्च को BJP विधानमंडल की बैठक! 20 को नए सीएम और मंत्री ले सकते हैं शपथ

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री के चयन में भाजपा हाईकमान का फैसला चौंकाने वाला हो सकता है। वर्ष 2017 से अब तक तीन बार मुख्यमंत्रियों के चयन में हाईकमान कुछ अप्रत्याशित फैसले ले चुका है। चौथी विधानसभा के दौरान भाजपा ने राज्य को तीन-तीन मुख्यमंत्री दिए, लेकिन मुख्यमंत्री के ऐलान में कई बार शीर्ष नेतृत्व ने पार्टी कार्यकर्ताओं को चौंकाया है।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Updated on: March 14, 2022 15:43 IST
BJP Leaders- India TV Hindi
Image Source : IANS BJP Leaders

Highlights

  • राज्य का नया मुख्यमंत्री कौन होगा, यह केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा
  • मुख्यमंत्री और संभावित कैबिनेट को लेकर मंथन करने में जुटा पार्टी आलाकमान

देहरादून: उत्तराखंड में नई सरकार को लेकर माथापच्ची जारी है ऐसा माना जा रहा है कि आगामी 19 मार्च को देहरादून में विधानमंडल दल की बैठक हो सकती है। पार्टी द्वारा बनाए गए पर्यवेक्षकों को 19 तारीख को देहरादून भेजा जा सकता है, जहां वह विधायकों से चर्चा कर मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा कर सकते हैं, माना जा रहा है कि 20 मार्च को नए मुख्यमंत्री अपने मंत्रिमंडल के साथ शपथ भी ले सकते हैं। आपको बता दें पार्टी आलाकमान ना केवल मुख्यमंत्री बल्कि मुख्यमंत्री की संभावित कैबिनेट को लेकर भी खासा मंथन करने में जुटा हुआ है, इसलिए ज्यादातर नेता दिल्ली की राह पकड़ चुके हैं।

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री के चयन में भाजपा हाईकमान का फैसला चौंकाने वाला हो सकता है। वर्ष 2017 से अब तक तीन बार मुख्यमंत्रियों के चयन में हाईकमान कुछ अप्रत्याशित फैसले ले चुका है। चौथी विधानसभा के दौरान भाजपा ने राज्य को तीन-तीन मुख्यमंत्री दिए, लेकिन मुख्यमंत्री के ऐलान में कई बार शीर्ष नेतृत्व ने पार्टी कार्यकर्ताओं को चौंकाया है। विधानसभा चुनाव 2022 में सीएम पुष्कर सिंह धामी की हार के बाद भाजपा कई विकल्प पर विचार कर रही है। जिन नेताओं को मुख्यमंत्री का दायित्व दिया गया, उन्हें भी अंतिम क्षणों में जाकर खबर लगी। वर्ष 2017 में मोदी लहर में जीत के बाद आए 57 विधायकों में से पार्टी ने पहले त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री बनाया था। फिर मार्च 2020 में अप्रत्याशित रूप से त्रिवेंद्र को हटाकर गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत को प्रदेश की कमान सौंप दी। तीरथ का कार्यकाल भी चार महीने ही रह पाया।

हाईकमान ने एक बार फिर हैरान करते हुए खटीमा विधायक पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री बनाया। पहले तीरथ और उनके बाद पुष्कर की एंट्री की किसी को भी उम्मीद नहीं थी, लेकिन हाईकमान ने दोनों नेताओं पर विश्वास जताते हुए जिम्मेदारियां सौंपी। इस बार भी अधिकांश विधायक मोदी मैजिक की बदौलत ही जीतने में कामयाब रहे हैं। ऐसे में एक बार फिर से पार्टी नेता हाईकमान के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। माना जा रहा है कि इस बार भी पहले की तरह ही अप्रत्याशित चेहरा सामने आ सकता है। सीएम का नाम केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा।

कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि राज्य का नया मुख्यमंत्री कौन होगा, यह केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा। उन्होंने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को मिली हार पर बोलते हुए कहा कि धामी ने संगठन को जिताने के लिए काम किया। भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचे कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि राज्य की जनता ने उत्तराखंड के विकास के लिए दोबारा भारतीय जनता पार्टी को राज्य की सत्ता सौंपी। उन्होंने कहा कि भाजपा कोई प्राइवेट लिमिटेड कंपनी नहीं है। यह एक संगठन है और संगठन ही चुनाव लड़ाने से लेकर अन्य सभी जिम्मेदारियां तय करता है।

सत्ता वापसी में महिलाओं की बड़ी भूमिका: कोटद्वार विधायक ऋतु खंडूरी ने कहा कि विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की जीत में उत्तराखंड की महिलाओं ने बड़ी भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि महिला शक्ति की वजह से ही राज्य में सत्ता में वापसी का मिथक टूटा है। शनिवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय में कार्यकर्ताओं की ओर से आयोजित स्वागत समारोह में ऋतु खंडूरी ने कहा कि उत्तराखंड की आधी आबादी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व पर भरोसा जताते हुए भाजपा के पक्ष में मतदान किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उत्तराखंड के प्रति आस्था है और राज्य की जनता को उन पर पूरा भरोसा किया।

(इनपुट- एजेंसी)