1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. वजन घटाने में कारगर है कच्ची हल्दी की चाय, डायबिटीज रोगियों के लिए भी फायदेमंद

वजन घटाने में कारगर है कच्ची हल्दी की चाय, डायबिटीज रोगियों के लिए भी फायदेमंद

हल्दी का प्रयोग रोज ही खाने में होता है, लेकिन शायद ही आप जानते हों कि इसकी चाय भी बनती है। हल्दी की चाय सेहत के लिए अमृत से कम नहीं है।

India TV Health Desk Written by: India TV Health Desk
Published on: January 22, 2022 15:48 IST
वजन घटाने में कारगर...- India TV Hindi
Image Source : FREEPIK वजन घटाने में कारगर है कच्ची हल्दी की चाय, डायबिटीज रोगियों के लिए भी फायदेमंद

सदियों से हल्दी का इस्तेमाल अच्छे स्वास्थ्य के लिए किया जा रहा है। यह एक आयुर्वेदिक औषधि है, जो शरीर को रोग-मुक्त रखने का काम कर सकती है। हल्दी को कई तरह से यूज किया जा सकता है। हल्दी का प्रयोग रोज ही खाने में होता है, लेकिन शायद ही आप जानते हों कि इसकी चाय भी बनती है। जी हां हल्दी की चाय सेहत के लिए अमृत से कम नहीं है।  कच्ची हल्दी की चाय यदि रोज अपनी डाइट में शामिल कर लिया जाए तो कई गंभीर रोग भी ठीक हो जाते हैं तो चलिए हम आपको बताते हैं हल्दी की चाय पीने के फायदे-

वजन घटाए-

हल्दी में पाए जाने वाले गुण आपकी पाचन क्रिया और मेटाबॉलिज्म के स्तर को बढ़ाकर आपका वजन घटाने में मदद करते हैं। हल्दी आपकी शरीर में या कमर के आस-पास की एक्स्ट्रा चर्बी को भी घटाने में काफी मदद करती है। एक शोध की मानें तो हल्दी को पानी में मिलाकर पीने से भी आप वजन कम कर सकते हैं। 

सूजन को कम करने में असरदार- 
कच्ची हल्दी सूजन को कम करने में जबरदस्त असर दिखाती है। रोज यदि आप कच्ची हल्दी, अदरक और तुलसी की चाय पीएं तो ये आपके शरीर के सूजन, गठिया के दर्द और वाटर रिटेंशन की समस्या को दूर कर सकती है। हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन दर्द और सूजन को कम करने में भी कारगर है।

 कैंसर से बचाव-
कैंसर के जोखिम से बचने के लिए हल्दी की चाय का सेवन किया जा सकता है। इस विषय पर हुए शोध से पता चला है कि हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन ट्यूमर सेल्स को कम करके उसके प्रसार को रोकने में मदद कर सकता है। इसमें एंटीकैंसर गुण मौजूद होते हैं। हल्दी में पाया जाने वाला यह गुण प्रोस्टेट, कोलन, स्तन, अग्नाशय और मस्तिष्क के कैंसर के जोखिम से बचाव कर सकता है।

इम्यूनिटी बढ़ाने में मददगार-

हल्दी की चाय इम्यूनिटी बढ़ा कर शरीर को अंदर से मजबूत करती है। आम बीमारियां ही नहीं गंभीर बीमारी भी इस हल्दी की चाय पीने से दूर रहते हैं।

डायबिटीज में भी फायदेमंद- 
डायबिटीज से ग्रस्त हैं तो आपको कच्ची हल्दी की चाय का सेवन रोज करना चाहिए। ये ब्लड मे ग्लूकोज के लेवल को मेंटेन रखती है और इंसुलीन की मात्रा शरीर में बढ़ाती है। वहीं इसमें एंटी इंफ्लामेटरी और एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो आपके टाइप -2 डायबिटीज को नियंत्रित करने में भी सहायक माने जाते हैं। 

अर्थराइटिस का दर्द ठीक करे-
अगर आप भी अर्थराइटिस के दर्द से परेशान हैं तो हल्दी की चाय का सेवन जरूर करें। हल्दी में करक्यूमिन नामक कंपाउंड पाया जाता है। यह सूजन कम करने में काफी मददगार होते हैं। हल्दी की चाय में यदि आप अदरक की मात्रा डालते हैं तो अदरक के भी एंटी इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो आपके दर्द को कम करने में मदद करते हैं। 

अल्जाइमर से दिलाए छुटकारा-
अल्जाइमर एक याद्दाश्त से जुड़ी समस्या है। इससे राहत पाने के लिए आप हल्दी की चाय का सहारा ले सकते हैं। हालांकि ऐसा कोई प्रमाण तो नही है कि हल्दी का सेवन आपको अल्जाइमर की समस्या से पूरी तरह निजात दिलाता है, लेकिन इसमें पाए जाने वाला करक्यूमिन आपके डिमेंशिया और अल्जाइमर के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। 

हृदय के लिए उपयोगी-
हल्दी का उपयोग हृदय को स्वस्थ रखने में भी सहायक हो सकता है। शोध के अनुसार सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के कारण हार्ट फेल होने का जोखिम बढ़ सकता है। यहां हल्दी की चाय के कुछ हद तक फायदे देखे जा सकते हैं। दरअसल, हल्दी का सबसे महत्वपूर्ण घटक करक्यूमिन में एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होते हैं। ये गुण सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मददगार हो सकते हैं, जिस कारण इसके उपयोग से हृदय रोग के जोखिम को दूर किया जा सकता है। 

बनाने का तरीका-
हल्दी की चाय बनाने के लिए सबसे पहले दो कप पानी उबाल लें। इस पानी में हल्दी की एक इंच लम्बी जड़ डाल दें, अगर आपके पास हल्दी का जड़ उपलब्ध नहीं है तो उसमे एक चम्मच हल्दी का पाउडर मिला दें। इसके बाद इस पानी को 2 से 3 मिनट तक उबलने के लिए छोड़ दें। इसके बाद इस मिश्रण को एक कप में डालकर शहद और काली मिर्च पाउडर मिला लें। इस चाय को रोजाना सुबह नाश्ते से पहले पियें।

Disclaimer: यह जानकारी आयुर्वेदिक नुस्खों के आधार पर लिखी गई है। इंडिया टीवी इनके सफल होने या इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता है। इनके इस्तेमाल से पहले चिकित्सक का परामर्श जरूर लें

erussia-ukraine-news