Friday, July 12, 2024
Advertisement

इमरजेंसी के दौरान पीएम मोदी ने दिया था खास भाषण, पढ़ी थी ये कविता, उस दौरान लिखा था यह लेख

आपातकाल के दौरान नरेंद्र मोदी ने विदेश में बैठे व्यक्तियों को प्रकाशन के लिए लेख भेजे और उनसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इन सामग्रियों को प्रकाशित करने का आग्रह किया।

Edited By: Mangal Yadav @MangalyYadav
Updated on: June 25, 2024 10:05 IST
 आपातकाल के दौरान भाषण देते नरेंद्र मोदी- India TV Hindi
Image Source : X@MODIARCHIVE आपातकाल के दौरान भाषण देते नरेंद्र मोदी

नई दिल्लीः देश में आज के ही दिन 25 जून, 1975 आपातकाल लगाया गया था। कांग्रेस के खिलाफ छात्रों के नेतृत्व में आंदोलन पूरे देश में फैल रहा था और गुजरात भी इसका अपवाद नहीं था। 1974 में गुजरात में नवनिर्माण आंदोलन के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने देश में परिवर्तन लाने में छात्रों की आवाज़ की शक्ति को प्रत्यक्ष रूप से देखा। नरेंद्र मोदी उस समय आरएसएस के प्रचारक थे। आरएसएस के युवा प्रचारक के रूप में उन्होंने ऐसा भाषण दिया कि युवा आंदोलन का जोश और बढ़ गया।

नरेंद्र मोदी ने पढ़ी थी एक कविता

नरेंद्र मोदी ने आपातकाल को आपदा में अवसर के रूप में वर्णित किया और लोगों से कहा कि वे लोग सरकार की नाकामियों को जनता के बीच ले जाएं। नरेंद्र मोदी ने भाषण के दौरान एक कविता भी पढ़ी।  

 
पीएम मोदी ने दिया था ये भाषण

जब कर्तव्य ने पुकारा तो कदम कदम बढ़ गये
जब गूंज उठा नारा 'भारत माँ की जय'
तब जीवन का मोह छोड़ प्राण पुष्प चढ़ गये
कदम कदम बढ़ गये

टोलियाँ की टोलियाँ जब चल पड़ी यौवन की
तो चौखट चरमरा गये सिंहासन हिल गये
प्रजातंत्र के पहरेदार सारे भेदभाव तोड़
सारे अभिनिवेश छोड़, मंजिलों पर मिल गये
चुनौती की हर पंक्ति को सब एक साथ पढ़ गये
कदम कदम बढ़ गये

सारा देश बोल उठा जयप्रकाश जिंदाबाद
तो दहल उठे तानाशाह
भृकुटियां तन गई
लाठियाँ बरस पड़ी सीनों पर माथे पर

[नरेंद्र मोदी की निजी डायरी के पन्नों में नवनिर्माण आंदोलन के बारे में एक कविता के अंश]

विरोध प्रदर्शन में भी शामिल हुए थे मोदी

जब आपातकाल लगाया गया था तो उसके खिलाफ नरेंद्र मोदी विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। मोदी और अन्य स्वयंसेवकों ने बैठकें आयोजित की और भूमिगत होकर साहित्य के प्रसार की जिम्मेदारी ली। उस समय उन्होंने नाथ ज़गड़ा और वसंत गजेंद्रगडकर जैसे वरिष्ठ आरएसएस नेताओं के साथ मिलकर काम किया। कड़ी सुरक्षा के कारण सूचना का प्रसार एक चुनौती थी। हालांकि नरेंद्र मोदी ने एक अनोखा समाधान निकाला। उन्होंने संविधान, कानूनों और कांग्रेस सरकार की ज्यादतियों से संबंधित सामग्री को गुजरात से अन्य राज्यों के लिए प्रस्थान करने वाली ट्रेनों में लोड किया। इससे पहचान के कम जोखिम के साथ दूरदराज के स्थानों तक संदेश पहुंचाने में मदद मिली।

आपातकाल को लेकर लेख पत्र पत्रिकाओं में छपवाया

आरएसएस को भूमिगत होने के लिए मजबूर होने के बाद गुजरात लोक संघर्ष समिति की स्थापना की गई। 25 साल की उम्र में वह तीन साल के भीतर तेजी से इसके महासचिव के पद पर आसीन हो गये। अपने लेखों और पत्राचार के माध्यम से, मोदी ने कांग्रेस सरकार के खिलाफ विद्रोह को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यहां तक ​​कि सबसे चुनौतीपूर्ण अवधि के दौरान भी जब प्रमुख आंदोलन नेताओं को एमआईएसए अधिनियम के तहत अन्यायपूर्ण तरीके से गिरफ्तार किया गया था। एक पत्राचार में गुजरात न्यूज़लेटर और साधना पत्रिका जैसे प्रकाशनों के साथ-साथ अन्य भूमिगत साहित्य और प्रिंटों से नरेंद्र मोदी के लेखों की पेपर कटिंग एकत्र करने उन्हें बीबीसी जैसे प्लेटफार्मों पर प्रसारित करने के इरादे से चर्चा हुई थी।

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement