Saturday, May 18, 2024
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024: आखिर क्यों फंसा है यूपी इन दो सीटों पर पेंच, कौन होगा उम्मीदवार?

यूपी की दो लोकसभा सीटों, रायबरेली और कैसरगंज के लिए अभी तक तमाम राजनीतिक दलों ने अपने उम्मीदवारों के नाम घोषित नहीं किए हैं। आखिर क्यों फंसा है इन दो सीटों पर पेंच?

Edited By: Kajal Kumari @lallkajal
Published on: April 17, 2024 8:21 IST
kaisarganj and Raebareli- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO बृजभूषण शरण सिंह

यूपी के दो प्रमुख जिलों कैसरगंज और रायबरेली के लोग लोकसभा चुनाव के लिए अपने क्षेत्र के उम्मीदवारों के नाम का इंतजार कर रहे हैं लेकिन प्रमुख राजनीतिक पार्टियों ने तो इन दोनों सीटों पर उम्मीदवारों के नाम का अबतक ऐलान नहीं किया है। इसकी वजह एक ही दिख रही है- कैसरगंज हाई-प्रोफाइल सीट है जहां हाई प्रोफाइल नेता भी हैं जिनकी चर्चा ज्यादा रही है और वो हैं बृजभूषण शरण सिंह। बता दें कि यूपी की 80 सीटों पर सात चरणों में मतदान होना है और रायबरेली और कैसरगंज में 20 मई को वोट डाले जाएंगे, जिसके लिए उम्मीदवारों के नामांकन की तारीख तीन मई है। 

रायबरेली में क्यों फंसा हैं पेंच

रायबरेली जो कांग्रेस की पारंपरिक सीट रही है और इसी सीट से पार्टी पूर्व प्रमुख सोनिया गांधी ने 2014 और 2019 में  भाजपा की लहर होने के बीच भी चुनाव जीता था, लेकिन इस बार कांग्रेस इस सीट के लिए अपने उत्तराधिकारी को चुनने का इंतजार कर रही है। 77 वर्षीय सोनिया गांधी को कांग्रेस ने पिछले महीने राज्यसभा का सदस्य बनाया है और उसके बाद ऐसी अटकलें हैं कि उनके परिवार का ही कोई सदस्य इस सीट से चुनाव लड़ेगा जो 1999 से ही कांग्रेस के पास है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मनीष हिंदवी ने कहा, ''कांग्रेस आलाकमान इस मुद्दे पर उचित समय पर फैसला करेगा। हालांकि, पार्टी ने वहां चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है।

कैसरगंज में बृजभूषण शरण सिंह हैं वजह?

कैसरगंज में माहौल उम्मीद का नहीं बल्कि चिंता का है। निवर्तमान भाजपा नेता बृज भूषण शरण सिंह इस सीट से विधायक हैं और वे पिछले दो साल से भारत के कुछ शीर्ष पहलवानों द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोपों में फंसे हुए हैं। हालांकि ये भी कहा जा रहा है कि एक खेल प्रशासक के रूप में उन्होंने अपनी चमक खो दी है, फिर भी 2019 में 260,000 वोटों से जीती गई सीट पर उनका काफी प्रभाव है।

उम्मीदवार घोषित करने में हो रही देरी से बेफिक्र, बृजभूषण शरण सिंह कैसरगंज में एक लंबे काफिले के साथ चुनावी मैदान में उतरे हैं, जिसने पैनल की अनुमति के बिना, 20-25 के काफिले के साथ एक अभियान जुलूस निकालने के लिए चुनाव आयोग की नाराजगी भी झेली है। आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में 13 अप्रैल को उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

इस वजह से फंसा है कैसरगंज में पेंच

कहा जा रहा है कि छह बार के इस सांसद के समाजवादी पार्टी के साथ भी अच्छे संबंध हैं, जिसके प्रमुख अखिलेश यादव ने भी बृजभूषण शरण सिंह पर टिप्पणी करने से परहेज किया था, जबकि यह विवाद राष्ट्रीय सुर्खियों में छाया हुआ था। अविश्वास प्रस्ताव पर लोकसभा में क्रॉस वोटिंग करने पर भाजपा द्वारा उन्हें निष्कासित किए जाने के बाद सिंह 2008 में सपा में शामिल हो गए। 2014 के आम चुनाव से पहले वह फिर से बीजेपी में शामिल हो गए थे।.अब भाजपा दुविधा में है। वह न तो खुद को बृजभूषण से दूर कर पा रही है और न ही उन्हें कैसरगंज चुनावी लड़ाई में अपने साथ ले जा पा रही है।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें उत्तर प्रदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement