1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. गुजरात
  4. गुजरात वन विभाग की परीक्षा में कैंडिडेट के पास प्रश्नों के जवाब वाला पत्र बरामद, हिरासत में लिया गया

गुजरात वन विभाग की परीक्षा में कैंडिडेट के पास प्रश्नों के जवाब वाला पत्र बरामद, हिरासत में लिया गया

विपक्षी दल कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने इसे गुजरात सरकार की नाकामी और सोची-समझी साजिश बताया। आप ने कहा कि उसकी युवा ईकाई उचित एवं विस्तृत जांच तथा दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग को लेकर सभी 33 जिलों के जिलाधीशों को एक ज्ञापन सौंपेगी।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: March 27, 2022 23:12 IST
Exam- India TV Hindi
Image Source : REPRESENTATIONAL IMAGE Exam

अहमदाबाद (गुजरात): गुजरात के मेहसाणा जिले में रविवार को एक केंद्र से वन सुरक्षाकर्मी भर्ती परीक्षा में पूछे गए सवालों के जवाब वाला कागज अपने पास रखने के आरोप में एक उम्मीदवार को हिरासत में लिया गया है। गुजरात विश्वविद्यालय ने राज्य वन विभाग की ओर से दोपहर 12 बजे और दो बजे के बीच यह परीक्षा कराई थी। राज्य के शिक्षा मंत्री जीतू वघानी ने कहा कि यह पता लगाने के लिए जांच की जा रही है कि क्या यह परीक्षा प्रश्न पत्र लीक होने का मामला है।

विपक्षी दल कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने इसे गुजरात सरकार की नाकामी और सोची-समझी साजिश बताया। आप ने कहा कि उसकी युवा ईकाई उचित एवं विस्तृत जांच तथा दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग को लेकर सभी 33 जिलों के जिलाधीशों को एक ज्ञापन सौंपेगी। वघानी ने कहा कि उन्हें मिली प्राथमिक सूचना के अनुसार, यह मेहसाणा के उनावा गांव में परीक्षा केंद्र में नकल करने का मामला है और उम्मीदवार के खिलाफ कार्रवाई की गयी है। उन्होंने बताया कि बिना उचित जांच के इसे परीक्षा पत्र लीक होना बताना ‘‘सरकार को बदनाम करने और राज्य के युवाओं को गुमराह करने का संगठित प्रयास’’ है।

उन्होंने कहा, ‘‘गुजरात सरकार परीक्षा पत्र लीक मामलों के खिलाफ तेजी से कार्रवाई करने के लिए हमेशा तैयार है। सरकार यह सुनिश्चित करने के सभी प्रयास कर रही है कि परीक्षा प्रामाणिकता के साथ करायी जाए।’’ एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, उम्मीदवार अपराह्न एक बजकर 45 मिनट और एक बजकर 50 मिनट के बीच शौचालय के लिए गया और जब वह लौटा और उसकी तलाशी ली गयी तो उसके पास एक कागज मिला जिसमें सभी जवाब लिखे हुए थे।

जिला सूचना विभाग द्वारा जारी वक्तव्य के अनुसार, ‘‘प्रथम दृष्टया यह नकल का मामला है और नियम के अनुसार कार्रवाई की गयी है। यह परीक्षा पत्र लीक होने का मामला नहीं लगता है।’’ यह घटना ऐसे वक्त में हुई है जब कुछ महीनों पहले दिसंबर में सरकारी हेड क्लर्क की भर्ती की परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक हो गया था, जिसके बाद कई लोगों को गिरफ्तार किया गया। इसी तरह 2019 में राज्य पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा से जुड़े परीक्षा पत्र लीक मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

आप की युवा ईकाई के अध्यक्ष प्रवीण राम ने कहा, ‘‘भाजपा सरकार में परीक्षा पत्र लीक होना आम बात हो गयी है। अगर राज्य सरकार कोई परीक्षा निष्पक्ष ढंग से नहीं करा सकती तो उसे हमारे जैसे युवाओं को इसकी जिम्मेदारी दे देनी चाहिए। हम बिना किसी घोटाले के परीक्षा के लिए तैयार हैं।’’

कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष दोशी ने कहा कि सरकार राज्य में युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘सरकारी भर्ती में भ्रष्टाचार का करीबी संबंध सत्तारूढ़ भाजपा से है। परीक्षा पत्र लीक मामले सोची-समझी साजिश का हिस्सा हैं।’’

(इनपुट- एजेंसी)