Saturday, May 18, 2024
Advertisement

Explainer: 2014 और 2019 से कितना अलग है बीजेपी का 2024 का 'संकल्प पत्र', जानें डिटेल्स

Lok Sabha Elections 2024: भारतीय जनता पार्टी ने आज अपना चुनाव घोषणा पत्र जारी कर दिया है। बीजेपी ने इस बार अपने चुनाव घोषणा पत्र के दस्तावेज का नाम 'मोदी की गारंटी' रखा है।

Edited By: Niraj Kumar @nirajkavikumar1
Published on: April 14, 2024 14:20 IST
BJP manifesto- India TV Hindi
Image Source : BJP बीजेपी का घोषणा पत्र

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव 2024 के लिए भारतीय जनता पार्टी ने अपना चुनाव घोषणा पत्र जारी कर दिया। दिल्ली स्थित बीजेपी हेडक्वॉर्टर में तमाम वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने इसे जारी किया। इस घोषणा पत्र के दस्तावेज का नाम मोदी की गारंटी रखा गया है। पार्टी का यह संकल्प पत्र 76 पेज का है। इस अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि घोषणा-पत्र समिति को करीब 15 लाख सुझाव मिले। नमो ऐप से चार लाख और वीडियो से 10 लाख सुझाव मिले। सब पर विचार के बाद पार्टी ने इस संकल्प पत्र को अंतिम रूप दिया।

गरीबों, युवाओं, किसानों और महिलाओं के सशक्तीकरण पर केंद्रित इस घोषणापत्र में इस बात पर जोर दिया गया है कि जब दुनिया अनिश्चितता के दौर से गुजर रही है तो भारत में पूर्ण बहुमत वाली स्थिर सरकार की जरूरत है। पीएम मोदी ने चार व्यापक समूहों - गरीब, युवा, अन्नदाता (किसान) और नारी शक्ति के प्रतिनिधियों को चुनाव घोषणापत्र की कॉपी सौंपीं। पीएम मोदी ने कहा कि यह संकल्प पत्र विकसित भारत के चार मजबूत स्तंभ - युवा शक्ति, नारी शक्ति, गरीब और किसान, इन सभी को सशक्त करता है। बीजेपी ने 70 वर्ष की आयु से ऊपर के हर बुजुर्ग को आयुष्मान योजना के दायरे में लाने और  उन्हें 5 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज की सुविधा देने का वादा किया है। वहीं मुफ्त राशन की योजना आने वाले पांच साल तक जारी रहेगी। इस लेख में 2014, 2019 और 2024 में जारी घोषणा पत्र के अहम बिंदुओं पर प्रकाश डालें और ये जानने की कोशिश करेंगे बीजेपी यह संकल्प पत्र 2014 और 2019 से कितना अलग है।

2014 का चुनाव घोषणा पत्र

भारतीय जनता पार्टी ने 2014 का चुनाव घोषणा पत्र एक भारत श्रेष्ठ भारत के साथ जारी किया था।  सबका साथ और सबका विकास का नारा भी दिया गया था।बीजेपी ने हर राज्य में एम्स, हर गांव में इंटरनेट और बुलेट ट्रेन के जाल फैलाने का वादा किया था। इस घोषणा पत्र में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण, जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने और समान नागरिक संहिता जैसे मुद्दे भी शामिल किए गए थे कुल 52 पन्नों का दस्तावेज जारी किया था.. घोषणा पत्र के लिए 17 सदस्यीय समिति बनाई। एक लाख सुझाव ग्रामीण इलाकों से आए। यह घोषणा पत्र मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में तैयार किया गया था।

2014 के घोषणा पत्र की खास बातें

  1. महंगाई- महंगाई को कम करने का पूरा प्रयास किया जाएगा। कालाबाजारी और जमाखोरी के मामलों के लिए विशेष आदालतें बनाई जाएंगी
  2. कालाधन-भ्रष्टाचार : सरकार गठन के बाद भ्रष्टाचार की गुंजाइश को खत्म करके ऐसी स्थिति पैदा की जाएगी ताकि कालाधन इस सिस्टम में पैदा नहीं हो सके। विदेशी बैंकों में जमा कालेधन का पता लगाने और उसे वापस लाने का हरसंभव प्रयास किया जाएग।
  3. समान नागरिक संहिता-समान नागरिक संहिता को लेकर पार्टी ने इसे लागू करने का वादा किया है। बबीजेपी का मानना है कि जब तक भारत में समान नागरिक संहिता को लागू नहीं किया जाता है तब तक लैंगिंक समानता कायम नहीं हो सकती।
  4. धारा 370: बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में साफ तौर पर कहा है कि वह जम्मू-कश्मीर को विशेषराज्य का दर्जा देनेवाली धारा 370 को हटाने के दृष्टिकोण पर कायम है। साथ ही कश्मीरी पंडितों की कश्मीर में वापसी का संकल्प भी व्यक्त किया है।
  5. खाद्य सुरक्षा-बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में कह कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि इस योजना का लाभ आम आदमी तक पहुंचे। पार्टी इसके लिए पूरा प्रयास करेगी।
  6. महिला सशक्तिकरण- बीजेपी ने घोषणा पत्र में महिला सशक्तिकरण पर भी जोर दिया है। पार्टी ने कहा कि महिलाओं के लिए पहले चल रही योजनाओं की अच्छी बातों को शामिल करके एक व्यापक योजना बनाई जाएगी ताकि बेटियों के प्रति परिवार में सकारात्मक प्रवृति को बढ़ावा मिले। 
  7. राम मंदिर निर्माण-बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में राम मंदिर निर्माण का भी वादा किया है। 
  8. बुलेट ट्रेन-सत्ता में आने पर बीजेपी ने बुलेट ट्रेनों का जाल बिछाने का भी जिक्र घोषण पत्र में किया है।
  9. किसान: बीजेपी ने घोषणापत्र में कहा है कि सरकार में आने पर वह किसानों को लागत मूल्य से 50 फीसदी अधिक दिलाने का प्रयास करेगी। हर गांव में पाइप से जल पहुंचाने का वादा।

2019 का चुनाव घोषणा पत्र 

2019 में भाजपा ने संकल्प पत्र के नाम से अपने चुनावी वादों की पोटली खोली थी। इस संकल्प पत्र के किसानों, व्यापारियों और मध्यम वर्ग को साधन की कोशिश की गई। बीजेपी ने इसमें राम मंदिर, धारा 370 का संकल्प भी व्यक्त किया था। 2022 में आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर 75 लक्ष्य भी तय किए थे। 

2019 के चुनाव घोषणा पत्र की खास बातें

  1. किसान- बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य रखा था। 60 साल की उम्र के बाद सभी छोटे और सीमांत किसानों के लिए पेंशन, भूमि रिकॉर्ड को डिजिटल करने का काम।
  2. युवा और शिक्षा- माध्यमिक स्कूलों को ऑपरेशन डिजिटल बोर्ड के तहत लाने की दिशा में काम। उच्च शिक्षा में एक लाख करोड़ रुपये का निवेश। उत्कृष्ट मैनेजमेंट और इंजीनियरिंग कॉलेजों में सीटें बढ़ाई जाएंगी। 
  3. बुनियादी ढांचा- हर परिवार को पक्का मकान। हर घर में शौचालय। हर नागरिक के लिए बैंक खाता। गरीब ग्रामीण परिवारों को एलपीजी कनेक्शन। स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता। नेशनल हाईवे की लंबाई को दोगुना करना। पाइप से गैस आपूर्ति। हवाई अड्डों की संख्या बढ़ाना।
  4. महिला-तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं के साथ न्याय। महिला कार्यबल की भागीदारी दर बढ़ाने की दिशा में काम।
  5. रेलवे-देश भर में स्मार्ट रेलवे स्टेशनों का निर्माण। रेल पटरियों का ब्रॉड गेज में परिवर्तन और विद्युतिकरण। रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई की सुविधा। फ्रेट कॉरीडोर परियोजा का पूरा करना।
  6. अर्थव्यवस्था-इंफ्रास्ट्रक्चर से जीडीपी की हिस्सादारी बढ़ाने का प्रयास। निर्यात दोगुना करने की दिशा में काम। ईज ऑऱफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में भारत की रैंक और बेहतर करने का लक्ष्य।
  7. सुशासन- हर पांच किमी के दायरे पर बैंकिंग सुविधा। डिजिटल लेने को बढ़ावा देना। सरकारी प्रक्रियाओं को पूरी तरह से डिजिटल बनाने का लक्ष्य। वायु प्रदूषण को कम करने की दिशा में काम
  8. समावेशी विकास-असंगठित क्षेत्र के सभी मजदूरों के लिए बीमा, पेंशन आदि सुनिश्चित करना। सभी बच्चों का टीकाकरण। छोटे दुकानदारों को पीएम श्रमयोगी मानधन योजना में शामिल करना।

2024 के चुनाव घोषणा पत्र की खास बातें

  1. किसान-पीएम फसल योजना को मजबूत करने का संकल्प। समयबद्ध तरीके से 22 फसलों के एमएसपी बढ़ाए जाएंगे। सब्जी उत्पादन और स्टोरेज के लिए नए क्लस्टर। मोटे अनाज (श्री अन्न) वर्ल्ड सुपरफूड के रूप में स्थापित करना। प्राकृतिक खेती और सिंचाई सुविधाओं का विस्तार
  2. वरिष्ठ नागरिक- 70 वर्ष की आयु से अधिक के सभी वरिष्ठ नागरिकों को ‘आयुष्मान भारत’ योजना का लाभ मिलेगा। चाहे कोई अमीर होगा या गरीब सभी को इसका लाभ मिलेगा। इसके साथ ही ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों को भी इसके दायरे में लाया जाएगा।  उन्हें 5 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी। 
  3. मुफ्त राशन-मोदी की गारंटी है कि मुफ्त राशन की योजना आने वाले पांच साल तक जारी रहेगी। हम ये सुनिश्चित करेंगे कि गरीब के भोजन की थाली पोषणयुक्त हो, उसके मन को संतोष देने वाली हो और किफायती हो। 
  4. गरीबों को पक्का घर- बीजेपी ने पांच साल के अंदर तीन करोड़ गरीबों को पक्का घर देगी। दावा है कि बीजेपी सरकार ने गरीबों को 4 करोड़ पक्के घर बनाकर दिए हैं। हम पाइप से सस्ती रसोई गैस घर-घर पहुंचाने के लिए तेजी से काम करेंगे।
  5. महिला- बीजेपी ने तीन करोड़ ग्रामीण महिलाओं को लखपति दीदी बनाने का संकल्प जताया है। महिला SHG को सर्विस क्षेत्र से जोड़ा जाएगा, महिला SHG उत्पादों को ग्राहकों तक पहुंचाया जाएगा। महिलाओं की खेलों में भागीदारी बढ़ाने के लिए काम किया जाएगा।आने वाले 5 वर्ष नारीशक्ति की नई भागीदारी के होंगे। 
  6. रेलवे- हर साल 5,000 किमी नई पटरियां जोड़ी जाएंगी। टिकटों की वेटिंग लिस्ट को कम करने का प्रयास। ट्रेन सुरक्षा प्रणाली कवच का विस्तार। मेट्रो नेटवर्क का विस्तार। आरामदायक लंबी दूरी की यात्रा के लिए वंदे स्लीपर ट्रेन।
  7. वंदे भारत ट्रेन- भाजपा देश के कोने-कोने में वंदे भारत ट्रेनों का भी विस्तार करेगी। देश में वंदे भारत के 3 मॉडल चला करेंगे - स्लीपर, चेयरकार और वंदे भारत मेट्रो। उउत्तर भारत, दक्षिण भारत और पूर्वी भारत में एक-एक बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट के लिए लिए सर्वे का काम भी जल्द शुरू होगा।
  8. फूड प्रोसेसिंग: भाजपा का संकल्प भारत को फूड प्रोसेसिंग हब बनाने का है। इससे वैल्यू एडिशन होगा, किसान का फायदा बढ़ेगा और रोजगार के नए अवसर भी बनेंगे। भारत को Global Nutrition Hub बनाने के लिए बीजेपी श्री अन्न पर बहुत अधिक बल देगी। इससे श्री अन्न पैदा करने वाले 2 करोड़ से ज्यादा छोटे किसानों को विशेष लाभ होगा।
  9. सूर्य घर मुफ्त बिजली योजना- सूर्य घर मुफ्त बिजली योजना के तहत करोड़ों परिवारों का बिजली बिल शून्य करने और बिजली से कमाई के अवसर पैदा करने की दिशा में काम करने का संकल्प।  
  10. धर्म और संस्कृति : धार्मिक और सांस्कृतिक स्थलों के विकास के लिए नई परियोजनाएं शुरू की जाएंगी। भास्तीय पांडुलिपियों का संरक्षण और अध्ययन। भारतीय साहित्यिक रचनाओं का विदेशी भाषाओं में अनुवाद।
  11. समान नागरिक संहिता- बीजेपी का मानना है कि जबतक भारत में समान नागरिक संहिता को अपनाया नहीं जाता है तब तक महिलाओं को समान अधिकार नहीं मिल सकता है। संविधान के अनुच्छेद 44 में समान नागरिक संहिता राज्य नीति के निर्देशक सिद्धांतों के रूप में दर्ज की गई है। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें Explainers सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement