1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. महाराष्ट्र
  4. महाराष्ट्र में सामने आए कोविड-19 के एक दिन में सबसे ज्यादा 47,827 नए मामले, 202 लोगों की मौत

महाराष्ट्र में सामने आए कोविड-19 के एक दिन में सबसे ज्यादा 47,827 नए मामले, 202 लोगों की मौत

महाराष्ट्र में कोरोना मामलों में जबरदस्त उछाल देखने को मिल रहा है। राज्य में शुक्रवार को कोरोना के 47,827 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 29,04,076 हो गई है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: April 02, 2021 22:44 IST
Maharashtra records 47,827 new Covid-19 cases, 202 fatalities- India TV Hindi
Image Source : PTI महाराष्ट्र में कोरोना मामलों में जबरदस्त उछाल देखने को मिल रहा है। 

मुंबई: महाराष्ट्र में कोरोना मामलों में जबरदस्त उछाल देखने को मिल रहा है। राज्य में शुक्रवार को कोरोना के 47,827 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर  29,04,076 हो गई है। वहीं राज्य में कोरोना महामारी की वजह से 202 लोगों ने दम तोड़ दिया। महाराष्ट्र में पिछले केवल 72 घंटों में 1 लाख से अधिक नए संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने बताया कि इससे पहले 1 अप्रैल को प्रदेश में कोविड-19 के 43,183 नए मामले सामने आये थे जो अब तक का एक दिन का सर्वाधिक मामला है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 22 मार्च को संक्रमितों का आंकड़ा 25 लाख को पार कर गया था जबकि 27 मार्च को यह 28 लाख को पार कर गया।

अधिकारी ने बताया कि राज्य में 202 कोरोना मरीजों की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि इसके बाद प्रदेश में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़ कर 55379 हो गई है। विभाग के अनुसार, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले 29,04,076 हो गए हैं, जिनमें से कुल 24,57,494 लोग ठीक हो गए हैं। फिलहाल, राज्य में संक्रमण के कुल 3,89,832 सक्रिय मामले हैं।

इस बीच महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को प्राथमिकता के आधार पर कोविड-19 रोधी टीका लगाया जाना चाहिए और मांग की कि महाराष्ट्र सरकार इस मुद्दे को केंद्र के समक्ष उठाए। उन्होंने कहा कि नए संक्रमितों में 20 से 45 आयु वर्ग के लोग अधिक हैं क्योंकि वे काम करने के लिए बाहर जाते हैं और उनके संक्रमित होने का खतरा अधिक है। 

उन्होंने कहा, "खतरे को देखते हुए, इस आयु वर्ग को प्राथमिकता के आधार पर टीका लगाया जाना चाहिए।" पटोले ने एक अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी नागरिकों को टीका लगाने के कदम का स्वागत किया, लेकिन कहा कि युवा वर्ग में संक्रमण के अधिक प्रसार को देखते हुए, उम्र सीमा को हटा दिया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें

Click Mania
bigg boss 15