1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. कोरोना के चलते भारत-बांग्लादेश सीमा बंद होने से गांववालों में मायूसी

कोरोना के चलते भारत-बांग्लादेश सीमा बंद होने से गांववालों में मायूसी

कोविड-19 महामारी के कारण भारत और बांग्लादेश की सीमाएं बंद होने से उस क्षेत्र में रहने वाले सैकड़ों ग्रामीणों की आय में कमी आई है। हालांकि यह मुख्यधारा के मीडिया का ध्यान खींचने में विफल रहा है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: July 22, 2021 22:31 IST
Indo Bangladesh Borders, Indo Bangladesh Borders Covid, Closure Of Indo Bangladesh Borders- India TV Hindi
Image Source : AP REPRESENTATIONAL कोविड-19 महामारी के कारण भारत और बांग्लादेश की सीमाएं बंद होने से उस क्षेत्र में रहने वाले सैकड़ों ग्रामीणों की आय में कमी आई है।

नई दिल्ली: कोविड-19 महामारी के कारण भारत और बांग्लादेश की सीमाएं बंद होने से उस क्षेत्र में रहने वाले सैकड़ों ग्रामीणों की आय में कमी आई है। हालांकि यह मुख्यधारा के मीडिया का ध्यान खींचने में विफल रहा है। अधिकारियों ने कहा कि 'बॉर्डर हाट' का दायरा जल्द से जल्द बढ़ाया जाना चाहिए, जहां आमतौर पर कम दाम के सामान बिकते हैं। सीमा हाट इस समय 4 हैं, त्रिपुरा में 2 और मेघालय में 2, जो मार्च से बंद हैं। दिलचस्प बात यह है कि आर्थिक प्रभाव के अलावा, सीमावर्ती हाट लोगों से लोगों के बीच संपर्क स्थापित करने के लिए एक महत्वपूर्ण मंच के रूप में भी काम करते हैं।

कट्स इंटरनेशनल के एक अध्ययन में कहा गया है कि ऐसे कई उदाहरण हैं, जहां रिश्तेदार सीमावर्ती हाटों पर मिले हैं, क्योंकि ऐसे पुनर्मिलन के लिए वीजा और पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं होती। बांग्लादेश इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज (BIDS) के सीनियर रिसर्च फेलो नाजनीन अहमद ने इंडिया नैरेटिव को बताया, ‘ऐसे समय में जब भारत और बांग्लादेश कनेक्टिविटी को बढ़ावा देना चाह रहे हैं, इसका इस्तेमाल लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने के लिए किया जा सकता है, जो संबंधों को मजबूत करने के लिए जरूरी है।’ भारत और बांग्लादेश के साथ 4000 किमी से अधिक लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पश्चिम बंगाल के अलावा उत्तर पूर्वी क्षेत्र में असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम के साथ फैली हुई है।

कट्स इंटरनेशनल के कार्यकारी निदेशक बिपुल चटर्जी ने बताया, ‘सीमा पर कई स्थानीय निवासी भारत और बांग्लादेश दोनों देशों के लिए मुख्य रूप से अपनी आजीविका के लिए सीमावर्ती हाटों पर निर्भर रहे हैं, लेकिन चूंकि ये कुछ समय से परिचालन में नहीं हैं, इसलिए यह इनमें से कई लोगों के लिए दुख की बात है।’ थिंक टैंक ने द्विपक्षीय व्यापार को निर्देशित करने वाली रूपरेखा को फिर से तैयार करने की आवश्यकता पर भी प्रकाश डाला है। इस समय केवल वे लोग जो सीमाओं के साथ 5 किमी के भीतर रहते हैं, उन्हें इन सीमावर्ती हाट-सूक्ष्म बाजारों में भाग लेने की अनुमति है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
टोक्यो ओलंपिक 2020 कवरेज
X