Friday, June 14, 2024
Advertisement

बंगाल में चक्रवाती तूफान रेमल का कहर, हवा की रफ्तार 120 किमी प्रतिघंटा, कई स्थानों पर गिरे पेड़

पश्चिम बंगाल में आधी रात के बाद से ही चक्रवाती तूफान रेमल का कहर देखने को मिल रहा है। लैंडफॉल की प्रक्रिया अगले कुछ घंटे में समाप्त हो जाएगी। हालांकि बंगाल में अलग-अलग स्थानों पर पेड़ जड़ों से उखड़े पड़े हैं। बता दें कि इस दौरान भारी बारिश भी देखने को मिल रही है।

Written By: Avinash Rai @RaisahabUp61
Updated on: May 27, 2024 9:17 IST
Cyclone Remal WEST Bengal wind speed reaches 120 km per hour trees fall somewhere and high waves ris- India TV Hindi
Image Source : ANI चक्रवाती तूफान रेमल का कहर

चक्रवाती तूफान "रेमल" का लैंडफॉल पश्चिम बंगाल की तटीय इलाकों में हो चुका है। लैंडफॉल की प्रक्रिया आधी रात शुरू हुई। इस दौरान समुद्र में चक्रवाती तूफान की अधिकतम रफ्तार 135 किमी प्रतिघंटा दर्ज की गई। इसके प्रभाव से पश्चिम बंगाल में खूब बर्बादी देखने को मिल रही है। बता दें कि चक्रवाती तूफान के पश्चिम बंगाल में प्रवेश करने के साथ ही बीरभूम, नदिया, पूर्वी बर्धमान, बांकुड़ा, पूर्वी मेदिनीपुर, उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना, कोलकाता, बिधाननगर के अलग-अलग इलाकों में तेज बारिश शुरू हो गई। बता दें कि पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में तेज बारिश और हवा के कारण हालत खराब है। 

बंगाल में "रेमल" लाई तबाही

अलीपुर मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि चक्रवात रेमल के प्रभाव से दक्षिण बंगाल में हवा की गति 100-120 किमी प्रतिघंटा से अधिक हो जाएगी। बता दें कि चक्रवाती तूफान रेमल के मद्देनजर पीएम नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों संग समीक्षा बैठक की। केंद्रीय गृह मंत्री अमित साह ने केंद्रीय एजेंसियों को युद्ध स्तर पर काम करने का निर्देश दिया है। बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने भी इस बाबत तैयारियों का जायजा लिया है। बता दें कि अगले कुछ घंटे तक चक्रवाती तूफान का कहर जारी रहेगा। पश्चिम बंगाल के अलग-अलग इलाकों में भारी बारिश देखने को मिल रही है। वहीं कई स्थानों पर तेज हवाओं के कारण पेड़ जड़ से उखड़कर जहां-तहां गिरे पड़े हैं। 

टास्क फोर्स का किया गया गठन

चक्रवाती तूफान रेमल के मद्देनजर राज्यपाल डॉ. सीवी आनंद बोस ने कहा कि बंगाल आत्मविश्वास और साहस के साथ इस संकट का सामना करने के लिए तैयार है। यह पहली बार नहीं है कि बंगाल इसी तरह के संकट का सामना कर रहा है। हम निश्चित रूप से आत्मविश्वास से, प्रभावी ढंग से और सक्रिया रूप से इस तूफान का सामना करेंगे। इस बाबत राज्यपाल ने एक टास्क फोर्स का भी गठन किया है। बता दें कि पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में भीषण बारिश और तूफान के कारण कोलकाता की सड़कों पर कई पेड़ गिरे पड़े हैं। बता दें कि तूफान का असर रविवार से लेकर सोमवार तक जारी रहेगा। मौसम विभाग ने कहा कि पूरे दक्षिण बंगाल में सोमवार को तेज हवाएं चलेंगी। इस दौरान भारी बारिश भी देखने को मिलेगी। 

कुछ समय में कमजोर हो जाएगा चक्रवात 'रेमल'

चक्रवाती तूफान रेमल को लेकर आईएमडी ने कहा, चक्रवात रेमल कुछ और समय तक लगभग उत्तर की ओर और फिर उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ता रहेगा और आज सुबह तक धीरे-धीरे कमजोर हो जाएगा। मौसम विभाग ने कहा कि अगले 2 घंटे तक चक्रवाती तूफान रेमल के लैंडफॉल की प्रक्रिया जारी रहेगी। साउथ कोलकाता के DC प्रियाब्रत रॉय ने कहा, "कुछ जगहों पर पेड़ गिरने की सूचना मिली है, जहां से भी खबर मिली है वहां कोलकाता नगर निगम और कोलकाता पुलिस की आपदा प्रबंधन की टीम पहुंच रही है और पेड़ों को हटाने का काम कर रही है। प्रशासन की ओर से पूरी रात स्पेशन कंट्रोल रूम के द्वारा चक्रवात के परिस्थिति की मॉनिटरिंग की जा रही है। नगर निगम का कंट्रोल रूम भी पूरी रात खुला है।"

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें पश्चिम बंगाल सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement