Tuesday, April 16, 2024
Advertisement

पहले ही भाषण में पाकिस्तान के PM की फिसली जुबान, खुद को बता दिया 'विपक्ष का नेता'

पाकिस्तान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने नेशनल असेंबली में अपने संबोधन में खुद को ‘‘विपक्ष का नेता’’ बता दिया। शहबाज को 336 सदस्यीय सदन में 201 वोट मिले। वहीं, शहबाज के प्रतिद्वंद्वी उमर अयूब खान को 92 वोट मिले।

Malaika Imam Edited By: Malaika Imam @MalaikaImam1
Published on: March 03, 2024 21:25 IST
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ - India TV Hindi
Image Source : PTI पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ

पाकिस्तान में शहबाज शरीफ एक बार फिर देश के प्रधानमंत्री चुने गए हैं। उन्हें रविवार को वोटिंग के बाद पीएम चुना गया। उन्हें नेशनल असेंबली में 201 वोट मिले। प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद शहबाज शरीफ ने उन पर विश्वास जताने और उन्हें सदन का नेता बनाने के लिए अपने बड़े भाई नवाज और सभी सहयोगियों का आभार जताया। हालांकि, भाषण की शुरुआत में ही शहबाज शरीफ की जुबान फिसल गई। उन्होंने प्रधानमंत्री की जगह खुद को "विपक्ष का नेता" बता दिया।

अपनी पार्टी के सदस्यों को दिया धन्यवाद

शहबाज शरीफ ने कहा, "मैं अपनी पार्टी के सदस्यों को दिल से धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने वोट देकर मुझे इस सदन में विपक्ष का नेता चुना।" भाषण के दौरान शाहबाज ने कहा, "जब मेरे भाई तीन बार प्रधानमंत्री चुने गए तो देश में जो विकास हुआ, वह अपने आप में एक मिसाल है। यह कहना गलत नहीं है कि नवाज शरीफ ही हैं, जिन्होंने पाकिस्तान को खड़ा किया है। दूसरी तरफ देश जुल्फिकार अली भुट्टो के बलिदानों को भी कभी भूला नहीं जा सकता।"

शहबाज को 201 वोट, प्रतिद्वंद्वी को 92 वोट मिले  

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने अपने भाषण में गाजा में लगातार हो रही बमबारी का जिक्र किया, तो वहीं कश्मीर का भी राग अलापा। इसके साथ ही शाहबाज ने देश में आतंकवाद और उसकी जड़ों को खत्म करने की कसम भी खाई। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) और पीएमएल-एन (PML-N) के संयुक्त उम्मीदवार शहबाज को 336 सदस्यीय सदन में 201 वोट मिले। वहीं, जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के नेता और शहबाज के प्रतिद्वंद्वी उमर अयूब खान को 92 वोट मिले।

इमरान की सरकार गिरने के बाद पीएम बने थे शहबाज 

इससे पहले 2022 में इमरान खान की सरकार गिरने के बाद शहबाज शरीफ देश के प्रधानमंत्री बने थे। 8 फरवरी को चुनाव के बाद नवाज शरीफ की PML-N और बिलावल भुट्‌टो की PPP पार्टी ने बहुमत हासिल करने के लिए गठबंधन किया था। इस गठबंधन ने नवाज शरीफ के छोटे भाई और पूर्व प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था। शहबाज शरीफ ने 2 मार्च को प्रधानमंत्री पद के लिए अपना नामांकन दाखिल किया था। वोटिंग से पहले ही आंकड़े पीएमएल-एन के पक्ष में थे और माना जा रहा था कि शहबाज शरीफ के हाथों में एक बार फिर से देश की कमान आएगी। 

ये भी पढ़ें- 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement