पाकिस्तान ने अमेरिका के साथ मिलकर आखिर वो कौन सा काम किया, जिससे भड़का तालिबान? मुल्ला उमर के बेटे ने दी खुली धमकी

Pakistan Taliban: पाकिस्तान और तालिबान के रिश्ते इन दिनों ठीक नहीं चल रहे हैं। अमेरिका ने काबुल में छिपे अल जवाहिरी को अपने रीपर ड्रोन की मदद से मार गिराया था। इसके लिए हेलफायर मिसाइल का इस्तेमाल हुआ। उस वक्त जवाहिरी तालिबान के गृह मंत्री शिराजुद्दीन हक्कानी के संरक्षण में यहां रह रहा था।

Shilpa Written By: Shilpa
Updated on: August 29, 2022 18:17 IST
mulla yaqoob- India TV Hindi News
Image Source : TWITTER mulla yaqoob

Highlights

  • बिगड़ रहे तालिबान पाकिस्तान के रिश्ते
  • मुल्ला याकूब ने पाकिस्तान को दी धमकी
  • पाकिस्तान ने अमेरिका की हमले में की थी मदद

Pakistan Taliban: जहां इमरान खान के कार्यकाल में अमेरिका से दुश्मनी लेना पाकिस्तान को भारी पड़ा, तो वहीं अब शहबाज शरीफ की वर्तमान सरकार रिश्ते सुधारने में लगी हुई है। जिससे इतना तो साफ है कि अमेरिका की मदद के बिना पाकिस्तान की रोजी रोटी चल पाना मुश्किल है। अब खबर आई है कि अफगानिस्तान में तालिबान के रक्षा मंत्री और मुल्ला उमर के बेटे मुल्ला याकूब ने पाकिस्तान सरकार को खुली धमकी दी है। क्योंकि पाकिस्तान की मदद से ही अफगानिस्तान में ड्रोन हमला संभव हो पाया है। जिसमें अल कायदा का प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी मारा गया। जवाहिरी को काबुल में एक घर की खिड़की पर मिसाइल छोड़कर मारा गया है।

इस हमले से आहत तालिबान अब पाकिस्तान पर निशाना साध रहा है। मुल्ला याकूब का कहना है कि उनके खुफिया सिस्टम ने बताया है कि अमेरिका का ड्रोन अफगानिस्तान में पाकिस्तान के रास्ते से दाखिल हुआ था। उसने कहा कि जब अमेरिकी सेना यहां से गई थी तब उन्होंने देश के रडार सिस्टम को तबाह कर दिया था। हालांकि उनके खुफिया सिस्टम ने उनसे कहा है कि अमेरिका का ड्रोन पाकिस्तान के रास्ते से ही उनके देश अफगानिस्तान में दाखिल हुआ था। याकूब ने कहा, 'हम पाकिस्तान से मांग करते हैं कि अमेरिकी ड्रोन के लिए अपने हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल की अनुमति न दे।' तालिबान के रक्षा मंत्री का ये बयान ऐसे वक्त पर सामने आया है, जब पाकिस्तान लगातार इस बात को खारिज कर रहा है कि उसने अमेरिकी ड्रोन को अपना हवाई क्षेत्र इस्तेमाल करने दिया है।

ठीक नहीं चल रहे पाकिस्तान-तालिबान के रिश्ते

पाकिस्तान और तालिबान के रिश्ते इन दिनों ठीक नहीं चल रहे हैं। अमेरिका ने काबुल में छिपे अल जवाहिरी को अपने रीपर ड्रोन की मदद से मार गिराया था। इसके लिए हेलफायर मिसाइल का इस्तेमाल हुआ। उस वक्त जवाहिरी तालिबान के गृह मंत्री शिराजुद्दीन हक्कानी के संरक्षण में यहां रह रहा था। ऐसा कहा जा रहा है कि अमेरिका के हमले में हक्कानी के कई रिश्तेदार भी मारे गए हैं। तभी से तालिबान में नेतृत्व को लेकर काफी तनाव चल रहा है। ये भी कहा जा रहा है कि मुल्ला याकूब और अमेरिका ने मिलकर जवाहिरी को मारा है।

तालिबान का निशाना बन रही पाकिस्तान सरकार

हालांकि बाद में हक्कानी और याकूब की साथ में एक तस्वीर भी सामने आई थी। अब पाकिस्तान सरकार तालिबान का निशाना बनी हुई है। वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने हाल में ही एक बयान जारी करते हुए कहा है कि अमेरिका के ड्रोन ने उसके हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं किया है। यही वजह है कि पाकिस्तान और तालिबान के रिश्ते काफी बिगड़ गए हैं। कुछ दिनों पहले ही तालिबान और पाकिस्तान सेना के बीच गोलीबारी तक हुई। पाकिस्तान पर आरोप है कि वह अफगानिस्तान में टीटीपी के खिलाफ हमले कर रहा है। टीटीपी यानी तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान का लोकल तालिबान है, जिसके लड़ाके अफगानिस्तान में रहकर पाकिस्तान सेना और नागरिकों को निशाना बना रहे हैं।

Latest World News

navratri-2022