1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. राजस्थान
  4. उदयपुर हत्याकांड के बाद पूरे राजस्थान में इंटरनेट बंद, धारा 144 लागू, जानें बड़े अपडेट

Udaipur Murder: उदयपुर हत्याकांड के बाद पूरे राजस्थान में इंटरनेट बंद, धारा 144 लागू, जानें बड़े अपडेट

राजस्थान के उदयपुर जिले के धानमंडी थानाक्षेत्र में एक शख्स कन्हैयालाल की दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या कर दी गई। इस वारदात का वीडियो भी सामने आया है। वहीं, पुलिस ने वारदात में शामिल दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

Khushbu Rawal Written by: Khushbu Rawal @khushburawal2
Updated on: June 29, 2022 6:46 IST
Udaipur- India TV Hindi News
Image Source : PTI Udaipur

Highlights

  • उदयपुर की घटना को लेकर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय बैठक
  • प्रदेशभर में आगामी 24 घण्टे बंद रहेगा इंटरनेट, धारा 144 होगी लागू
  • घटना का वीडियो प्रसारित करने पर होगी सख्त कार्रवाई

Udaipur Murder: उदयपुर में दिन दहाड़े गर्दन काटकर कन्हैयालाल की हत्या करने वाले दोनों आरोपी मोहम्मद रियाज़ और गौस मोहम्मद अब पुलिस की गिरफ्त में है। इस वक्त राजस्थान में हालात काफी तनावपूर्ण है। संवेदनशील इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। उदयपुर की घटना पर सियासत भी काफी तेज़ हो गई है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत देश में तनाव का ताना मारकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेर रहे हैं। गहलोत सरकार की तुलना बीजेपी अब तालिबानी राज से कर रही है।

अगले 1 महीने तक सभी जिलों में धारा 144 लागू

उदयपुर में युवक की निर्मम हत्या की घटना के बाद मुख्य सचिव श्रीमती उषा शर्मा ने मंगलवार शाम उच्च स्तरीय बैठक लेकर सभी संभागीय आयुक्तों, पुलिस महानिरीक्षकों एवं जिला कलेक्टरों को प्रदेशभर में विशेष सतर्कता और चौकसी बरतने के निर्देश दिए हैं। ​मुख्य सचिव ने कानून-व्यवस्था बनाए रखने की दृष्टि से प्रदेशभर में आगामी 24 घण्टे के लिए इंटरनेट बंद किए जाने, सभी जिलों में आगामी एक महीने तक धारा 144 लागू कर चार लोगों से अधिक के एकत्रित होने पर रोक लगाने, पुलिस एवं प्रशासन के सभी अधिकारियों के अवकाश निरस्त करने, शांति समिति की बैठकें आयोजित करने और उदयपुर जिले में आवश्यकतानुसार कर्फ्यू लगाये जाने के निर्देश दिए हैं।

घटना का वीडियो प्रसारित करने पर होगी सख्त कार्रवाई
उन्होंने सभी प्रभारी अतिरिक्त पुलिस महानिदेशकों को रेंज में भेजने के निर्देश दिए है। मुख्य सचिव ने सभी संभागीय आयुक्त को निर्देश दिए हैं कि उदयपुर की घटना के वीडियो के मोबाइल और अन्य माध्यमों से प्रसार पर सख्ती से रोक लगाई जाए। साथ ही वीडियो को प्रसारित करने वाले लोगों पर नियमानुसार कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि धर्म गुरुओं से अपील की जाए कि वे साम्प्रदायिक सौहार्द एवं शान्ति बनाये रखने में सहयोग करें।

अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह श्री अभय कुमार ने कहा कि सभी जिलों में पूरी सतर्कता और संवेदनशीलता के साथ स्थिति पर नजर रखी जाए। पुलिस एवं प्रशासन के सभी अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में कानून व्यवस्था को लेकर निरंतर मॉनिटरिंग सुनिश्चित करें।

वारदात में शामिल दोनों आरोपी गिरफ्तार
बता दें कि राजस्थान के उदयपुर जिले के धानमंडी थानाक्षेत्र में एक शख्स कन्हैयालाल की दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या कर दी गई। इस वारदात का वीडियो भी सामने आया है। वहीं, पुलिस ने वारदात में शामिल दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, रियाज और गौस को पुलिस ने राजसमंद जिले से गिरफ्तार किया है। रियाज अख्तारी और मोहम्मद गौस नाम के आरोपी कन्हैयालाल की दुकान पर कपड़े सिलवाने के बहाने आए थे और मौका मिलते ही उनकी हत्या कर दी। आरोपियों ने घटना का पूरा वीडियो भी बनाया। एक अन्य वीडियो में आरोपियों ने बताया कि उन्होंने इस मर्डर की प्लानिंग 17 जून को ही कर ली थी।

कांग्रेस नेताओं की आई प्रतिक्रिया, जानें क्या कहा
घटना को लेकर जहां हिंदू संगठनों ने प्रदर्शन किया, वहीं सभी दल के नेता भी इस घटना की निंदा करते हुए अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे हैं। इस बीच, घटना पर कांग्रेस के शीर्ष नेताओं का रिएक्शन आया है। कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने घटना पर ट्वीट करते हुए लिखा कि अखलाक और पहलू खान यह सब नफरत के शिकार हुए। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, "उदयपुर में हुई जघन्य हत्या से मैं बेहद स्तब्ध हूं। धर्म के नाम पर बर्बरता बर्दाश्त नहीं की जा सकती। इस कदर हैवानियत से आतंक फैलाने वालों को तुरंत सख़्त सज़ा मिले।" राहुल गांधी ने यह भी कहा, "हम सभी को साथ मिलकर नफरत को हराना है। मेरी सभी से अपील है, कृपया शांति और भाईचारा बनाए रखें।"

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रिंयका गांधी वाड्रा ने भी इस घटना की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट किया, "उदयपुर में घटी हिंसक घटना की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है। दोषियों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए। धर्म के नाम पर नफरत, घृणा व हिंसा फैलाने वाले मंसूबे हमारे देश व समाज के लिए घातक हैं। हमें मिलकर शांति व अहिंसा के प्रयासों को मजबूत करना होगा।"

>independence-day-2022