Monday, June 24, 2024
Advertisement

भाजपा के इस उम्मीदवार के पास 4500 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति, कभी कांग्रेस में थे

कभी बीआरएस और कांग्रेस में नेता रहे के. विश्वेश्वर रेड्डी इस बार भाजपा के टिकट पर तेलंगाना की चेवेल्ला सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने हलफनामे में बताया है कि उनके पास कुल 4568 करोड़ रुपये की पारिवारिक संपत्ति है।

Edited By: Subhash Kumar @ImSubhashojha
Updated on: April 23, 2024 20:44 IST
कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी।- India TV Hindi
Image Source : SOCIAL MEDIA कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी।

भारत में इस वक्त दुनिया के सबसे बडे़ चुनाव यानी लोकसभा चुनाव 2024 का आयोजन किया जा रहा है। कुल 543 संसदीय सीटों के लिए हो रहे इस चुनाव में हजारों की संख्या में उम्मीदवारों ने अपने नामांकन भरे हैं। इन उम्मीदवारों में से कुछ के पास बिल्कुल न के बराबर संपत्ति है तो वहीं, कई उम्मीदवार अरबपति हैं। इसी क्रम में तेलंगाना की चेवेल्ला लोकसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी ने अपनी पारिवारिक संपत्ति की घोषणा की है। के विश्वेश्वर रेड्डी के पास कुल 4568 करोड़ रुपये की पारिवारिक संपत्ति है। 

पत्नी और बेटे के नाम पर भी संपत्ति

कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी ने सोमवार को चेवेल्ला लोकसभा क्षेत्र के लिए अपना नामांकन दाखिल किया और चुनावी हलफनामे में अपनी चल और अचल संपत्तियों का खुलासा किया है। रेड्डी के हलफनामे के अनुसार, उनके पास 1250 करोड़ रुपये की संपत्ति है जबकि उनकी पत्नी संगीता रेड्डी के पास 3209.41 करोड़ की संपत्ति है और बाकी संपत्ति उनके बेटे के नाम है।

क्या है संपत्ति का आधार?

कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी ने अपने हलफनामे में बताया है कि उनके पास अपोलो हॉस्पिटल एंटरप्राइजेज लिमिटेड के 17.77 लाख शेयर हैं। इन शेयर्स की कीमत 6170 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से 973.22 करोड़ रुपये है। वहीं, उनकी पत्नी संगीता रेड्डी के पास 1500.85 करोड़ रुपये के 24.32 लाख शेयर हैं। संगीता रेड्डी अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप की संयुक्त प्रबंध निदेशक हैं जो कि उनके पिता डॉ सी प्रताप रेड्डी द्वारा स्थापित किया गया था। 

बीआरएस और कांग्रेस में भी रहे हैं कोंडा

कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी ने मद्रास विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की पढ़ाई पूरी की और अमेरिका में एमएस की पढ़ाई की है। रेड्डी ने अपना राजनीतिक करियर चंद्रशेखर राव की बीआरएस (पूर्व में टीआरएस) से शुरू किया था। वह चेवेल्ला सीट से सांसद भी बने थे। हालांकि, बाद में वह कांग्रेस में शामिल हो गए और 2019 में लोकसभा का चुनाव लड़ा। इस चुनाव में उन्हें हार मिली। इसके बाद वह भाजपा में शामिल हो गए। (इनपुट: भाषा)

ये भी पढ़ें- तेलंगाना में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार से लोगों का भरोसा उठ गया है: KTR


पीएम मोदी ने 'मुसलमानों' को लेकर कांग्रेस पर क्यों कसा तंज? कांग्रेस पार्टी के इस ट्रैक रिकॉर्ड में ही छिपा है इसका जवाब

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement