Sunday, May 19, 2024
Advertisement

केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से कोई राहत नहीं, 29 अप्रैल को सुनवाई..तिहाड़ से कैसे होगी रिहाई?

दिल्ली शराब घोटाला मामले में जेल में बंद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट ने राहत नहीं दी। कोर्ट ने इस मामले में ईडी को नोटिस जारी कर 24 अप्रैल तक जवाब देने को कहा है। केजरीवाल की ओर से पेश हुए वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने दावा किया कि केजरीवाल को लोकसभा चुनाव में प्रचार से रोकने के लिए गिरफ्तार किया हैं।

Reported By : Abhay Parashar Edited By : Khushbu Rawal Updated on: April 15, 2024 14:38 IST
kejriwal- India TV Hindi
Image Source : PTI मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

दिल्ली शराब घोटाला मामले में आरोपी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल कोई राहत नहीं दी है। केजरीवाल ने चुनाव प्रचार के लिए रिहा करने की मांग भी की लेकिन फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने ED को नोटिस जारी किया है। ⁠साथ ही मामले की सुनवाई अब 29 अप्रैल को होगी। ⁠जाहिर है इसके चलते फिलहाल तब तक केजरीवाल को जेल में ही रहना होगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अपनी दलीलें सुनवाई के दौरान बहस के लिए बचा को रखें।

बता दें कि केजरीवाल के लिए आज अहम दिन है। हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका पर सुनवाई हुई जिसमें हाईकोर्ट ने केजरीवाल की गिरफ्तारी और रिमांड को सही बताया था। सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल की याचिका पर नोटिस जारी किया है। इसमें ED को 24 अप्रैल से पहले जवाब देने को कहा है। वहीं, दूसरी सुनवाई राउज एवेन्यू कोर्ट में होगी जहां केजरीवाल की न्यायिक हिरासत बढ़ाए जाने पर फैसला होगा। सुनवाई के दौरान केजरीवाल को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से पेश किया जाएगा।

'मेरी गिरफ्तारी लोकतंत्र के सिद्धांतों पर हमला'

अरविंद केजरीवाल ने शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में अपनी गिरफ्तारी और रिमांड को चुनौती दी है जिसपर सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस संजीव खन्ना और दीपांकर दत्ता की बेंच इस मामले में सुनवाई करेगी। सीएम केजरीवाल की ओर से सुप्रीम कोर्ट से मामले में तत्काल हस्तक्षेप की मांग की गई है। केजरीवाल ने अपनी याचिका में कहा गया है कि  ''मेरी गिरफ्तारी निष्पक्ष चुनाव पर आधारित लोकतंत्र के सिद्धांतों पर हमला है। ईडी ने राजनीतिक विरोधियों की स्वतंत्रता पर हमला करने के लिए ऐसा किया है। ईडी के पास ऐसी कोई सामग्री नहीं है जिसके आधार पर पीएमएलए की धारा-19 के तहत अपराध का अनुमान लगाया जा सके। ईडी की ओर से की गई गिरफ्तारी पूरी तरह से सह-अभियुक्तों के विरोधाभासी बयानों के आधार पर की गई है। ये सह-अभियुक्त अब सरकारी गवाह बन गए हैं।''

तिहाड़ में मिले 'AAP' के दो सीएम

वहीं आपको बता दें कि कई दिनों की पड़ताल और मीटिंग के बाद तिहाड़ जेल में केजरीवाल और पंजाब के सीएम भगवंत मान की मुलाकात हो गई है। आज दोपहर 12 बजे भगवंत मान ने तिहाड़ जेल में केजरीवाल से मुलाकात की। इससे पहले केजरीवाल और भगवंत मान की मुलाकात को लेकर शुक्रवार को पंजाब पुलिस के एडीजी और तिहाड़ जेल के अधिकारियों के बीच करीब तीन घंटे तक मीटिंग हुई थी जिसमें मुख्यमंत्री के प्रोटोकॉल, उनकी सुरक्षा और जेल मैनुअल को लेकर चर्चा की  गई थी। भगवंत मान और केजरीवाल की इस मीटिंग के लेकर तिहाड़ जेल में सुरक्षा के खास इंतज़ाम किए गए थे।

'केजरीवाल दिल्ली में चाहते हैं राष्ट्रपति शासन'

दूसरी तरफ, बीजेपी केजरीवाल के इस्तीफे की मांग पर अड़ी हुई है। बीजेपी का आरोप है कि केजरीवाल की जिद की वजह से दिल्ली पर संकट छाया हुआ है। केजरीवाल के जेल से सरकार चलाने को लेकर बीजेपी लगातार विरोध कर रही है। बीजेपी की मांग है कि केजरीवाल तुरंत सीएम पद से इस्तीफा दें.. बीजेपी का आरोप है कि केजरीवाल दिल्ली में राष्ट्रपित शासन लगाना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें-

'केजरीवाल से फेस टू फेस नहीं जंगले से होगी मुलाकात', तिहाड़ प्रशासन पर भड़के संजय सिंह, लगाया ये आरोप

कैदी के वेष में भगवंत मान से मिलेंगे अरविंद केजरीवाल, तिहाड़ जेल प्रशासन ने की पूरी तैयारी

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें दिल्ली सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement