1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. Akshaya Tritiya 2019: जानें कब है अक्षय तृतीया, साथ ही जानिए सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Akshaya Tritiya 2019: जानें कब है अक्षय तृतीया, साथ ही जानिए सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Akshaya Tritiya 2019: हिंदू शास्त्र के अनुसार वैशाख महीने का काफी महत्व माना जाता है। इस महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया कहा जाता है। जानें इस त्योहार के बारें में सबकुछ।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: May 01, 2019 13:16 IST
Akshay tritiya 2019- India TV Hindi
Akshay tritiya 2019

Akshaya Tritiya 2019: हिंदू शास्त्र के अनुसार वैशाख महीने का काफी महत्‍व माना जाता है। इस महीने की शुक्‍ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया कहा जाता है। जो कि हिंदू धर्म में बहुत ही खास माना जाता है। इस साल अक्षय तृतीया 7 मई को पड़ रही है। जानें इस दिन का शुभ मुहूर्त के साथ पूजा विधि और सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त।

अक्षय तृतीया पूजा और सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त

तिथि: 7 मई 2019, मंगलवार के दिन अक्षय तृतीया मनाई जाएगी.
पूजा का शुभ मुहूर्त: सुबह 5.40 बजे से दोपहर 12.17 बजे तक.
सोना खरीदने का मुहूर्त: सुबह 6.26 बजे से लेकर रात 11.47 बजे तक

अक्षय तृतीया पूजा विधि
अक्षय तृतीया सर्वसिद्ध मुहूर्तों में से एक मुहूर्त है। इस दिन भक्तजन भगवान विष्णु की आराधना में लीन होते हैं। स्त्रियां अपने और परिवार की समृद्धि के लिए व्रत रखती हैं। ब्रह्म मुहूर्त में गंगा स्नान करके श्री विष्णुजी और मां लक्ष्मी की प्रतिमा पर अक्षत चढ़ाना चाहिए।

ये भी पढ़ें- घर में कीजिए ये 5 मामूली बदलाव, कभी दूर नहीं जाएगी दौलत और समृद्धि

शांत चित्त से उनकी श्वेत कमल के पुष्प या श्वेत गुलाब, धुप-अगरबत्ती एवं चन्दन इत्यादि से पूजा अर्चना करनी चाहिए। नैवेद्य के रूप में जौ, गेंहू, या सत्तू, ककड़ी, चने की दाल आदि का चढ़ावा करें।

इसी दिन ब्राह्मणों को भोजन करवाएं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। साथ ही फल-फूल, बर्तन, वस्त्र, गौ, भूमि, जल से भरे घड़े, कुल्हड़, पंखे, खड़ाऊं, चावल, नमक, घी, खरबूजा, चीनी, साग, आदि दान करना पुण्यकारी माना जाता है।

ये भी पढ़ें- अगर किसी लड़की या स्त्री के हथेली में दिखें ये चिन्ह, तो समझ लें कि वह है बहुत ही ज्यादा भाग्यशाली

इस दिन लक्ष्मी नारायण की पूजा सफेद कमल अथवा सफेद गुलाब या पीले गुलाब से करना चाहिये।
''सर्वत्र शुक्ल पुष्पाणि प्रशस्तानि सदार्चने।
दानकाले च सर्वत्र मंत्र मेत मुदीरयेत्॥''

अर्थात् सभी महीनों की तृतीया में सफेद पुष्प से किया गया पूजन प्रशंसनीय माना गया है।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment
X