पूर्वी दिल्ली नगर निगम में भिड़े AAP और BJP के पार्षद, फाड़े एक-दूसरे के कपड़े

सदन की बैठक में बीजेपी पार्षदों ने निंदा प्रस्ताव लाया। इन पार्षदों का आरोप था कि दिल्ली विधानसभा में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कश्मीरी पंडितों का मजाक उड़ाया है। केजरीवाल के बयान पर आप के नेता और पार्षदों को माफी मांगनी चाहिए। इस दौरान दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए।

IndiaTV Hindi Desk Written by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: March 30, 2022 22:35 IST
East Delhi Municipal Corporation House- India TV Hindi News
Image Source : TWITTER East Delhi Municipal Corporation House

नई दिल्ली: दिल्ली की तीनों नगर निगमों (MCD) को एक करने का बिल आज लोकसभा से पास हो गया। अब तीनों एमसीडी की जगह सिर्फ एक एमसीडी रह जाएगी। राज्यसभा से बिल पास होने के बाद कानून बन जाएगा। इससे पहले आज शाम पूर्वी दिल्ली नगर निगम (EDMC) में आम आदमी पार्टी और बीजेपी पार्षदों के बीच जमकर झड़प हुई। नगर निगम के दफ्तर के अंदर निगम पार्षद आपस में भिड़ गए और एक दूसरे के कपड़े तक फाड़ने से बाज नहीं आए। निगम दफ्तर में ही दोनों पार्टियों के नेताओं में हाथापाई शुरू हो गई। आम आदमी पार्टी और बीजेपी पार्षदों ने आपस में लात-घूंसे तक तक चलाए।

दरअसल, सदन की बैठक में बीजेपी पार्षदों ने निंदा प्रस्ताव लाया। इन पार्षदों का आरोप था कि दिल्ली विधानसभा में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कश्मीरी पंडितों का मजाक उड़ाया है। केजरीवाल के बयान पर आम आदमी पार्टी के नेता और पार्षदों को माफी मांगनी चाहिए। इस दौरान दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए। आम आदमी पार्टी के पार्षद, सदन के नेता के पास पहुंच गए हंगामा करने लगे। इसी बीच आम आदमी पार्टी और बीजेपी पार्षदों के बीच में जमकर हाथापाई हुई।

वहीं, आपको बता दें कि लोकसभा में नगर निगम एकीकरण बिल पर चर्चा के दौरान विपक्षी पार्टियों ने भारतीय जनता पार्टी पर चुनाव से भागने का आरोप लगाया। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि सरकार को यह बताना चाहिए कि डीलिमिटेशन की प्रक्रिया कब तक पूरी होगी और चुनाव कब आयोजित किए जाएंगे। इसके जवाब में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि चुनाव से हम नहीं डर रहे हैं बल्कि चुनाव से वह लोग डर रहे हैं जो अभी तुरंत चुनाव कराने की मांग कर रहे हैं। इन लोगों को लगता है कि अभी आनन-फानन में चुनाव जीत जाएंगे लेकिन 6 महीने बाद चुनाव हुए तो जीतना मुश्किल है।

गृह मंत्री ने कहा, मैं जिम्मेदारी के साथ कहना चाहता हूं दिल्ली एक सौतेली मां जैसा व्यवहार दिल्ली की तीनों नगर निगमों के साथ कर रही है। इसलिए मैं बिल लेकर आया हूं कि दिल्ली में तीनों नगर निगमों को फिर से एक करके एक ही नगर निगम बनाया जाए। एक ही नगर निगम पूरी दिल्ली की सिविक सेवाओं का ध्यान रखेगा जो कि उचित होगा। नगर निगम पारदर्शिता के साथ चलाया जाए इसके भी प्रावधान इस बिल में किए गए हैं। पार्षदों की संख्या ज्यादा से ज्यादा 250 तक करने का भी इसमें प्रस्ताव है।

गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं आम आदमी पार्टी के अन्य नेता लगातार इस मुद्दे पर हमलावर हैं। आप आदमी पार्टी का कहना है कि एमसीडी चुनाव के डर से भाजपा चुनाव टालने का प्रयास कर रही है। इसके जवाब में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हमें चुनाव से कोई डर नहीं है। अमित शाह ने कहा कि यूपी चुनाव में आम आदमी पार्टी 349 सीटों पर चुनाव लड़ी और सभी पर उसकी जमानत जब्त हो गई। उत्तराखंड चुनाव में 70 में से 68 सीटों पर आम आदमी पार्टी की जमानत जब्त हुई। वहीं गोवा में 39 में से 35 सीटों पर आम आदमी पार्टी की जमानत जब्त हुई है। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि दरअसल सच्चाई यह है कि चुनाव से यह लोग स्वयं डर रहे हैं।

navratri-2022